Breaking News

बिहार :: 25वीं जिला बाल विज्ञान कांग्रेस का आयोजन

मधुबनी/आकिल हुसैन: 25वीं जिला स्तरीय बाल विज्ञान कांग्रेस में बच्चों की सहभागिता को देखकर अतीत की याद ताजी हो गई है। बच्चों की प्रतिभा इनके परियोजनाओं के माध्यम से स्पष्ट झलकती है। परियोजनाओं की गुणवत्ता, इसमें प्रयुक्त मौलिक सोच और भविष्य के प्रति चिंता और निदान का चिंतन प्रतिभागियों की वैज्ञानिक चेतना को परिलक्षित करता है। उक्त बातें संजय कुमार डीपीओ माध्यमिक षिक्षा अभियान में रीजनल सेकेन्डरि स्कूल के सभागार में आयोजित 25वीं जिला बाल विज्ञान कांग्रेस का उद्घाटन करते हुये सोमवार को कही। उन्होंने कहा कि षिक्षक समाज के लोगों से उन्होंने आह्वान किया कि छात्र-छात्रा रूपी भविष्य को सजाने-सँवारने एवं उनमें निखार लाकर विष्व को एक धरोहर सौंपें इसी में इस समाज की सार्थकता और जीवंतता है। इस अवसर पर बाल विज्ञान कांग्रेस के राज्य संरक्षक राम श्रृंगार पाण्डेय ने कहा कि बाल विज्ञान कांग्रेस का विषय सतत् विकास हेतु विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं नवाचार समसामोयिक एवं छात्र-छात्राओं में विज्ञान की उपादेयता के प्रति सहज सोच पैदा करने वाला है। अंध विकास की दौर प्रकृति का दोहन कर विष्व मानवता को खतरे की दिषा में ठकेल रहा है। ऐसी स्थिति में प्रकृति एवं पर्यावरण को भविष्य के लिए भी संरक्षित रखा जाय इसके लिए नये प्रयोग नूतन सोच एवं लोगों को जागरूक बनाने की नितांत जरूरत है। श्री पाण्डेय ने कहा कि हम भी जीएँ और हमारे भी जी सकें,यह माँग है। वहीं शैक्षणिक समन्वयक मनोज कुमार झा ने कहा कि आज जिले के विविध विद्यालयों से आए बच्चे और षिक्षकों को अपने प्रांगण में पाकर पुनः हृदय आह्लादित हो गया है। छोटे बच्चों के क्रियाषीलन जो इन परियोजनाओं से प्रतिबिंवित होता है को देख कर और समझकर इनके अभिनव सोच को परावर्तित करता है ऐसा प्रतीत हुआ। सभी आगन्तुकों को इस आषा से अभिवादन करता हूँ कि वे सतत् इस तरह की गतिविधि को बढ़ाते रहेंगे। वहीं इंजीनियर प्रत्युष परिमल ने कहा कि बच्चों के द्वारा बनाए गए प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक सोच झलकती है। विज्ञान नई सोच, नवाचारी विचार को दैनिक जीवन की समस्याओं को हल करने का सबसे अच्छा साधन है। कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला समन्वयक संतोष कुमार मिश्र ‘चून्नू’ ने अध्यक्षीय भाषण करते हुये कहा कि विज्ञान के क्षेत्र में मधुबनी जिला वर्षो से परचम लहराती रही है, आगे भी लहराते रहेंगे। दूसरे सत्र में निर्णायक मंडल में प्रो. आर झा, विष्वनाथ झा, सीताराम यादव ने राज्य स्तर के लिए उक्त छात्र-छात्राओं का चयन किया। आयुष आनंद (सुधीर मेमोरियल साइंस क्लब), ऋषभ कुमार (रीजनल सेकेन्डरि स्कूल, मधुबनी), कुमारी शालिनी (रीजनल सेकेन्डरि स्कूल, मधुबनी), रानी कुमारी (उ.म.वि. महथा लदनियां), सुप्रिया कुमारी (उ.वि. लोहा), स्वीटी कुमारी (ट्रिनीटी इंटरनेषनल स्कूल, मधुबनी) एवं विद्यासागर साह (म.वि. महथा, मधुबनी) का चयन राज्य स्तर के लिए किया गया है। जो 1 से 3 नवम्बर तक सीतामढ़ी के लक्ष्मी कन्या उच्च विद्यालय में छात्र-छात्राएं भाग लेगें। वहीं आरएमएस के चयनित छात्र-छात्राओं को प्रमाण पत्र देकर पुरस्कृत किया गया।

Check Also

फरीदिया हॉस्पिटल में डॉ अब्दुल हलीम डायलिसिस सेंटर का भव्य शुभारंभ, सम्मानित किए गए कोरोना Warriors

दरभंगा : सलफ़िआ यूनानी मेडिकल कॉलेज के अंतर्गत फ़रीदिया अस्पताल में गुरुवार को डॉ. सैयद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *