Breaking News

बिहार :: विश्व के लिए मधुबनी कला अमिट शान: प्रधान सचिव

मधुबनी/आाकिल हुसैन : स्थानीय वाट्सन उच्च विद्यालय,मधुबनी स्थित इंडोर स्टेडियम में बुधवार को “मधुबनी पेंटिंग का भविष्य” विषय पर परिचर्चा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन डा0 एस0 सिद्धार्थ, प्रधान सचिव, उद्योग विभाग, बिहार एवं जिला पदाधिकारी शीर्षत कपिल अशोक के द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया गया। इस अवसर पर डा0 एस0 सिद्धार्थ, प्रधान सचिव, उद्योग विभाग, बिहार ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि प्रायःलगभग सभी बड़े रेलवे स्टेशनों, एयरपोर्ट पर मधुबनी पेंटिंग देखी जाती है। जिससे मधुबनी पेंटिंग कलाकारों की ख्याति का अंदाजा सहज रूप से लगाया जा सकता है। मधुबनी कला विश्व के लिए अमिट शान है। उन्होने जिलाधिकारी को कहा कि वे इसके प्रचार-प्रसार पर विशेष ध्यान दें, ताकि लोग इसकी ओर और आकर्षित हो सके। उन्होंने कहा कि इसके प्रचार के लिए मधुबनी की सीमा प्रारंभ होनेवाले स्थान एवं समाप्ति वाले स्थान (एन0एच0) पर मधुबनी पेंटिंग से जिले के प्रमुख स्थलों एवं पेंटिंग कलाकारों के गांव,दूरी आदि को प्रदूषित करने का निर्देश दिया गया। उन्होनें एन0एच0 पर अवस्थित पेट्राॅल पंपो, एवं बड़े ढ़ाबों पर मधुबनी पेंटिंग से संबंधित सामग्रियों की बिक्री की व्यवस्था करने का भी निर्देश दिया। जिससे कि पर्यटक आकर्षित हो सके।
उन्होनें कहा कि जिले में कलाकारों की संख्या में इजाफा हुआ है। जिससे कि उम्दा कलाकारों की प्रतिभा दब जाती है तथा उन्हें चिन्हित करने में ग्राहको को परेषानी होती है। उन्होने कहा कि कैटेगेरी के अनुसार कलाकारों की सूची बनाये, जिससे कि ग्राहकों को पेंटिंग के संबंध तथा कलाकारों के बारे में बिस्तृत जानकारी मिल सके एवं आॅनलाईन खरीद में भी उन्हें सुविधा हो सके।
उन्होंने कहा कि किस प्रकार के कलाकारों को कैसी सुविधा की जरूरत है, तथा कितनी राशि लोन के रूप में चाहिए इसकी विस्तृत जानकारी से अवगत कराने एवं कैसे मधुबनी कला का उद्धार हो सके इसपर चर्चा करने का भी निदेष दिया गया। उन्होने पोर्टल पर उम्दा कलाकारों, राज्य स्तरीय, एवं राष्ट्रीय स्तर के कलाकारों से संबंधित जानकारी अपलोड करने का निदेष दिया। उन्होने कहा कि मधुबनी कला का भविष्य काफी उज्जवल है।
तत्पस्चात जिला पदाधिकारी शीर्षत कपिल अषोक द्वारा प्रधान सचिव, उद्योग विभाग,बिहार के निदेषों का शीघ्र अनुपालन किये जाने के संबंध में आश्वस्त किया गया। उन्होेंने कहा कि मधुबनी पेंटिंग के बाजार की समस्या के निदान हेतु एन0एच0 के पास मधुबनी हाट खोलने के लिए स्थल का चयन किये जाने की प्रक्रिया की जा रही है। कलाकारों को आवष्यतानुसार छोटे-छोटे ऋण बिना गारंटी के दिलाने के लिए उनके द्वारा पहल की जा रही है। मधुबनी कला को आॅनलाईन बाजार उपलब्ध कराने के उदेश्य से एन0आई0सी0 के माध्यम से वेव पोर्टल का निर्माण किया गया है। जिससे कि कलाकार अपना पेंटिंग घर बैठे आसानी से बेच सके। और पैसा सीधे उनके खाते में मिलेगा। उन्होने कलाकारों को प्रषिक्षित किये जाने के लिए भवन उपलब्ध कराने की बात कही। जितवारपुर के तर्ज पर उन्होने रांटी, कोईलख, मंगरौनी,रैमा आदि गांवों के लोगों को भी स्वच्छ भारत मिषन एवं लोहिया स्वच्छता अभियान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेने की अपील की। जिससे मधुबनी जिला पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बन सके। उन्होंने कहा कि मधुबनी कला का इतिहास समृद्ध था, वत्र्तमान और भविष्य भी समृद्ध रहेगा।
तत्पष्चात प्रधान सचिव, उद्योग विभाग, बिहार द्वारा जिला अतिथिगृह में बन रहे मिथिला पेंटिंग का निरीक्षण किया गया। उन्होने जिला पदाधिकारी को निदेष दिया कि अतिथिगृह स्थित परिसर का सतह बेहतर बनाये, जिससे अतिथिगृह और आर्कषक लगे।
इस अवसर पर राष्ट्रीय पुरस्कार से पुरस्कृत श्रीमती गोदावरी दत्त, पद्म श्री श्रीमती बौआ देवी, श्रीमती कपूरी देवी, श्री षिवन पासवान, प्रो0 नरेन्द्र नारायण सिंह निराला, सदर अनुमंडल पदाधिकारी सुनील कुमार सिंह,सिविल सर्जन डा0 अमरनाथ झा,उदय जायसवाल तथा उपेन्द्र महारथी षिल्प अनुसंधान संस्थान,पटना के निदेषक तथा मधुबनी पेंटिंग के कलाकार एवं अन्य लोग उपस्थित थे।

Check Also

राष्ट्रपति पहुंचे पटना, राजभवन में हाई-टी कार्यक्रम आज तो कल होंगे शताब्दी समारोह में मुख्य अतिथि

डेस्क : बिहार में तीन दिवसीय दौरे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पटना पहुंच गये हैं। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *