Breaking News

बिहार :: संविदा कर्मियों की हड़ताल, ना और हां दोनां की स्थिति में बेअसर

धर्मवीर कुमार
बीहट (बेगूसराय)/संवाददाता : संविदा कर्मियों की हड़ताल ना और हां दोनां की स्थिति में बेअसर साबित हो रही है। इसका मुख्य कारण यह है कि कुछ कर्मी ना और हां दोनां स्थिति में है। कुल मिलाकर ऐसा कहा जा सकता है कि अनिश्चितकालीन हड़ताल पर भी सस्पेंस बरकरार है। जबकि विगत चार दिसम्बर से ही बेमियादी रुप से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर गये आयुष चिकित्सक, आरबीएसके टीम सहित के समर्थन में अपनी मांगे नियमित करने, वेतन वृद्धि करने, सामान काम-सामान वेतन सहित अन्य मांगों को लेकर शुक्रवार से हड़ताल पर जाने वाले बीएचम, एकाउंटेंट, एनएमई, संजीवनी, डाटा इन्ट्री ऑपरेटर सहित अन्य कर्मी हड़ताल के दूसरे ही दिन पीएचसी बरौनी में अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए काम कर रहे हैं। हड़ताल बेअसर तब साबित हुई जब नदारद सुविधाएं, नगण्य काउंसलर, भीड़, आयुष एवं आरबीएसके टीम सहित हड़ताल पर रहने के बावजूद भी देश की शिशु जन्म मृत्यु दर में कमी लाने वाली, प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मृत्यु दर में कमी लाने वाली, संस्थागत प्रसव के लिये प्रेरित, गर्भावस्था के दौरान जांच, गर्भ में पल रहे बच्चों की जांच, मातृत्व की जांच के लिये प्रत्येक माह के नौ वीं तारीख को चलाये जाने वाली प्रधान मंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान में बरौनी पीएचसी के ओपीडी में ढ़ाई सौ से अधिक गर्भवती माताएं ने ड्यूटी पर तैनात मात्र एक स्थाई चिकित्सक डा. राघवेंद्र कुमार के एडवाइस पर एचाईवी, ब्लड ग्रुप, आर एण्ड ई कलचर, यूरिन कल्चर, एचबी परसेंटेज, वेट, रक्तचाप सहित कई अन्य प्रकार के जांच कराकर गर्भावस्था के दौरान सेवन की जाने वाली व गर्भवती के लिये अति महत्वपूर्ण दवा आईएफए की टेबलेट को पीएचसी से प्राप्त किया। वहीं इस संबंध में बीएचएम बरौनी एसके पंकज ने बताया की संघ के उपर की स्तर पर ही कंसेप्ट क्लियर नहीं हो पाने के कारण हड़ताल सस्पेंस की स्थिति में है। कहा आयुष चिकित्सक डा. व्यास देव को छोड़कर डा. संजीव कुमार, डा. मो. साजिद अली, डा. नीति प्रभा एवं आरबीएसके चिकित्सक डा. संतोष कुमार जयसवाल, डा. मुकेश कुमार, डा. मो. जफर रशीद, डा. मो. आबिद हुसैन, एएनएम रेणुका कुमारी, गुड्डी कुमारी, फार्मासिस्ट विजय कुमार बेमियादी रुप से शुरू हुई विगत चार दिसम्बर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पड़ हैं और हड़ताल में लिखित रुप से शामिल हैं।

Check Also

DMCH डाटा इंट्री कर्मचारियों को 4 माह से वेतन भुगतान नहीं, अस्पताल प्रबंधन की संवेदनहीनता – C.I.T.U.

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट : दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के विभिन्न वार्डों, रजिस्ट्रेशन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *