Breaking News

बिहार :: हर्षोल्लास के साथ मनाई गई चित्रगुप्त पूजा

बिहारशरीफ। कायस्थ समाज के आदि देवता भगवान श्री चित्रगुप्त की पूजा नालंदा जिले में हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। इस मौके पर कायस्थ समाज के लोगों ने कलम दावात की पूजा की पूजा करते हुये भगवान चित्रगुप्त पूजा अर्चना कर मन्नतें मांगी। मान्यता है कि इस दिन कायस्थ समाज के लोग कलम दावात की पूजा करते हैं और उसके बाद पूरे दिन कलम से लिखना वर्जित रहता है। शहर के कई इलाकों में भगवान चित्रगुप्त की प्रतिमा स्थापित कर पूजा अर्चना की गई और प्रसाद का वितरण किया गया। शहर के महलपर भगवान श्री चित्रगुप्त मंदिर में पूजा-अर्चना किया गया। इसके अलावा अंबेर पंचअंगनवा, सोहसराय में भी भगवान चित्रगुप्त की प्रतिमा स्थापित की गई। मान्यता है कि भगवान चित्रगुप्त परमपिता ब्रह्माजी के अंश से उत्पन्न हुये है और यमराज के सहयोगी है। कहा जाता है कि सृष्टि के निर्माण के उददेश्य से जब भगवान विष्णु ने अपना योग माया से सृष्टि की कल्पना ब्रह्माण्ड की रचना और सृष्टि के निर्माण के उदेदश्य से हुआ था। इसलिए ये ब्रहमा कहलाये। इन्होने सृष्टि की रचना के दौरान देव असुर, गंधर्व, अप्सरा, स्त्री, पुरूष, पशु पक्षी को जन्म दिया। इसी दौरान यमराज का भी जन्म हुआ जिन्हें धर्मराज की संज्ञा प्राप्त हुयी। धर्मराज ने जब एक योग्य सहयोगी की मांग ब्रहमा जी से की तो ब्रह्माजी ध्यानलीन हो गये और एक हजार वर्ष की तपस्या के बाद एक पुरूष उत्पन्न हुआ जो चित्रगुप्त के नाम से विख्यात हुआ। भगवान चित्रगुप्त का जन्म ब्रह्मा के काया से हुआ था इसलिए ये कायस्थ कहलाये और इनका नाम चित्रगुप्त पड़ा। भगवान चित्रगुप्त के हाथों में कर्म की किताब, कलम, दवात, करवाल है। ये कुशल लेखक हैं और इनकी लेखनी से जीवों को उनके कर्मों के अनुसार न्याय मिलती है। कार्तिक शुक्ल पक्ष द्वितीया को भगवान चित्रगुप्त की पूजा का विधान है। मान्यता है कि इनके पूजन से सौदास नामक पापी राजा को भी स्वर्ग की प्राप्ति हुयी थी। शहर के सोहसराय के कटहलटोला में अखिल भारतीय कायस्थ महासभा द्वारा चित्रगुप्त पूजा का आयोजन किया गया। इस मौके पर महासभा के जिलाध्यक्ष संजय कुमार सिन्हा ने कहा कि यह पूजा करने से कायस्थ समाज के लोगों को लंबी उम्र, उन्नति, सुख समृद्धि और शांति मिलती है। इस अवसर पर कोषाध्यक्ष जितेंद्र कुमार सिन्हा, उपाध्यक्ष मिथिलेश कुमार, युवाध्यक्ष मनोज कुमार, जिला महिलाध्यक्ष जया वर्मा, सुनील कुमार वर्मा, महामंत्री चंद्रभूषण प्रसाद, मनोज कुमार, दिलीप कुमार, पप्पु कुमार सहित अन्य लोग मौजूद थें। वहीं पंचअंगनवा में भी भगवान चित्रगुप्त की प्रतिमा स्थापित कर पूजा अर्चना की गयी।

Check Also

डॉ मशकूर उस्मानी ने निभाया वादा, अंजली बिटिया की पढ़ाई शुरू जाने लगी कांवेंट स्कूल

डेस्क : बीते माह जाले के ब्राह्मण टोली में रहने वाली चंचल झा नाम की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *