Breaking News

बिहार :: पुलिस ‘दमन’ के खिलाफ सीपीआई ने किया डीआईजी ऑफिस का घेराव

रोहतास, डेहरी (रामावतार चौधरी) : पुलिस की दमनकारी नीति व दलित उत्पीड़न के खिलाफ भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी–लेनिनवादी) न्यू डेमोक्रेसी के लोगों ने शुक्रवार को दूसरे दिन भी शाहाबाद डीआईजी कार्यालय का घेराव किया। जहां पार्टी कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन और नारेबाजी की। प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना है कि हाल के दिनों में जिले में दलितों व कमजोर लोगों के खिलाफ हिंसा की घटनाएं बढ़ी हैं। वहीं, यहां की पुलिस सामंतों से मिली हुई है और भ्रष्टाचार में गले तक डूबी है। पार्टी कार्यकर्ताओं का कहना है कि दलित व कमजोर वर्गों के लोगों पर जुल्म ढाया जा रहा है और पुलिस मूकदर्शक बन तमाशा देख रही है।

  • डीआईजी के आश्वासन के बाद हटे प्रदर्शनकारी
  • पॉच सदस्यों का टीम डीआईजी से मिला।

प्रदर्शनकारियों ने प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस द्वारा दोषियों पर कार्रवाई तो दूर थाने में जाने पर इनका केस तक दर्ज नहीं किया जाता हैं। वहीं, सुपरविजन के नाम पर पुलिस अफसरों द्वारा सामंती शक्तियों को दोषमुक्त कर दिया जाता है। इस दौरान रोहतास जिला कमेटी के पार्टी प्रवक्ता अयोध्या राम ने कहा कि नीतीश-भाजपा सरकार में खासकर स्वर्ण सामंती शक्तियों का मनोबल उंचा हुआ है।

इसका ताजा उदाहरण है शिवसागर का, जहां दलित मजूदर के दोनों हाथ-काट दिए गये। वहीं, राजपुर के बलिगांव में एक गरीब के घर में घुसकर दबंगों द्वारा तांडव मचाया गया। ऐसी घटनाएं सामंती बर्चस्व का प्रतीक है। इस बाबत उन्होंने कहा कि जब तक हमारी मांगें पूरी नहीं हो जाती, तब तक हम अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे रहेंगे। वहीं शाहाबाद के डीआईजी मो रहमान ने बताया कि जो भी दोषी होगा कारवाई की जाएंगी वहीं प्रदर्शनकारियों ने अपना आमरण अनशन समाप्त कर दिया है।

Check Also

WIT दरभंगा बने देश का पहला महिला आईआईटी, वैज्ञानिक डॉ. मानस बिहारी वर्मा को दें सच्ची श्रद्धाजंलि – पुष्पम प्रिया चौधरी

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट : डब्ल्यूआईटी को देश का पहला महिला आईआईटी के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *