Breaking News

बिहार :: लाखों लाख श्रद्धालुओं ने तूर्लाक कुम्भ द्वितीय शाही (पर्व) स्नान में गंगा में गोता लगाया

बीहट (बेगूसराय)/धर्मवीर कुमार संवाददाता : संसार में सभी चलाचल है केवल धर्म निश्चल है। उक्त बातें संसारिक जीवन में धर्म की बखान करते हुए करपात्री अग्निहोत्री सर्व मंगला परिवार कालीधाम के अधिष्ठाता परम संत शिरोमणि स्वामी चिदात्मन जी महाराज जी ने अपने श्री मुख से व्यक्त किये। कहा लौकिक एवं एहलौकिक तथा परलौकिक सुखों को देने वाला केवल एक मात्र धर्म ही है। इससे विश्व को संदेश मिलता है। धर्म से ही राष्ट्र की विकास होती है। जीवन में नियम, दृढ़, व्रत नेम की भी प्रधानता होती है। स्नान की महत्ता को आत्मसात करने की विषय पर तूर्लाक द्वादश महाकुम्भ के द्वितीय शाही (पर्व) स्नान पर उमड़ी लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ को कहा की माता गंगा भी भगवान विष्णु से यह वरदान मांगी कि हम संसारिक मानवों की नित्य स्नान से उनके पाप संताप एवं मैल को धोते-धोते निर्मल होने के लिये सर्व प्रथम संतों की स्नान की वरदान मांगी थी। इसी पौराणिक महत्ता के कारण शाही (पर्व) स्नान में पहले नागा संत तब दंडी स्वामी, सभी अखाड़ों के संत महात्म्य के बाद धर्मप्राण श्रद्धालुओं का स्नान होता है। राष्ट्र हित, समाज हित एवं देश की एकता और अखंडता को बनाये रखने के लिये आज तूर्लाक द्वादश महाकुम्भ के द्वितीय शाही (पर्व) स्नान के मौके पर देश के कोने-कोने एवं सीमावर्ती देश नेपाल सहित अपितु कई प्रान्तों से पधारे दंडी स्वामी, नागा संतों एवं सन्त महात्मा के साथ-साथ श्रद्धालुओं ने प्राचीन काल के तीन जनपद देशों का संगम स्थली सिमरिया धाम गंगा में गोता लगाने का ऐतिहासिक धार्मिक अनुष्ठान किया है। कहा जाय तो इस दरम्यान दर्शनीय का मुख्य केन्द्र एवं श्रद्धालुओं की ललक बना रहा दंडी स्वामी एवं नागा संतों का परिभ्रमण एवं गंगा स्नान। विदित हो की इस द्वितीय शाही स्नान के दिन उमड़ने वाली भारी भरकम भीड़ एवं विधि व्यवस्था विधि संधारण आगंतुक श्रद्धालुओं की आस्था को लेकर राज्य सरकार स्तर से सूबे के श्रम संसाधन मंत्री सह जिले के प्रभारी मंत्री विजय कुमार सिन्हा, आईजी भागलपुर सुशील मान सिंह खोपरे, डीआईजी भागलपुर सह मुंगेर विकास वैभव, डीएम बेगूसराय मो. नौशाद युसूफ, एसपी आदित्य कुमार की विभिन्न विभागों के पदाधिकारी एवं जिला से लेकर स्थानीय पदाधिकारियों की मैराथन बैठक कई दौड़ हुई। साथ ही कल्पवासी, सर्व मंगला परिवार, कुम्भ सेवा समिति, कुम्भ तदर्थ सेवा समिति एवं समूचे जिला एवं स्थानीय प्रशासन द्वारा किया गया कार्य काफी सराहनीय योग्य रहा। इस अवसर पर बनारस के बनारसी बाबू उर्फ संगीताचार्य, स्वामी प्रेमतीर्थ जी महाराज, हरिद्वार के स्वामी हठयोगी बाबा, सासाराम बिहार के स्वामी अंजनेश जी महाराज, दिगम्बर अखाड़ा के महंथ शिवराम दास जी, रंजीतेश जी, सुलभानन्द जी, नागेन्द्रननागेन्द्रनाथ जी, अभयानन्द जी महाराज, ज्ञानानन्द जी महाराज, प्रयाग से माधवानन्द जी, हरिद्वार से गंगानन्द जी, निर्मोही अखाड़ा के महंथ नंदराम दास जी महाराज, कौशलेन्द्रा जी महाराज, निर्मलानंद जी, गोपालानन्द जी, रंजीत दास जी, महंथ विंध्याचल दास जी सहित अन्य साधु संत व महंथ शामिल थे। जबकि परिक्रमा में अखिल भारतीय सर्वमंगला अध्यात्म योग विधापीठ व सर्वमंगला परिवार के रविन्द्र ब्रह्माचारी जी, डा. घनश्याम झा, प्रो पीके झा प्रेम, विनय झा, राजकिशोर सिंह, उषा रानी, मीडिया प्रभारी नीलमणि, सत्यानन्द, उमेशानन्द, श्याम किशोर सहाय, प्रभात झा, पटेल सिंह, नवीन सिंह, नृपेन्द्रानन्द जी, राजेश्वरानन्द, सुशील सिंह, दिनेश सिंह, हरिनाथ मिश्र, पदमनाभ झा, बब्लू सिंह, बाबू, संजयानन्द, संजय सिंह, गंगानन्द, सुलभ सिंह, कौशलेन्द्र सिंह, अमरेन्द्र सिंह, नृपेन्द्र राम, लक्ष्मण, श्याम सहित अन्य द्वितीय शाही स्नान में शामिल थे।
द्वितीय शाही (पर्व) स्नान की सुरक्षा व्यवस्था-कुंभ मेला का द्वितीय शाही (पर्व) स्नान चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था के बीच संपन्न हुआ। डीएम मो. नौशाद यूसुफ, एसपी आदित्य कुमार, एसडीओ जनार्दन कुमार, एसपी मिथलेश कुमार, डीएसपी बजरंगी पांडेय, शशि रंजन, अरुण कुमार, जिला कृषि पदाधिकारी कृष्ण बिहारी शर्मा, कार्यपालक पदाधिकारी बीहट डा. अमित कुमार, बरौनी बीडीओ ओम राजपूत, सीओ अजय राज, पुनि सह थानाध्यक्ष नगर थाना सुनील कुमार, पुनि सह थानाध्यक्ष बरौनी गजेन्द्र कुमार, पुनि जीरोमाईल प्रवीण कुमार, निलम्बित पुनि त्रिलोकी कुमार, चकिया ओपी प्रभारी राज रतन, एफसीआई ओपी प्रभारी शैलेश कुमार, काली स्थान थाना प्रभारी धीरेन्द्र कुमार पाठक, रिफाईनरी ओपी प्रभारी कुमार सन्नी, सिंघौल अजीत कुमार, फुलवरिया विवेक भारती, कल्पवास मेला थाना प्रभारी पल्लव कुमार, बिन्द टोली थाना प्रभारी गौरी शंकर राम सहित सैकड़ों महिला व पुरुष पुलिस बल व घुड़सवार की देखरेख में शांति पूर्वक सम्पन्न हुआ। मौके पर रवींद्र ब्रह्मचारी, सत्यानंद, उमेशानंद, सुरेशानंद, संज्यानंद, राज किशोर झा, हरिनारायण, नीलमणि, राम, श्याम, लक्ष्मण सहित तीस देवज्ञय एवं विद्वान पंडित मौजूद थे।

Check Also

एके-47 के साथ कुख्यात मुन्ना मिश्रा को बिहार एसटीएफ ने दबोचा, 8 साल से फरार दिलीप मिश्रा उर्फ मुन्ना 50 हजार का इनामी

डेस्क : 50 हजार का इनामी कुख्‍यात मुन्‍ना मिश्रा को यूपी के बलिया से बिहार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *