Breaking News

बिहार :: रबी महोत्सव सह प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन

अरवल ब्यूरो:– जिला पदाधिकारी सतीश कुमार सिंह ने जिला कृषि भवन में दीप प्रज्वलित कर रबी महोत्सव सह प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया। वहीं कृषि वैज्ञानिको द्वारा रबी फसल के बीजो उपचार की विस्तृत जानकारी जिला स्तरीय प्रशिक्षण के दौरान किसानों को दिया। प्रशिक्षण में किसानों को बताया गया कि खेतों में किसी भी बीज को बुआई के पूर्व बीजो की जांच कर लेनी चाहिए। इससे किसानों को बीजो के जमवन के बारे में पता चल जाता है। वैज्ञानिकों ने किसानों को आधुनिक कृषि यंत्र के प्रयोग करने की भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आधुनिक कृषि यंत्र के प्रयोग से किसानों को समय का बचत होने के साथ-साथ मेहनत भी कम करना पड़ता है। जिससे खेतों में अच्छी फसल उपजती है और लागत भी कम आता है। गेहुँ की खेती पावर टिलर से करने को किसानों को कहा गया, जिससे उपज अच्छी होती है। वहीं जीरो टिलर से गेहुँ की बीज की बुआई करने से बीज कम लगता है। जिससे किसानों को बीज पर कम खर्च करना पड़ता है। वहीं वैज्ञानिकों ने कार्यशाला में उपस्थित किसानो को बताया कि रसायनिक खाद के प्रयोग से मिट्टी की उपजाऊ शक्ति कम हो जाती है। इसलिए किसान अपने खेतों में ज्यादातर जैविक खाद तथा वर्मी कम्पोस्ट का प्रयोग करे। जिससे उपज के साथ-साथ मिट्टी की गुणवत्ता बरकरार रहती है। प्रशिक्षण शिविर में उपस्थित जिला कृषि पदाधिकारी ने बताया कि जिले में 17000 हैक्टेयर में गेहुँ की फसल लगाने का लक्ष्य निर्धारित है। प्रत्येक गांव में दो किसानों का चयन मुख्यमंत्री तीव्र बीज विस्तार योजना के लिए चयन किया गया है। जिसमें चना, मसूर और गेहुँ सम्मिलित है। कार्यशाला में कृषि समन्वयक, किसान सलाहकार के अलावे संबंधित अन्य कृषि कर्मी मौजुद थे।

Check Also

डॉ मशकूर उस्मानी ने निभाया वादा, अंजली बिटिया की पढ़ाई शुरू जाने लगी कांवेंट स्कूल

डेस्क : बीते माह जाले के ब्राह्मण टोली में रहने वाली चंचल झा नाम की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *