Breaking News

बिहार :: सिपाही भर्ती परीक्षा मे भाग लेगे 25 हजार प्रतिभागी –डीएम

U

अजय कुमार

गया।

जिलाधिकारी कुमार रवि की अध्यक्षता मे आज जिले में केन्द्रीय चयन पर्षद द्वारा सिपाही भर्ती के लिए 15 एवं 22 अक्टूबर को होनें वाली परीक्षा को लेकर आवष्यक निर्देष जारी किया। कदाचार मुक्त परीक्षा लेने के लिए जिलाधिकारी ने समाहरणालय सभा कक्ष में दंडाधिकारियों, पुलिस पदाधिकारियों एवं केन्द्राधीक्षकों की ब्रीफिंग की।ब्रीफिंग में जिलाधिकारी ने उपस्थित दंडाधिकारीयों एवं पुलिस पदाधिकारियों को निर्देष दिया कि इस परीक्षा को पूरी सर्तकता के साथ कदाचारमुक्त, स्वच्छ एवं शांतिपूर्ण आयोजन हेतु दिषानिर्देषों के अनुसार अनुपालन सुनिष्चित किए जायें क्यांेकि इस परीक्षा मे काफी संख्या में परीक्षार्थी सम्मिलित हो रहे है। यह परीक्षा 15 अक्टूबर को तथा 22 अक्टूबर को दो-दो पालियों में आयोजित होगी। सभी पालियों के लिए अलग-अलग प्रष्न पत्र होंगे।लगभग 25000 परीक्षार्थी इस परीक्षा में भाग लेगे।सभी केन्द्राधीक्षकों को निर्देष दिया गया कि यदि वे कदाचार के मामले में संलिप्त पाए जाऐगें तो उनके विरूद्ध भी कार्रवाई होगी। उन्होंने केन्द्राधीक्षकों को निर्देष दिया कि वे परीक्षा केन्द्र के बाहर ही परीक्षार्थियों की जांच करा लें।परीक्षा भवन के अदंर कोई भी आपत्तिजनक कागजात नहीं जाना चाहिए। जैसे कि किसी भी प्रकार का इलेक्ट्राॅनिक उपकरण घडी़, मोबाईल फोन, चष्में, इलेक्ट्राॅनिक कलम, बैग, चीट पर्चा, आदि ये सब बिलकुल पाबंदी रहेगी। ऐसे उपकरण किसी भी विधाार्थी के पास मिलते है तो तुरंत उस पर कार्रवाई करते हुए जेल भेजे। परीक्षर्थियों को बिना परिचय पत्र के प्रवेष की अनुमति नहीं दी जाएगी।प्रश्न पत्र को निकालते एवं वापस करते समय वीडियोग्राफी कराने का निर्देष डीएम ने दिया है। परीक्षा में केन्द्राधीक्षक भी अंदर मोबाईल ले जाने पे पाबंदी रहेगा यदि शिकायत मिलता है तो सीधे कार्रवाई होगा। कमरे में रोशनी की दिक्क्त ना हो विधार्थीयों को इसका भी विषेश ध्यान रखना है। कभी भी केजुअल आॅपरौच नहीं होना चाहिए।सभी परीक्षार्थीयों को सही ससमय पे कयोष्चन पेपर मिलना चाहिए किसी भी विधार्थीयों को कोई दिक्कत ना हो इसका भी ध्यान रखना हैं। ट्रैफिक व्यवस्था का भी अपने अपने क्षेत्र में ध्यान रखना है कि कोई विधार्थी को दिक्कत ना हों। प्रथम पाली का परीक्षा समाप्त होते ही सही उत्तरपुस्तिका मिलान कर तुरंत सील करे, इस स्थिति में कदाचार या गड़बडी की षिकायत मिलती है तो केन्द्राधीक्षक सीधे जिम्मेवार होगें। दोषी के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कीे जायेगी। केन्द्राधीक्षकोें, वीक्षको एवं स्टैेटिक दंडाधिकारियों को परीक्षा प्रारंभ होने से दो घंटे पूर्व परीक्षा केन्द्र पर पहुंचने का निर्देष दिया गया है। उड़नदस्ता दंडाधिकारी समन्वय प्रेक्षक के रूप में कार्य सभी केन्द्रो पर करेंगेे।ओ0एम0आर0 सीट उतर पुस्तीका दोनो विधार्थीयों को परीक्षा समाप्त होते ही जमा कर देने होगें। यदि कोई अफवाह फैलाते हुए पाए जाय तो उस पर तुरंत कार्रवाई करे सभी एस0एच0ओ/आइ0ओ0 इस पर घ्यान रखेंगे। कदाचार मुक्त परीक्षा कराने के लिए प्रर्याप्त संख्या में पुलिस बल, दंडाधिकारी, गष्ती दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी की प्रतिनियुक्त की गई है। इस बैठक में वरीय पुलिस अधीक्षक गरिमा मलिक, अपर समाहर्ता राजकुमार सिन्हा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, सभी प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी, केन्द्राधीक्षक एवं अन्य उपस्थित थे।

Check Also

युवा जदयू ने उपेन्द्र कुशवाहा का दरभंगा NH पर किया भव्य स्वागत

स्वर्णिम डेस्क : जदयू संसदीय बोर्ड के केन्द्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा का जनसंवाद यात्रा के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *