Breaking News

सीबीएसई रिजल्ट :: रक्षा गोपाल देश की टॉपर तो शिवा बनी स्टेट टॉपर

पटना : केंद्रीय माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) 12वीं कक्षा का रिजल्‍ट घोषित हो चुका है. सीबीएसई के 12वीं के नतीजों में एक बार फिर से बेटियों का जलवा रहा है.एमिटी इंटरनेशनल स्कूल की छात्रा रक्षा गोपाल ने 12वीं में 99.6% अंक के साथ पूरे देश में टॉप किया है तो बिहार में भी एक बिटिया ने स्टेट टॉपर बनने का गौरव हासिल किया है.रक्षा इन्टर की परीक्षा में आर्ट्स स्ट्रीम से है तो साइंस स्ट्रीम में 97 फीसदी अंक ला कर बिहार के गया की रहने वाली शिवा स्टेट टॉपर बनी हैं. शिवा ने ये अंक साइंस स्ट्रीम में हासिल किये हैं.

रक्षा की सफलता का राज
अपनी सफलता का श्रेय रक्षा ने अपनी मां रंजनी गोपाल को दिया है। रक्षा ने 10वीं कक्षा में भी 10 सीजीपीए हासिल किया था।  एमिटी की छात्रा रक्षा गोपाल परिवार के साथ सेक्टर-61 रॉयल टावर में रहती हैं। उनके पिता गोपाल श्रीवासन हैं और वह गुजरात पेट्रोलियम कॉपोरेशन में सीएफओ हैं। मां रंजनी गोपाल गृहणी हैं। उनकी बड़ी बहन प्रेरणा गोपाल हैं  जो इस समय बीएससी थर्ड ईयर में हैं। रक्षा ने बताया कि वह रोज सुबह के समय चार से पांच घंटे पढ़ती थीं। सेक्टर-44 एमिटी की छात्रा रक्षा गोपाल ने सीबीएसई की 12वीं परीक्षा में ऑल इंडिया आर्ट फिर स्कूल जाने के लिए तैयार होती हैं। दोपहर बाद स्कूल से आकर कुछ देर आराम करती हैं और शाम के वक्त थोड़ा बहुत खेलने के बाद फिर अपनी पढ़ाई में जुट जाती हैं। रोजाना औसतन छह से आठ घंटे पढ़ाई करना ही उनकी समफलता का मूलमंत्र है। उन्होंने कहा कि यह सफलता उनकी नहीं बल्कि उनकी मां की सफलता है। मां ही हैं जो उनके हर एक चीज का विशेष ध्यान रखती हैं।

रक्षा पर कभी पढ़ने का नहीं बनाया दबाव

रक्षा गोपाल के पिता गोपाल श्रीनिवासन, गुजरात स्‍टेट पेट्रोलियम कॉरपोरेशन में चीफ फाइनेंस ऑफिसर हैं। उनका कहना है कि अगर बच्चों के अच्छे नंबर चाहते हैं तो दबाव देकर पढ़ाई करने के लिए विवश नहीं करें। उन्होंने कहा कि मैंने रक्षा पर कभी भी किसी चीज की पाबंदी नहीं लगाई। जब कभी भी बच्चों ने हॉलीडे का टूर बनाया हम तुरंत उनके साथ चल दिए। मेरा मानना है कि अगर आप किसी काम को दबाव में कराते हैं तो वह काम अच्छा होने के बजाय खराब हो जाता है। मैं ये नहीं कहता कि बच्चों को पढ़ाई करने के लिए बोले नहीं लेकिन किसी विशेष विषय का चुनाव करने या फिर हर समय कॉपी और किताब लेकर बैठे रहने के लिए भी दबाव नहीं बनाएं।

शिवा को खुद पर नहीं हुआ भरोसा
वहीं गया की रहने वाली शिवा एक साधारण परिवार से आती हैं. उनके पिता अरविंद कुमार को-ऑपरेटिव में पदाधिकारी हैं जबकि मां नीलम हाउस वाइफ हैं. शिवा को 10 वीं के नतीजों में भी 10 सीजीपीए मार्क्स मिले थे. बेटी की सफलता से उत्साहित मां-बाप को बधाई देने वालों का तांता लगा है.

शिवा को मैथ और फिजिकल एजुकेशन में 99 फीसदी अंक मिले हैं. शिवा ने कहा कि मैंने परीक्षा में टॉप किया है इसका मुझे काफी देर तक भरोसा नहीं हुआ लेकिन जब मेरे पैरेंटस और टीचर्स ने मुझे विश किया तो लगा कि मेरी मेहनत रंग ला गई.

शिवा 12वीं के बाद इंजीनियरिंग और फिर यूपीएससी के माध्यम से आईएएस बनना चाहती हैं. बातचीत में शिवा ने बताया कि जी एडवांस का रिज्लट अवेटेड है जिसके आते ही मेैं इंजीनियरिंग में दाखिला लूंगी. शिवा की सफलता का मूल मंत्र उनका नियमित दिनचर्या और कमजोर विषय पर फोकस करना रहा. बेटियों के सफलता के सवाल पर शिवा ने कहा कि लिंग भेदभाव से उपर उठ कर किसी भी चीज पर फोकस करना चाहिये क्योंकि मेहनत के आगे ये सारी चीजे मायने नहीं रखतीं..

गौरतलब है कि इस साल 9 मार्च 2017 से 29 अप्रैल 2017 के बीच हुई 12वीं की परीक्षा में 10,98,981 छात्रों ने हिस्‍सा लिया था. इस साल बोर्ड ने ग्रेस मार्क्स संबंधी मॉडरेशन पॉलिसी को लागू करने का फैसला किया है. पटना जोन में इस बार लगभग एक लाख परीक्षार्थी शामिल हुए थे. 12 वीं के रिजल्ट को लेकर परीक्षार्थियों में खासा उत्साह है. नतीजे सुबह के 9 बजे ही आने वाले थे लेकिन इसे 10 बजकर 30 मिनट पर जारी किया गया. नतीजों की बात करें तो पटना जोन में पिछले साल 74 फीसदी रिजल्ट हुआ था. पिछली बार मैथ का पेपर टफ होने के कारण रिजल्ट पर इसका असर देखने को मिला था. इस बार स्कूल प्रबंधनों को 80 फीसदी से ज्यादा रिजल्ट आने की उम्मीद है. सीबीएसई सभी 10 सर्किल्स का रिजल्ट एक साथ जारी कर दिया है. परीक्षार्थी अपने रिजल्ट www.cbse.nic.in पर देख सकते हैं रिजल्ट

Check Also

अब पेट्रोल पंपों से भी मिलेगा “छोटू” सिलेंडर

– छोटे उपयोगकर्ताओं के लिए कम कम औपचारिकता का कनेक्शन– 5 किलो वाला एलपीजी सिलेंडर …