Breaking News

बिहार :: बरौनी रिफाईनरी में अनुसूचित जाति एवं जनजाति उद्यमियों हेतु राज्य स्तरीय विशेष वेंडर विकास कार्यक्रम का आयोजन

बेगूसराय, आरिफ हुसैन-संवाददाता : भारत सरकार के निर्देशानुसार अनुसूचित जाति एवं जनजाति एमएसई वेंडरों से निर्धारित प्रतिशत की अनिवार्य खरीद हेतु राज्य स्तरीय विशेष वेंडर विकास कार्यक्रम का आयोजन बरौनी रिफाईनरी ने सुक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, विकास संस्थान, मुजफ्फरपुर एवं पटना, राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड (अनुसुचित जाति एवं जनजाति केन्द्र) पटना, दलित इंडियन चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्री एवं दलित इंडस्ट्रीज एसोसिएशन ऑफ बिहार के सहयोग से शनिवार को बरौनी रिफाईनरी परिसर स्थित एल एण्ड डी सेंटर में किया। आर मानवी मुख्य महाप्रबंधक (तकनीकी सेवा एवं एचएसई) ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी अतिथियों का स्वागत किया। दिनेश पासवान अध्यक्ष, दलित इंडियन चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्री, सतेन्द्र आनन्दकर, अध्यक्ष दलित इंडस्ट्रीज एसोसिएशन ऑफ बिहार, पीके गुप्ता निदेशक एमएसएमई मुजफ्फरपुर, एआर गोखे एमएसएमई पटना एवं एमएम सिन्हा वरिष्ठ प्रबंधक राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड (अनुसुचित जाति एवं जनजाति केन्द्र) पटना ने बरौनी प्रबंधन के समक्ष अनुसूचित जाति एवं जनजाति उद्यमियों को प्रोत्साहित एवं विकसित करने हेतु संभावित सहायता करने का आग्रह किया तथा इस कार्यक्रम के आयोजन के लिए बधाई दी। कार्यपालक निदेशक वीके शुक्ला ने बिहार के 17 जिलों से पधारे अनुसूचित जाति एवं जनजाति उद्यमियों को संबोधित करते हुए कहा कि बरौनी रिफाईनरी भारत सरकार के चलाए जा रही योजनाऐं जैसे मेक इन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया तथा स्किल इंडिया में अपना सम्भव सहयोग दे रही है। उन्होंने ने बताया कि पब्लिक प्रोक्योरमेंट पॉलिसी के तहत बरौनी रिफाईनरी 20 प्रतिशत की अनिवार्य खरीद से आगे बढ़ते हुए लगभग 40 प्रतिशत खरीद एमएसएमई उद्यमियों से कर रही है। सरकारी नियम के अनुसार 4 प्रतिशत कि अनिवार्य खरीद अनुसूचित जाति एवं जनजाति उद्यमियों से किया जाना है। इसके तहत बरौनी रिफाईनरी बिहार के आप जैसे उद्यमियों को विकसित करने में अहम भूमिका निभाने को तत्पर है। इसके लिए हमें आपकी क्षमताओं को समझना होगा और आपको हमारी जरूरतों को पहचानना होगा। इसी मंशा के साथ इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया है जिससे हमारे बीच सूचना का सुचारू रूप से आदान-प्रदान हो सके। इसके लिए आगे भी इस तरह के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। हमारा उद्देश्य है कि आप लोगों से सही गुणवत्ता वाली सामग्री सेवा अधिक से अधिक मात्रा में ली जाए। कार्यक्रम में उपस्थित अनुसूचित जाति एवं जनजाति के उद्यमियों को बरौनी रिफाईनरी के खरीद नीति, संविदा प्रक्रिया, एमएसएमई की नीतियों, जीएसटी संबंधित जानकारी, अनुसूचित जाति एवं जनजाति संबंधित सरकारी गतिविधियां, लोन सब्सिडी आदि जानकारी विस्तार पूर्वक गौतम घोष उपमहाप्रबंधक संविदा बरौनी रिफाईनरी, एसके वर्मा सहायक निदेशक एमएसएमई पटना एवं किरण मारिया प्रबंधक एनएसआईसी द्वारा दी गई। इसके साथ ही महाप्रबंधक, (सामाग्री एवं संविदा) समिर सहाय ने बताया कि स्टार्टअप इंडिया के तहत जिन उद्यमियों को स्टार्टअप के तौर पर सरकार प्रमाणित करती है उन्हें इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड अपनी नॉन क्रिकिटल खरीद संविदाओं के प्री क्वालिफिकेशन क्राइटेरिया में शत-प्रतिशत छूट देती है। इसके साथ ही एमएसई उद्यमियों को टर्न ओवर एवं आर्डर वेल्यू पर 15 प्रतिशत की रियायत भी दी जाती है। उन्होंने ट्रायल ऑर्डर संबंधित प्रावधानों के बारे में भी विस्तृत जानकारी दी साथ ही सभी उद्यमियों से अनुरोध किया कि वो अपना पंजीकरण सरकारी ईमार्केट प्लेस के वेबसाईट पर जरूर करवाऐं क्योंकि आने वाले दिनों में कई विशिष्ट सामग्रीयों की खरीद अनिवार्य रूप से उसी वेबसाईट के माध्घ्यम से सरकारी कम्पनियों को करना प्रस्तावित है। कार्यक्रम में वर्तमान में बरौनी रिफाईनरी द्वारा एमएसएमई वेंडरों से खरीदी जाने वाली वस्तुओं की प्रदर्शनी भी लगाई गई। उपस्थित उद्यमी इस कार्यक्रम से काफी प्रभावित एवं लाभान्वित हुए। इस अवसर पर मुख्य महाप्रबंधक परियोजना समिरन सरकार, मुख्य महाप्रबंधक मानव संसाधन, मानस बरा, महाप्रबंधकगण एवं सामग्री संविदा विभाग के सभी अधिकारीगण उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन अंकिता श्रीवास्तव सहायक प्रबंधक (कॉर्पोरेट संचार) ने किया।

Check Also

DMCH डाटा इंट्री कर्मचारियों को 4 माह से वेतन भुगतान नहीं, अस्पताल प्रबंधन की संवेदनहीनता – C.I.T.U.

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट : दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के विभिन्न वार्डों, रजिस्ट्रेशन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *