Breaking News

पंजाब :: ​”नशा मुक्ति केन्द्र” से बिक रही थी नशीली दवाईयां, कई कर्मचारी गिरफ्तार

जालन्धर(राजीव धम्मी) : देहात पुलिस ने सिविल अस्पताल नकोदर में चल रहे नशा छुड़ाओ केन्द्र के कर्मचारियों​ को नशीली दवाईयां बेचते हुए रंगे हाथों काबू किया । आरोपियों की पहचान नशा छुड़ाओ केन्द्र की स्टाफ़ नर्स आशा रानी पुत्री हरी सिंह निवासी गाँव कुलार थाना शाहकोट, नशा छुड़ाओ केन्द्र का काउंसिलर मनिंदर सिंह पुत्र प्रकाश सिंह निवासी गाँव सांगना थाना चाटीविंड अमृतसर, कंप्यूटर ऑपरेटर जगजीत सिँह उर्फ़ जग्गी निवासी सन्धु च्ठठा कपूरथला और चपड़ासी राजेंद्र कुमार उर्फ़ आशु पुत्र रमेश कुमार निवासी भगत सिँह नगर,नकोदर के अलावा नशा करने के आदी चरणजीत उर्फ़ लडडू पुत्र गुरनाम सिंह व गुरिंदर सिँह उर्फ़ भिन्दा पुत्र हरपाल सिंह निवासी गाँव कंगना, नकोदर के रूप में हुई । एस्.एस्.पी गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने जानकारी देते हुए बताया कि डी.एस्.पी. मुकेश कुमार की अगुवाई में थाना सदर नकोदर के एस्.एच्.ओ. ओन्कार सिंह की हिदायितों पर एस्.आई. परमजीत सिंह द्वारा की गयी कार्यवाई दौरान आरोपियों को गिरफ्त किया गया था । इनसे नशा छुड़वाने के लिए दी जाने वाली 1000 गोलियां बरामद हुईं । आरोपियों से पूछताछ के दौरान पता चला कि चपड़ासी रजिंदर कुमार को स्टाफ नर्स आशा रानी व काउंसिलर मनिंदर सिंह बुपरोनोरफिन नाम की नशीली गोलीयां बेचने के लिए देते थे । स्टाफ नर्स आशा रानी कम्प्युटर ऑपरेटर जगजीत सिंह की ममेरी बहन है, जिसके पास स्टॉक रजिस्टर भी था । वह स्टॉक रजिस्टर में ज़्यादा गोलियां चढ़ा देता था और मरीज़ों को कम दवाई देता था और बाकी बची दवाई बाहर बेचने के लिए दे देता था । इनके साथ चरणजीत उर्फ़ लड्डू व गुरिंदर सिंह उर्फ़ भिंदा जो कि नशा करने के आदी हैं और पिछले 3-4 महीनों से इनसे नशे कीं गोलियां खरीद रहे थे, उनको भी गिर्फ़्तार कर लिया गया है । गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों के खिलाफ कार्यवाई की जा रही है ।

Check Also

दरभंगा कंकाली मंदिर के पुजारी की गोली मारकर हत्या, 3 अपराधियों की आक्रोशित लोगों ने की पिटाई एक की मौत 2 की हालत गंभीर एक भक्त भी गोली लगने से ज़ख्मी

राजू सिंह की रिपोर्ट दरभंगा : दुर्गापूजा के महानवमी की अहले सुबह दरभंगा में अपराधियों …