Breaking News

उ.प्र. :: चीन भी समझने लगा है भारत अब कमजोर नहीं रहा- राजनाथ सिंह

लखनऊ (राज प्रताप सिंह) : केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत की सीमाएं पूरी तरह सुरक्षित हैं और पड़ोसी मुल्क चीन भी समझने लगा है कि भारत अब कमजोर नहीं रहा। राजनाथ सिंह ने भारतीय लोधी महासभा के एक कार्यक्रम में डोकलाम विवाद का उल्लेख करते हुए कहा कि चीन से जुड़े विवाद सुलझा लिए गए हैं। उन्होंने कहा, जब से केन्द्र में पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनी, भारत दुनिया का ताकतवर देश बन गया है। अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत की प्रतिष्ठा बढ़ी है।
सिंह ने कहा, पाकिस्तान भारत में आतंकवादी भेजता है। वह भारत को तोड़ने की कोशिश कर रहा है लेकिन हमारे सुरक्षाबल रोज पांच या दस आतंकवादियों को ढेर कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जातीय संगठनों के कार्यक्रमों में शामिल होना वोट बैंक की राजनीति नहीं है। उन्होंने कहा, हम राजनीति केवल वोट के लिए नहीं करते, समाज और देश बनाने के लिए करते हैं।
दो टूक: राजनाथ बोले, कश्मीर का मसला होगा हल, नहीं रोक सकती दुनिया की कोई ताकत
सिंह ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के तुरंत बाद कहा था कि हमारी सरकार हिन्दुस्तान के गरीबों के लिए समर्पित है। इस कड़ी में उन्होंने जनधन योजना, उज्जवला योजना सहित सरकार द्वारा शुरू की गयी विभिन्न योजनाओं का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि स्वच्छता को जन आंदोलन बनाने का काम बीजेपी सरकार ने किया। सिंह ने अति पिछड़ा वर्ग के आरक्षण की चर्चा करते हुए कहा कि पिछड़ा वर्ग आयोग बना लेकिन उसे पंगु बनाकर रखा गया। हम आयोग को संवैधानिक रूप देंगे।
उन्होंने कहा, कांग्रेस सरकार और उसके मंत्रियों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे लेकिन हम सीना ठोककर कह सकते हैं कि पिछले साढ़े तीन वर्ष में हमारे ऊपर कोई उंगली नहीं उठा सकता। किसी पर भी भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा। गृह मंत्री ने कहा, पीएम ने 2022 तक भारत को गरीबी से मुक्ति दिलाने का लक्ष्य रखा है। हम उसे निश्चित समय पर पूरा करेंगे। उन्होंने कहा कि मोदी जी देश के पहले ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने बैंको तक गरीबों की पहुंच आसान की है।

Check Also

महारानी कल्याणी कॉलेज में राष्ट्रीय सेवा योजना दिवस पर कार्यक्रम आयोजित

डेस्क : राष्ट्रीय सेवा योजना के महारानी कल्याणी महाविद्यालय की इकाई में आज राष्ट्रीय सेवा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *