Breaking News

बाल मेले से बच्चों को अपनी प्रतिभा दिखाने को मिलता है मौका !

राजगीर। केन्द्रीय विद्यालय में शनिवार को बाल मेला सह ग्रैंड पैरेंट्स डे मनाया गया। मेले का उद्घाटन आयुध फैक्ट्री के आवास अधिकारी कांति सिंह ने किया। श्रीमति सिंह ने कहा कि इस तरह के मेले से बच्चों में अपने अंदर की छूपी प्रतिभा को निखारने का मौका मिलता है। वे अपनी समझ को कागज पर उकेरते हैं। प्राचार्य रामजी सिंह ने कहा कि बाल मेला से बच्चों में व्याव्सायिक गुणों का विकास करना है। बच्चे इन कार्यक्रमों के माध्यम से सामान खरीद व बिक्री करने के बारे में सीखते हैं। बच्चों के विकास में शिक्षकों के अलावा अभिभावकों का भी अहम रोल होता है। अभिभावक अपने बच्चों पर ध्यान दें। मेला में बच्चों द्वारा तरह-तरह की सामानों व पकवानों का स्टॉल लगाया गया। इससे बच्चे अपनी समझ को बताते हैं। वहीं स्कूल में ग्रैंड पैरेंट्स डे भी धूमधाम से मनाया गया। इसमें बच्चों के अभिभावकों ने भाग लिया। इसमें बच्चों के दादा-दादी और नाना-नानी को आमंत्रित किया गया था। मीडिया प्रभारी आनंद कुमार त्रिपाठी ने बताया कि बच्चों में अपने बड़ों के प्रति सम्मान की भावना और नैतिक गुणों के विकास के लिए इस तरह का कार्यक्रम बहुत जरूरी है। उन्होंने बताया कि बाल मेले में छात्रों ने इडली, गोलगप्पे, चाऊमीन, झालमूड़ी, गुलाबजामुन, रसगुल्ले, चाट, पकौड़ा, समोसा, पीठा, पोपकार्न, फ्रूट सलाद आदि का स्टाल लगाया। इसे आने वाले अभिभावकों ने भी खूब पसंद किया। बच्चे अपनी हुनर को पढ़ाई के साथ इस मेले में उकेर दिए। वहीं बच्चों द्वारा अपने अभिभावकों के सम्मान में स्वागत गान, नाटक, नृत्य की प्रस्तुति की गयी। प्राचार्य रामजी सिंह ने कहा कि केन्द्रीय विद्यालय को मिनी इंडिया कहा जाता है। यहां का बच्चा भारतीय संस्कृति और संस्कार से भरा होता है। इस मौके पर एससी साह, डॉ. वीएन भारती, एके सिंह, संतोष, आरके प्रसाद, आरके सिन्हा, आरती, राखी, वीणा, ऋषिकेश, मृत्युंजय सहित अन्य लोग भी मौजूद थे।

Check Also

मनु महाराज केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर ITBP के नये डीआईजी, 7 IAS और 5 IPS का तबादला संजय सिंह बने स्वास्थ्य विभाग के विशेष सचिव

डेस्क : भारतीय प्रशासनिक सेवा के 7 अधिकारी बदले गए हैं। वहीं दूसरी सेवाओं से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *