Breaking News

बिहार :: बिहार में शराबबन्दी का असर दिन व दिन बेअसर !

शेरघाटी(गया) बिहार में शराबबन्दी का असर दिन व दिन बेअसर होते नजर आ रहा है । यही वजह है की शेरघाटी और रौशनगंज थाने के बॉडर पर बसा गांव थमनविघा और तरवाडीह के बीच मोरहर नदि में पर्त्येक दिन कम से कम एक साथ 500 लोग पीते है देसी शराव । शराब माफिया निर्भिक होकर दिन के उजाले से लेकर शाम सात बजे तक एक मोटी रकम लेकर शराव की बिक्री धड़ल्ले से कर रहे है । एक छोटी सी कस्बाई इलाका में चार चार शराव की दुकाने चलाई जा रही है । इस धंधे से जुड़े माफिया आस पास के झाड़ियो में असमाजिक तत्व के लोगो को बैठा कर रखते है । यहाँ तक शराव के अड्डे से करीब दो से तीन किलोमीटर अपनी स्पाई भी रखते है। विस्वस्नीय सूत्र बताते है की झारखण्ड के शराव माफिया शेरघाटी के श्रीरामपुर गांव तक शराव पहुचाने की ठेका ले रखा है । वहाँ से थमनविगहा निवासी दो शराब माफिया नदि में लाकर उच्चे दामो पर शराव की बिक्री करते है । बताया यह भी जा रहा है की पुलिस की आने जाने की हर गतिबिधिया बालासोत गांव और हरिदासपुर के लोहापुल के पास से सेलफोन के सहारे दिया जाता है । शराब पिने वाला एक व्यक्ति ने नाम न छापने के शर्त पर बताया की शेरघाटी के एक चौकीदार और रौशनगंज की एक पुलिसकर्मी की मिली भगत से यह धंधा फल फूल रहा है । जब इस सम्बंध में रौशनगंज और शेरघाटी पुलिस की सुचना कई बार दी गयी है परन्तु थानाध्यक्ष मनोज कुमार सिंह सिर्फ छापामारी करने की बात कहकर टाल रहे है।अब ऐसे में देखना है की शराव माफिया और उनके अस्पाइयो पर वरीय पदाधिकारियों की गिरती है गाज यह नही यह सवाल लोगो के दिलो में आज भी कौंध रहा है ।

Check Also

16 सितम्बर से 18 सितम्बर तक विधि-व्यवस्था संधारण को लेकर जिला नियंत्रण कक्ष की हुई स्थापना

दरभंगा, विजय भारती :- जिला दण्डाधिकारी, दरभंगा राजीव रौशन एवं वरीय पुलिस अधीक्षक अवकाश कुमार …

Leave a Reply

Your email address will not be published.