Breaking News

बिहार :: दहेज प्रथा व बाल विवाह के विरूद्ध अभियान चलाने का लें संकल्प – मंत्री

बेगूसराय (आरिफ हुसैन) : जदयू का जिला कार्यकर्ता सम्मेलन गुरूवार को दिनकर भवन में हुआ। सम्मेलन में कार्यकर्ताओं ने दहेज प्रथा व बाल विवाह के विरूद्ध सशक्त अभियान चलाकर सीएम नीतीश कुमार के समाज सुधार अभियान को सफल बनाने का संकल्प लिया। सम्मेलन को संबोधित करते हुए समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा ने कहा कि जदयू व उसके नेतृत्वकर्ता सीएम नीतीश कुमार राजनीति व राजनीतिज्ञों की चली आ रही परम्पराओं को बदलकर एक ऐसी राजनीतिक परम्परा बनाना चाहते हैं जिसका संबंध सीधे तौर पर आम जनता से हो। इसी के तरह नीतीश जी ने पहले शराबबंदी फिर दहेज प्रथा व बाल विवाह रूपी सामाजिक कलंक के विरूद्ध अभियान की शुरूआत की है। मंत्री ने कहा कि आज कार्यकर्ताओं को संकल्प पूर्वक बाल विवाह व दहेज प्रथा उन्मूलन कार्यक्रम को सफल बनाने को लेकर एकजुट होना चाहिए। सम्मेलन में नेताओं ने कहा कि सामाजिकम सुधार के मुद्दे पर जनमानस तैयार करेगा। शराबबंदी, दहेज प्रथा और बाल विवाह जैसे सामाजिक अभियानों एवं सरकार के ग्रामीण जीवन को सुंदर बनाने के प्रयासों सात निश्चय की योजना पर बल देने के लिए जिला स्तरीय कार्यकर्ता का विशेष महत्व है क्योंकि इसका उद्देश्य सामाजिक सुधार के मुद्दे पर जनमानस तैयार करना है। इसके अलावा संगठन के सम्मेलन के एजेंडे में संगठन का विस्तार, सदस्यता अभियान, बूथ स्तर पर एजेंट बनाना भी प्रमुख मुद्दा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में जदयू ने जहां सुशासन को बढ़ावा मिला है। जबकि आम तौर पर सरकार अपने एजेंडे में लोक कल्याण एवं नागरिक सुविधाओं पर ध्यान नहीं देती है। लेकिन बिहार के मुख्यमंत्री ने सामाजिक सरोकार एवं समाज सुधार से जुड़े मुद्दे पर ध्यान देते हुए राज्य में शराबबंदी, दहेजबंदी और बाल विवाह जैसे ठोस कदम उठाये। राजनीति में भी यदि सामाजिक सुधार को अहमियत दी जाय तो यह सामाजिक बदलाव का बड़ा कदम साबित होगा। राजनीति और समाजनीति कभी न मिलने वाली पटरियों की तरह होती है। लेकिन जदयू ने इस धारणा को बदल दिया है। सरकार में इच्छा शक्ति हो तो समाज सुधार को भी नया आयाम दिया जा सकता है। बाल विवाह और दहेज जैसी कुरीतियां ना केवल बेटियों के सम्मान पर चोट करती है बल्कि उनके सपनों को कुचलकर उसके जीने के अधिकार तक को छीन लेता है। संगठन को सुदृढ़ीकरण, सदस्यता अभियान में तेजी, बूथ स्तर पर पार्टी को मजबूत करना जैसे मुद्दा पर चर्चा हुआ। राजनीति का मकसद केवल चुनाव के जरिए सत्ता हासिल करना नहीं बल्कि उन सभी मुद्दों को मानती है जिसका सरोकार सीधे तौर पर आम जनता से जुड़ती है। पिछले कई वर्षों से राजनीति को एक निश्चित दायरे भर में समेट कर परिभाषित करने की परिपाटी बढ़ी है। इस परिपाटी से बराबर हमारी पार्टी ने असहमति जाहिर की है। हमारी पार्टी, समता, समानता और समृद्धि को मिशन बनाने वाली जदयू अपने विचारों से हमेशा आधुनिक रही है। आधुनिकता का एक मकसद सामाजिक जड़ता को तोड़ना भी है। जदयू परिवार जनकल्याणकारी योजनाओं के साथ-साथ सामाजिक कल्याण को भी अपने भीतर समेटती है। हमने शराबबंदी के जरिये अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसा हासिल की है। अब एक कदम और बढ़ते हुए हम दहेज और बाल विवाह निषेध जैसे सामाजिक अभियानों व सरकार के सुंदर प्रयासों पर बल देने के लिए यह सम्मेलन प्रस्ताव करता है कि जनता दलयू के सभी कार्यकर्ता न दहेज लेंगे और न ही देंगे साथ ही दहेज लेने वालों की शादी में शामिल भी नहीं होंगे तथा दहेज विरोधी कानून की जानकारी से लोगों को अवगत करायेंगे। उन्हें जागरूक करेंगे। हम 18 वर्ष से कम उम्र की लड़कियों और 21 वर्ष से कम उम्र के लड़कों की शादी का वहिष्कार करेंगे तथा बाल विवाह से होने वाले नुकसान की जानकारी को जनजन तक फैलायेंगे तथा बेटी के जन्म पर उसकी सुरक्षा एवं स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए पांच पौधों का रोपन करेंगे तथा बेटी के साथ-साथ उन पौधों का भी रक्षण करेंगे और इसके प्रति समाज के लोगों को जागरूक बनायेंगे। राजनीति प्रस्ताव में जनता दलयू के सभी साथियों के मनोभाव को देखते हुए बेगूसराय जिला जदयू पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से यह प्रस्ताव करती है कि अगले लोकसभा चुनाव में बेगूसराय संसदीय क्षेत्र से जनता दलयू का प्रत्याशी दिया जाय, चूंकि समता पार्टी के समय से ही बेगूसराय संसदीय सीट पर दलीय प्रत्याशी चुनाव लड़ती रही है। जिस समय भाजपा से हमारा गठबंधन टूटा तो उस समय भी जनता दलयू के ही बेगूसराय में सांसद थे। पिछले सभी चुनावों में रिकार्ड के अनुसार बेगूसराय संसदीय सीट पर जनता दलयू का ही दाबा बनता है। मौके पर प्रदेश कोषाध्यक्ष रणवीर कुंदन, अरविंद निषाद, डा. यूनूस हुसैन, रूदल राय, संजय कुमार, भोलाकांत झा, रीना चौधरी, राजेश कुमार सिंह, ब्रजकिशोर मेहता, चन्द्रशेखर वर्मा, शंकर सिंह, रामनंदन पासवान, जितेन्द्र कुमार जीबू, अरविंद पटेल, मुकेश राय, गौरव सिंह राणा, क्रांति कुमारी, लक्ष्मी देवी, शकुंतला गुप्ता, मो. जुल्फकार, मो. नदीम, मो. जाकीर, फैज अहमद, अरूण महतो, सभी प्रखंड व संगठन प्रभारी थी। सम्मेलन का संचालन जिलाध्यक्ष भूमिपाल र

Check Also

WIT दरभंगा बने देश का पहला महिला आईआईटी, वैज्ञानिक डॉ. मानस बिहारी वर्मा को दें सच्ची श्रद्धाजंलि – पुष्पम प्रिया चौधरी

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट : डब्ल्यूआईटी को देश का पहला महिला आईआईटी के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *