पंजाब :: यहाँ बिजली बिभाग पर है दबंगों का कब्ज़ा।

0

क्या अपने कभी सोचा है कि बिजली के ट्रांसफार्मर पर खुद चढ़ कर उसे ठीक करेंगे?? नही ना, मगर पंजाब के फगवाड़ा के समीप दरवेश गाँव मे हमारी टीम को कुछ ऐसा हीं नजारा देखने को मिला जो बिजली विभाग की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करता है। पंजाब के दरवेश गाँव के एक ट्रांसफार्मर को कुछ लोग ठीक करने एव ट्रांसफार्मर की मेंन तारे बदल रहे थे। ट्रांसफार्मर के पास ही दो बाइकें खड़ी थी और बाइक पर दूध की केन टंगी थी जिसे देख हमे कुछ शक हुआ कि शायद ये लोग बिजली विभाग से नही हैं और जब हमने ट्रांसफार्मर पर चढ़े व्यक्ति से पूछा कि क्या आप बिलजी विभाग से है तो उन्होंने जो कहाँ उससे सुन कर आप हैरान रह जाएंगे जी हां पूछे जने पर उन्होंने बताया कि वह बिजली विभाग से नही बल्कि वह सब लोग किसान है, और फिर उन्होंने बताया कि तीन दिन पहले उन्होंने बिजली विभाग की हेल्पलाइन न० पर ट्रांसफार्मर खराब होने की शिकायत की थी परंतु कोई ठीक करने नही आया इस संबंध में उन्होंने एस डी ओ एव कार्यपालक अभियंता से भी सुचना दी उन्होंने भी सिर्फ और सिर्फ आश्वासन ही दिए। लाईन ठिक कर रहे व्यक्ति से जब हमने पूछा कि अगर आपको कुछ हो जाए या ट्रांसफार्मर ठीक करते करते आपके साथ कोई अनहोनी हादसा हो जाता है तो उसका ज़िमेदार कौन होगा तो वहाँ मौजूद लोगों नें कहाँ की हम मजबूर है। लाइट पिछले तीन दिनों से बंद है खेतो की मोटर ट्रांसफार्मर खराब होने की वहज से बंद पड़ी है और बिजली विभाग में कोई सुनता भी नही है। और तो और हमने वहाँ ट्रांसफार्मर ठीक कर रहे व्यक्तिओ से ये भी कहा कि आप ऐसे सरकारी टांसफार्मर पर नही चढ़ सकते ये एक अपराध है जब हमने उनसे ये पूछा तो उन्होंने जवाब दिया गाँव मे एक व्यक्ति है जो कि पेशे से डॉक्टर है जिसके ईशारे पर यहाँ के एस डी ओ और बिजली विभाग के आला अधिकारी काम करते है। उनका कहना था कि इस डॉक्टर का इतना दब-दबा है कि डॉक्टर के कहने पर ही बिजली विभाग के लाइनमैन को जरूरत का बिजली का सामान मिलता है और जब तक डॉक्टर साहब का हुक्म ना हो तब तक बिजी विभाग के अपने लाइनमैन को भी जरूरत का सामान नही दिया जाता। जब इस संबंध में एस डी ओ से बात की गई तो उन्होंने पहले तो एक घंटे बाद ट्रांसफार्मर ठीक करने के लिए लाइनमैन को मौके पर भेजा और जब उनसे इस डॉक्टर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने ऐसा कुछ होने से साफ इंकार कर दिया।

जब कि हमारी टीम बची हुई बिजली बिभाग की तार डॉक्टर की दुकान पर गाँव के लोगो के साथ रखने पहुंची तो पहले तो डॉक्टर साहब ने कहा कि दुकान में रख दो पर जैसे ही हमारे कैमरामैन के कैमरे दिखें तो डॉक्टर साहब दुकान से भाग खड़े हुए और कैमरे से छुपते हुए भाग कर किसी की दुकान में जा कर छिप गए। उनकी क्लिनिक से हमे कोई दवाई नही मिली, मिलें तो सिर्फ और सिर्फ बिलजी विभाग के उतरे हुए लोगो के मीटर कुछ बिजली विभाग की फाइलें और बिजली विभाग की ही बिल रिकवरी की लिस्ट जो कि एक बिजली विभाग के मुलाजिम के पास होनी चाहिए थी ना कि एक गैर सरकारी डॉक्टर के पास। स्थानीय लोगो का कहना है कि उनके गाँव मे बिजली के सभी काम ये डॉक्टर ही करता है ना तो यहाँ एस डी ओ की चलती है ना ही विभाग के ईन्जिनियरों की और ना ही लाइनमैन की।स्थानीय लोगो ने बताया कि डॉक्टर ये सब यहाँ के एस डी ओ की मदद से ही कर रहा है।अब देखने की बात ये है कि इस खुलासे के बाद बिजली विभाग के आला अधिकारी इस डॉक्टर एस डी ओ एव इक्स0 ई0 के खिलाफ क्या कार्यवाही करते है और कितनी जल्दी करते है। दूसरा यहाँ के लाइनमैन का कहना है कि सात गाँव के लिए वह अकेला ही एक लाइनमैन है जब कि विभाग के चार से पांच लाइनमैन होने चाहिए और गाँव मे सरकारी सामान रखने को बिजली विभाग का कोई स्टोर भी नही है।

रिपोर्टर गगनदीप सिप्पी के साथ कैमरामैन राजीव धामी की फगवाड़ाए पंजाब से विशेष रिपोर्ट।