Breaking News

मुखिया व वार्ड सदस्य के बीच लड़ाई लगवा रही है सरकार !

बैठक करते मुखिया महासंध के सदस्य।

राजगीर। कैलाश आश्रम में गुरुवार को अनुमंडल के मुखिया महासंघ की बैठक हुई। इसमें अनुमंडल क्षेत्र के मुखिया लोगों ने भाग लिया। नालंदा जिला मुखिया संघ के कार्यकारी अध्यक्ष अरविन्द कुमार यादव ने कहा कि मुखिया महासंघ बिहार द्वारा पटना हाईकोर्ट में दायर मामला पर आये फैसले के खिलाफ मुखिया महासंघ बिहार द्वारा सर्वोच्च न्यायालय में ले जाने की फैसले का राजगीर अनुमंडल मुखिया संघ पूर जोर समर्थन करती है। उन्होंने कहा कि मुखिया अपने हक की लड़ाई आम जन से जुड़ी है। पंचायत राज एक्ट में जो अधिकार मुखिया को मिला है उसे छीनने का हर प्रयास को असफल कर दिया जायेगा। बिहार की सरकार जान बूझकर नया अध्यादेश लाकर पंचायत के अंदर मुखिया व वार्ड सदस्य के बीच लड़ाने का काम कर रही है। इससे पंचायत के विकास के काम में बाधा हो रही है। सरकार जबरदस्ती अपनी योजना थोपकर गांधीजी के ग्राम स्वराज के सपने को चकनाचूर कर रही है। वहीं मुखिया लोगों ने कहा कि पंचायत में वार्ड सदस्य जो काम करवा रहे हैं उसमें काफी निम्न स्तर का इंट व अन्य सामान प्रयोग हो रहा है। इससे लोगों को ही परेशानी होगी। वहीं वार्ड सदस्य मुखिया लोगों को वेबजह बदनाम करने में लगे हुए हैं। वार्ड सदस्यों ने जो प्रखंड स्तर पर संगठन बनाया है उसमें उसके अधिकारी दलाल किस्म के लोग बने बैठे हैं और वार्ड सदस्यों को बरगलाने का काम कर रहे हैं। इससे पंचायत की विकास में बाधा पैदा हो रहा है। मुखिया लोगों ने कहा कि एक वार्ड में जितना पैसा सरकार इस बार दे रही है उससे तो पूरे गांव की गली चकाचक हो जायेगी लेकिन वार्ड सदस्य लोग पहले अपने को चकाचक करने में लगे हैं। उनके यूनियन के पदाधिकारी उन्हें भटका रहे हैं। इस मौके पर जिला प्रवक्ता चंदन कुमार, मुखिया अनुज कुमार चैधरी, मुखिया फारुख जमां, मुखिया नवेन्दू झा, मुखिया प्रतिनिधि सुधीर कुमार, मुखिया मंजु देवी, दयानंद कुमार, श्यामा देवी, टुनी कुमार, सुनील कुमार सहित अन्य मौजूद थे।

Check Also

DMCH डाटा इंट्री कर्मचारियों को 4 माह से वेतन भुगतान नहीं, अस्पताल प्रबंधन की संवेदनहीनता – C.I.T.U.

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट : दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के विभिन्न वार्डों, रजिस्ट्रेशन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *