Breaking News

राजगीर महोत्सव में 27 नवंबर को जमेगी ठहाकों की महफिल !

बिहारशरीफ। राजगीर महोत्सव के तीसरे दिन मुख्य मंच से दिन के कार्यक्रम में राज्यस्तरीय हास्य कवि सम्मेलन का आयोजन होगा। 27 नवंबर को दिन में होने वाले इस कार्यक्रम में राज्यभर के हास्य व्यंग के नामी गिरामी कवि जुटेंगे। कवि सम्मेलन की विशेषता होगी कि इसमें हिंदी एवं उर्दू भाषा के मूर्धन्य कवियों के अलावे राज्य में बोली जाने वाली सभी क्षेत्रीय भाषाओं यथा मैथिली मगही, बज्जिका, अंगिका व भोजपुरी के भी प्रसिद्ध कवि भाग लेंगे। दामुल एवं मृत्यु दंड जैसी प्रसिद्ध फिल्मों के पटकथा लेखक शैवाल तथा साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित साहित्यकार प्रोफेसर अब्दुल समद भी कार्यक्रम की गरिमा बढ़ाएंगे। कवि सम्मेलन के आयोजन की तैयारियों के संबंध में राजगीर स्थित किला मैदान में साहित्यकारों एवं साहित्य प्रेमियों की बैठक हुई। इसमें निर्णय लिया गया कि कवि सम्मेलन में जिला भर के लोगों को आमंत्रित किया जाए। एकमत से यह निर्णय लिया एक इस तरह के साहित्यिक कार्यक्रम है में युवा वर्ग के लोगों को विशेष रुप से सहभागिता कराई जाए जिससे उनमें साहित्य के प्रति प्रेम जगे तथा उनमें मानवीय मूल्यों का अधिक से अधिक विकास हो। लोगों ने कहा कि साहित्य लोगो को जोड़ने का काम करता है। यह लोगो को संवेदनशील बनाता है। साहित्य प्रेमियों ने जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन एसएम को इस भव्य आयोजन के लिये आभार प्रकट किया। लोगों ने कहा कि इससे एक सकारात्मक व सृजनात्मक माहौल बनेगा। बैठक में डीसीएलआर राजगीर प्रभात कुमार, डीपीआरओ लालबाबू, बीडीओ गिरियक उदय कुमार, बीडीओ राजगीर राजीव रंजन, अंचलाधिकारी गिरियक एवं राजगीर, राजगीर के साहित्यप्रेमी निरंजन कुमार, सुधीर उपाध्याय, कवि उमेश कुमार उमेश, भारत मानस, सुरेंद्र राजवंशी, रामविलास एवं अन्य संबंधित लोग उपस्थित थे।

Check Also

बिहार में बाढ़ :: चुटियाही के पास कोसी नदी का तटबंध टूटा, कुनौली व कमलपुर का सीधा संपर्क निर्मली से कटा

सुपौल/निर्मली : कोसी नदी के अंदर बना सिकरहट्टा-मझारी निम्न बांध गुरुवार की देर रात करीब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *