बिहार :: 24 साल का हुआ लखीसराय, धूमधाम से मना जिला स्थापना दिवस

0

लखीसराय (रजनीश कुमार) : मूलभूत सुविधाओं के लिए मुंगेर से काटकर यह जिला 3 जुलाई 1994 को बनाया गया था। उस समय से लेकर आज तक लखीसराय जिले में कई बदलाव हुए हैं। इंजीनियरिंग कॉलेज पॉलिटेक्निक कॉलेज लखीसराय स्टेशन का रिमोडलिंग किऊल जंक्शन का मॉडल स्टेशन में परिवर्तित तेतरहाट से चानन में नया पुल NH-80 का विकास लखीसराय का ड्रीम प्रोजेक्ट बाईपास का निर्माण किऊल गया रेलखंड इलेक्ट्रिफिकेशन दोहरीकरण किऊल लखीसराय पर बन रहे नयें रेलवे ब्रिज बौद्ध एवं पाल अवशेषों की मूर्तियां के लिए संग्रहालय का निर्माण कराने तेतरहाट को शिक्षा हब मे बदलने नई केंद्रीय विद्यालय बनवाने जैसे कई लक्ष्य हासिल कर लिया है।लखीसराय बिहार सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री सह प्रभारी मंत्री श्रवण कुमार के द्वारा जिले के 24वाँ जिला स्थापना दिवस पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का उद्घाटन दीपप्रज्वलित कर किया गया। उनके साथ मंचपर डीएम सुनील कुमार, डीडीसी विनय कुमार मंडल, एस डी ओ डा0शैलजा शर्मा, जिला जदयू अध्यक्ष रामानंद मंडल, जिला परिषद अध्यक्ष रामाशंकर शर्मा को स्कूली बच्चों के द्वारा पुष्प गुच्छ लेकर स्वागत किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत पवन रावत की स्वागत गान से किया गया।

बिहार सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री सह प्रभारी मंत्री श्रवण कुमार ने मंच से संबोधित करते हुए कहा कि बिहार में 16 हजार बेटीयो साईकिल दिया गया। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में 50 प्रतिशत महिलाओं को आरक्षण दिया गया। नौकरी में महिलाओं को विशेष महत्व दिया गया। सात निश्चय के तहत गांव गांव में हर घर में नल का जल पीने की व्यवस्था की जायेगी। हर गली मोहल्ले में नाली और गली का पक्कीकरण करेंगे। गांव गांव में शौचालय का निर्माण कार्य जारी है। बिहार को बाहरी शौच मुक्त करने के लिए सभी का सहयोग की जरुरत है। आप अपने घर के पड़ोसी, मुहल्लों के सभी लोगों से शौचमुक्त करने के लिए आगे आने की जरूरत है। 2018 तक हर सूदुर देहात के घर घर बिजली पहुंचायेगी। लखीसराय की बिकास के लिए हमने बाईपास सडक़, कुन्दर बराज, इंजीनियरिंग कॉलेज, कुशल पाठ्यक्रम के लिए शिक्षा के क्षेत्र में प्रत्येक छात्रों को चार लाख रुपये की क्रेडिट लोन दिया जा रहा है ।जो बाहर जाकर उच्च शिक्षा ग्रहण कर सकते है। बेरोजगार युवाओं को हूनर सिखने के लिए निबंधन सह परामर्श केंद्र मे दो साल तक एक हजार रुपए दिया जा रहा है। महिसोना गांव मे कौशल विकास योजना के तहत शिक्षा दिया जा रहा है। शराबबंदी से बिहार में बदलाव आया हैं। चोरी छिपे बेचने वाले के खिलाफ पुलिस सख्त हो नहीं तो बख्शे नहीं जायेंगे। शराबबंदी के बाद 16 प्रति शत मिठाई बिकने लगी। 44 प्रतिशत रेडिमेड वस्त्र बिकने लगी। बाईक का एक्सिडेंट मे 55 प्रतिशत की कमी आई हैं। बालविवाह और दहेज प्रथा बंदी कर एक नया मिशाल बनाने का लक्ष्य हैं।