Breaking News

बिहार :: छात्र जदयू ने मनाया विजय दिवस

आरिफ हुसैन, बेगूसराय : छात्र जदयू के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को बीएसएस कालेज परिसर में विजय दिवस मनाया। जिसमें कार्यकर्ताओं ने एक दूसरे को रंग गुलाल लगायी और मिठाई भी खिलाई। इससे पहले कार्यकर्ताओं के द्वारा एक विजय जुलूस निकाला गया जो सुभाष चौक से निकल कर पावर हाउस रोड होते हुए एसबीएसएस कालेज के गेट पर जाकर समाप्त हुआ। जहां पर सभा को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष गौरव सिंह राणा ने कहा कि पूरे जिले के छात्र जदयू के कार्यकर्ता 17 नवम्बर को चुनाव आयोग के द्वारा नीतीश कुमार के पक्ष में एवं पुनः फिर से जनता दलयू चुनाव चिन्ह तीर छाप पर अपना फैसला सुनाया है। संगठन के सभी कार्यकर्ता उनके इस फैसले का स्वागत करती है। मौके पर सचिव निरज कुमार, जिला महासचिव जहांगीर आलम, जिला प्रवक्ता नंदन कुमार, मनीष कुमार, राहुल कुमार, रूपेश कुमार, आनंद कुमार, अनुपम, प्रिंस, जितेन्द्र, गोलू, लव, प्रमीत, सौरभ, अमित, पप्पू, अरूण, राजेश, रंजत सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे।
भगवानपुर प्रतिनिधि के अनुसार असली नकली का हिसाब किताब करते हुए चुनाव आयोग ने जदयू नीतीश गुट के पक्ष में फैसला सुनाया और पार्टी का झंडा तथा चुनाव चिह्न पर नीतीश कुमार का ही अधिकार होने की बात कहकर शरद यादव को जोरदार झटका दिया है। जिससे भगवानपुर प्रखंड के जदयू कार्यकर्ता में खुशी का माहौल बना हुआ है। प्रखंड अध्यक्ष डा. सुन्देसर प्रसाद सिंह चुनाव आयोग के फैसले से खुश होकर कहा कि बिहार के विकास पुरूष, जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह बिहार के उर्जावान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही चुनाव चिन्ह के असली हकदार थे और चुनाव आयोग ने भी दूध का दूध पानी का पानी कर दिया है। नीतीश जदयू के संस्थापक रहे हैं, बिहार के विकास के लिए निःस्वार्थ भाव से काम किया है, सात निश्चय, शराब बंदी, बाल विवाह, दहेज प्रथा जैसे विन्दु पर जोर दे कर वे बिहार के विकास के लिए आंधी नही दूसरा महात्मा गांधी बन गए हैं। शरद यादव जैसे नेता अपने स्वार्थ के लिए कुछ भी कर सकते हैं। मौके पर अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे।

Check Also

योगीता फाउंडेशन :: मन, वचन व कर्म में समानता रखने वाले गांधी व शास्त्री ने आत्मनिर्भर समाज का देखा था सपना- मनोज शर्मा

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट दरभंगा : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जीवन दर्शन एवं …

Leave a Reply

Your email address will not be published.