Breaking News

उ०प्र० :: शर्मनाक : तीन साल पहले मरे ब्यक्ति पर सरोजनी नगर पुलिस ने लगाया गैंगस्टर

लखनऊ,ब्यूरो:राज प्रताप सिंह : सरोजनीनगर पुलिस गैंगस्टर के तहत जिन अभियुक्तों के खिलाफ कार्रवाई की उनमें एक मृतक भी शामिल है जबकि इस्पेक्टर सरोजनीनगर ने अपनी विवेचना में सभी को जीवित ठहराया है और सभी के खिलाफ जिलाधिकारी के यहां गैंगस्टर की कार्रवाई के तहत रिपोर्ट भी भेजी थी जिसमें जिलाधिकारी ने आदेश देते हुए सभी के खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई की अनुमति दे दी।
इससे पता चलता है कि थाने की पुलिस का रवैया किस तरह का है। सरोजनी नगर थाना प्रभारी धर्मेंद्र कुमार शाही ने 27 जनवरी 17 को एक लूट के मामले में वांछित शंकर लाल यादव पुत्र रनवीर सिंह यादव निवासी 187 चंद्रशेखर आजाद विहार कॉलोनी दरोगा खेड़ा, अजय शाह पुत्र शीतल शाह निवासी अतरार थाना औरैया जिला मुजफ्फरपुर बिहार, अनिल कुमार वर्मा पुत्र स्वर्गीय लालजी प्रसाद निवासी 551 क/116 आजाद नगर थाना कृष्णा नगर, बृजेंद्र कुमार दुबे उर्फ गुड्डू पुत्र स्वर्गीय हरिहर प्रसाद दुबे निवासी एस- 437 ट्रांसपोर्ट नगर थाना सरोजनी नगर, राशिद बेग पुत्र मटरू बेग निवासी सरदारी खेड़ा बस अड्डा के सामने थाना आलमबाग, रघुवीर उर्फ कर्नल पुत्र स्वर्गीय उत्तम सिंह निवासी मकान नंबर 50/6 मालवीय नगर ऐशबाग तिकोनी पार्क थाना बाजार खाला, मंगलेश पुत्र रेषमणि निवासी पहाड़पुर थाना टांडा जिला अंबेडकर नगर, राजू जायसवाल पुत्र दरबारी लाल निवासी 551 ख/53 पुराना सरदारी खेड़ा थाना आलमबाग इन सभी आठों अभियुक्तों के खिलाफ थाना प्रभारी सरोजनी नगर धर्मेंद्र कुमार शाही ने 25 सितंबर 17 को जिलाधिकारी के वहां गैंगस्टर के तहत कार्रवाई करने के लिए रिपोर्ट भेजी थी।
इस रिपोर्ट पर जिलाधिकारी ने कार्रवाई करते हुए 21 अक्टूबर 17 को सभी अभियुक्तों पर गैंगस्टर के तहत कार्रवाई करने का आदेश दे दिया। जबकि इसमें राजू जायसवाल पुत्र दरबारी लाल की 30 सितंबर 2014 को मृत्यु हो चुकी है जिसका मृत्यु प्रमाण पत्र नगर निगम द्वारा 14 अक्टूबर 2014 को जारी किया गया था लेकिन फिर भी पुलिस अपनी लापरवाह कार्यशैली का परिचय देते हुए मृतक के ऊपर भी गैंगेस्टर के तहत कार्यवाही करने के लिए जिला अधिकारी के यहां रिपोर्ट भेज दी और मृतक के खिलाफ भी गैंगस्टर के तहत कार्रवाई हो गई।
पुलिस का यह कोई पहला कारनामा नहीं है इस तरह की हरकतों के चर्चे आए दिन होते रहते हैं लेकिन फिर भी जिस तरह योगी सरकार में पुलिस के ऊपर नकेल कसी गई और सही कार्य करने के लिए निर्देशित किया जा रहा है। वहीं पर इतनी बड़ी कार्रवाई मृतक के ऊपर सरोजनीनगर पुलिस द्वारा किए जाने से यूपी पुलिस के उपर एक के बाद एक बदनुमा दाग लगते जा रहे हैं।
इस संबंध में थाना प्रभारी धर्मेंद्र कुमार सिंह से बात की तो उन्होंने बताया कि मृतक राजू जायसवाल का नाम पहले परिचय में हटा दिया गया था यह दूसरा पंचायत इसकी रिपोर्ट आई है जो निराधार है मालूम हो कि पुलिस इस तरह के बयान देकर अपने ऊपर लगे दाग को हरदम बेदाग करने के लिए रवैया अपनाती रहती है लेकिन जब भी जांच हुई तो खाकी पर दाग ही दाग लगे हुए नजर आए जिसमें सरोजिनी नगर पुलिस पर एक यह और भारी बदनुमा दाग वर्तमान में लगा दिखाई दे रहा है।

Check Also

एके-47 के साथ कुख्यात मुन्ना मिश्रा को बिहार एसटीएफ ने दबोचा, 8 साल से फरार दिलीप मिश्रा उर्फ मुन्ना 50 हजार का इनामी

डेस्क : 50 हजार का इनामी कुख्‍यात मुन्‍ना मिश्रा को यूपी के बलिया से बिहार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *