बिहार :: NEET में अनुज ने पायी सफलता, कामयाबी के पीछे का असली सच…

1

दरभंगा : एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए आयोजित राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) में अनुज कुमार सिंह ने सफलता हासिल की है। दरभंगा के लहेरियासराय स्थित जनकपुरी निवासी राम शंकर प्रसाद सिंह और आशा कुमारी का पुत्र अनुज कुमार सिंह को AIR-8454 रैंक प्राप्त हुआ है। अनुज को नीट में 99.216208 प्रतिशत यानि कुल 562 अंक मिले जिसमें भौतिकी में 116, रसायन शास्त्र में 146 और जीव विज्ञान में 300 अंक शामिल है।

साधारण परिवार के अनुज ने इस बड़ी सफलता का श्रेय अपने पिता को देते हुए कहा कि मुझे पापा ने काफी प्रोत्साहित किया और डॉक्टर बनने के लिए मुझे बचपन से ही प्रेरित भी किया। अनुज कुमार सिंह के पिता राम शंकर प्रसाद सिंह उर्फ शंकर जी शहर के प्रसिद्ध पैथोलॉजिस्ट डा. अजीत कुमार के अजीत डायगोनॉस्टिक में लैब टेक्नीशियन के पद पर वर्षों से कार्यरत हैं जबकि अनुज की माँ आँगनबाड़ी सेविका है।

पिता का सपना पूरा करना मकसद
अनुज के पिता का सपना है कि उनका बेटा डॉक्टर बने।अनुज इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए मौज-मस्ती की उस  दुनिया से एकदम कटा हुआ था, जिसमें उसकी उम्र के ज्यादातर युवा विचरना पसंद करते हैं।

टीम स्वर्णिम से विशेष बातचीत
अनुज के पिता ने टीम स्वर्णिम से विशेष बातचीत में बताया कि डॉक्टरों को समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में नियुक्ति से इंकार नहीं करना चाहिए, क्योंकि इन इलाकों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं की सख्त जरूरत है। डॉक्टरों पर समाज की बड़ी जिम्मेदारी है। इस जिम्मेदारी के कारण डॉक्टरों को ग्रामीण क्षेत्रों में नियुक्ति से मना नहीं करना चाहिए, बल्कि इसे सहर्ष स्वीकारना चाहिए। गांवों में डॉक्टरों की सख्त जरूरत है और इसलिए वो चाहते हैं कि अनुज डॉक्टर बन इस जरूरत को पूरा करे।
नीट की परीक्षा पास कर अनुज ने अपने पिता के सपनों को साकार करने के लिए ऊंची छलांग लगा दी है। अब वो दिन ज्यादा दूर नहीं जब अनुज अपनी पढ़ाई पूरी कर डॉक्टर बन कर अपने पिता के सपनों व उम्मीद पर पूरी तरह खड़ा उतरेगा।

जानें सफलता का असली राज ,देखें एक्सक्लूसिव वीडियो…