Breaking News

बिहार :: छेड़खानी के खिलाफ आंदोलनरत बीएचयू की छात्राओं के दमन के खिलाफ दरभंगा में प्रतिवाद

दरभंगा (रविकांत) : आइसा, इनौस व ऐपवा के राज्यव्यापी आंदोलन के तहत संयुक्त रूप से ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय चौरंगी पर छेड़खानी के खिलाफ बीएचयू कैंपस में सुरक्षा की मांग कर रही आंदोलनरत छात्राओं पर बर्बर दमन की घटना के खिलाफ बीएचयू कुलपति-योगी का सरदार मोदी का पुतला फूंका गया और प्रतिवाद सभा का आयोजन किया। पुतला दहन का नेतृत्व इनौस नेता केशरी कुमार यादव व आइसा नेता विशाल माझी ने किया। वही सभा की अध्यक्षता प्रिंस कर्ण ने किया।

  • आइसा, इनौस व ऐपवा ने बीएचयू कुलपति,योगी सरकार व मोदी सरकार का पुतला फूंका।

प्रतिवाद सभा को संबोधित करते हुए आइसा राज्य सह- सचिव संदीप कुमार चौधरी ने कहा कि ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ का नारा देने वाली मोदी व योगी सरकार आज बेटियों पर बर्बर दमन पर उतारू है. दरअसल, इन संघियों का यही वास्तविक चरित्र है. जब छात्रायें आजादी मांगती हैं, तो ये औरतों को बदनाम करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ते. छेड़खानी पर रोक लगाने और बीएचयू कैंपस में सुरक्षा की गारंटी की मांग कर रही छात्राओं के साथ बीएचयू प्रशासन जिस प्रकार से पेश आया है, वह बेहद शर्मनाक है. उससे ज्यादा शर्मनाक यह है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बनारस में रहते हुए इन आंदोलनकारी छात्राओं से मिलने तक नहीं गए और उनके जाने के तुरत ही बाद छात्राओं पर बर्बर किस्म के दमन ढाये गये.

वही इनौस के जिला संयोजक गजेन्द्र नारायण शर्मा ने अपने संबोधन में कहा कि छात्रायें अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के गुंडों से परेशान हैं, जो छात्राओं को सरेआम छेड़ते हैं, उनके साथ अभद्रता करते हैं और विश्वविद्यालय प्रशासन तमाशा देखता है. आज जब छात्रायें न्याय की मांग कर रही हैं, तो उसी प्रशासन द्वारा बदचलन और वामपंथी बताकर उत्पीड़ित किया जा रहा है. उन्हें देशद्रोही तक कहा जा रहा है. अपनी सुरक्षा की मांग कर रही छात्राओं से बीएचयू प्रशासन इतने खौफ में क्यों है? यह समझना बहुत कठिन नहीं है. संघी वीसी बीएचयू में संघ गिरोह की पितृसत्तात्मक राजनीति को बनाये रखना चाहते हैं और छात्रायें उसके खिलाफ सड़कों पर है।

ऐपवा की जिला सचिव शनिचरी देवी ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री के चुनाव क्षेत्र में छेड़खानी से परेशान छात्राएं दो दिन से विवि गेट पर धरना-प्रदर्शन कर रही थीं, लेकिन वाइस चांसलर उसे लगातार अनसुना करते रहे और फिर उनका दमन करवाया. यह हाल तब है, जब मोदीजी की सरकार ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ का नारा लगाती है. आज हमें नारा लगाना होगा – मोदी हटाओ, भाजपा भगाओ! भाजपा के हाथों में देश की बेटियों का भविष्य कहीं से भी सुरक्षित नहीं है।

वही आइसा जिला सह संयोजक प्रिंस कुमार कर्ण व इनौस नेता केशरी कुमार यादव ने कहा कि बीएचयू की घटना ने साफ कर दिया है कि बेटियों को आगे बढ़ाने का मोदी सरकार का नारा अन्य नारों-वादों की तरह ही जुमला और खोखला है. बेटियां अपनी लड़ाई खुद लड़ रही हैं और सरकार उनके खिलाफ खड़ी है। आज देश के सभी विश्वविद्यालयों में भाजपा-संघ परिवार के खिलाफ छात्र-छात्राओं का आक्रोश फूट पड़ा है. जेएनयू, डीयू, एचसीयू में भारी पराजय के बाद एबीवीपी गिरोह की गुंडई को बीएचयू कैंपस में अब छात्रायें चुनौती दे रही हैं. आज पूरा नागरिक समाज बीएचयू के पक्ष में खड़ा है. एल एन एम यू विश्वविद्यालय के छात्र बीएचयू के संघर्ष के साथ अपनी एकजुटता जाहिर करते हैं। पुतला दहन में आइसा नेता अफजल अली,मो0 आमिर कैफ,रमण कुमार निराला,मो0 ईशतेयाक अहमद,आशिष कुमार,इनौस के दिनेश यादव,मिथिलेश यादव,मो0 मिनुरूल,ऐपवा नेत्री रशिदा खातुन,पिंकी देवी,ललिता देवी,नुजी देवी,भाकपा(माले) जिला कमिटी सदस्य अशोक पासवान व उमेश साह उपस्थित थे।

Check Also

मनु महाराज केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर ITBP के नये डीआईजी, 7 IAS और 5 IPS का तबादला संजय सिंह बने स्वास्थ्य विभाग के विशेष सचिव

डेस्क : भारतीय प्रशासनिक सेवा के 7 अधिकारी बदले गए हैं। वहीं दूसरी सेवाओं से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *