Breaking News

बिहार :: लखनौर प्रखंड में 120 युवाओं को डीएम ने दिया प्रमाण पत्र

झंझारपुर/मधुबनी : लखनौर प्रखंड स्थित कुशल युवा कार्यक्रम के तहत कौशल विकास केन्द्र से प्रशिक्षण प्राप्त 160 छात्र छात्राओ को एक कार्यक्रम के दौरान डीएम शीर्षत कपिल अशोक ने प्रमाण पत्र वितरण किया। डीएम ने कहा कि इस संस्थान से कुल छात्रों में 30 छात्र नब्बे प्रतिशत से ज्यादा अंक प्राप्त किये हैं जो यहां के उच्च स्तर के प्रशिक्षण को दर्शाता है। उन्होने कहा कि ऐसे सभी छात्रों को 20 दिवसीय प्रशिक्षण के लिए जिला प्रशासन करायेगी। सभी को बिहार सरकार द्वारा लैपटॉप दिया जायेगा। उन्होने सभी छात्रों को कहा कि वे जल्द ही मधुबनी में जॉब मेला लगायेगे। वहां सभी पास करने वाले छात्र आकर अपना भविष्य तलाशें। मेला में कौशल विकास केन्द्र के अभ्यर्थियों को तरजीह दी जाएगी। डीएम ने कहा कि कुछ ही माह में यहां से आठ बैच यानि कुल 160 छात्र छात्राओं ने सॉफ्ट स्कील, कम्यूनिकेशन स्कील डेवलपमेंट, आईटी जैसे प्रशिक्षण को प्राप्त कर लिया। उन्होने कहा कि वे जिला में पहली बार ऐसे केन्द्र में प्रमाण पत्र बांटने आए हैं। उन्होने मैनेजमेंट कॉलेज की तारीफ की और कहा कि क्वालिटी से समझौता नहीं होना चाहिए। उन्होने युवा छात्र छात्राओं से बढ़ चढ़कर प्रशिक्षण प्राप्त करने की सलाह दी ताकि उनका सर्वांगीण विकास हो सके।बता दे कि यह केन्द्र ललित नारायण मिश्र इन्स्टीच्यूट ऑफ बिजनेश मैनेजमेंट मुजफ्फरपुर के द्वारा बिहार सरकार के निर्देशानुसार संचालित हो रही है। प्रमाण पत्र वितरण कार्यक्रम को सीनि. डिप्टी कॉलेक्टर सत्यप्रकाश, एसडीएम विमल कुमार मंडल ने भी संबोधित किया। उक्त अधिकारियों के अलावे डीसीएलआर, सीओ, प्रमुख शीला देवी तथा अन्य ने भी प्रमाण पत्र बांटे। सभा का संचालन मैनेजमेंट कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य श्याम आनन्द झा ने की जबकि मैनेजमेंट कॉलेज के रजिस्ट्रार कुमार सत्येन्द्र शेखर, कमलेश झा,शंकर महतो, प्रमुख शीला देवी, उपप्रमुख अनन्त नारायण महतो, सियाराम साहु, रूपेश कुमार चांद, कृष्ण कुमार झा, विक्रम कुमार, संजय राय,बैद्यनाथ भंडारी,चन्द्रकांत सिंह अमर जी झा,दीपक कुमार पोद्दार, आलोक चन्द्र मिश्रा, सहित सैंकड़ों लोग मौजूद थे। डीएम ने बच्चों से अंग्रेजी भी बुलवाई।

Check Also

“बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और बेटी को संस्कारित करो” – भागवताचार्य ब्रह्मा कुमार

चकरनगर/इटावा (डॉ एस बी एस चौहान की रिपोर्ट) : हम अगर बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *