Breaking News

बिहार :: गहबर की जमीन को लेकर दो गुटों में हिंसक झड़प रोड़ेबाजी व आगजनी, बीजेपी विधायक पर भी हुआ जानलेवा हमला धारा 144 लागू

picsart_10-27-08-07-33-320x297दरभंगा: सिंहवाड़ा प्रखंड की भरवाड़ा पंचायत में गहवर की जमीन को लेकर हुए विवाद में जम कर उपद्रव हुआ. नाराज लोगों ने चार बाइकों में आग लगा दी और कई को क्षतिग्रस्त कर दिया. इस जमीन को लेकर यहां दो गुटों सहनी व यादवों के बीच में काफी लंबे समय से तकरार चल रहा है। तनाव के मद्देनजर प्रशासन ने इस जमीन पर निषेधाज्ञा लगा रखी है।

प्रशासन ने धारा 144 लगा दिया है और भारी संख्या में सुरक्षा बल को तैनात किया है. पुलिस ने हंगामा और तोड़फोड़ कर रहे 15 लोगों को हिरासत में लिया है.

मिली जानकारी के मुताबिक, सिंहवाड़ा थाना क्षेत्र के भरवाड़ा में स्थित गुणी गरबी दयाल के गहबर की जमीन पर गुरुवार को पूजा के बाद दूसरे पक्ष के दर्जन भर से अधिक लोगों के द्वारा हमला के बाद दोनों ओर से जमकर रोड़ेबाजी हुई। इसमें दर्जनभर से अधिक लोग जख्मी हो गए। भगदड़ में पूजा करने वाले दर्जनों श्रद्धालुओं को चोटें आई।

आलम यह हो गया कि आसपास के दुकानदार अपनी दुकान खुला छोड़ कर ही जान बचाकर भागे। बाद में एसडीओ गजेंद्र प्रसाद सिंह एसडीपीओ दिलनवाज अहमद के नेतृत्व में बज्र वाहन के साथ आई पुलिस ने बलवाइयों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। लगभग एक घंटे तक दोनों ओर से हुई रोड़ेबाजी में बाजार रणक्षेत्र बना रहा।  तीन बाइक को क्षतिग्रस्त कर दिया गया और तीन अन्य को आग के हवाले कर दिया गया। इस सिलसिले में अब तक 15 लोगों को हिरासत में लिया गया है।

पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार सुबह करीब 9 बजे बड़ी संख्या में महिलाओं सहित अन्य श्रद्धालु गहबर की जमीन पर बाजा बजाते हुए पहुंच गए। मौके पर तैनात पुलिस बल ने उन्हें जमीन के पास जाने से रोक दिया। कुछ देर बाद विधान पार्षद अर्जुन सहनी, विधायक जीवेश कुमार सहित सैकड़ों लोग बाजे गाजे के साथ गरबी दयाल गोनू झा का जयकारा लगाते हुए वहां पहुंच गए। प्रखंड विकास पदाधिकारी डॉ. शशि प्रकाश ने धारा 144 का हवाला देते हुए उन्हें रोक दिया। सभी लोग वहीं धरना पर बैठ गए। भीड़ के आगे प्रशासन बौना पड़ता गया। सभी लोगों ने जमीन पर पहुंचकर पूजा शुरु कर दी।

पूजा समाप्त होते ही बगल के एक कमरे में बैठे दूसरे पक्ष के एक दर्जन से अधिक लोगों ने लाठी, डंडे और फरसा से भीड़ पर हमला कर दिया। इसके बाद दोनों ओर से रोड़ेबाजी शुरु हो गई। मंदिर के बगल में स्थित एक झोपड़ी में लोगों ने आग लगा दी। ग्रामीणों के जुटने पर दूसरे पक्ष के हमलावर फिर उसी घर में छिप गए। लोगों ने घर को चारों ओर से घेर लिया। लेकिन बड़ी संख्या में पुलिस बल के पहुंचने के बाद मची भगदड़ के कारण हमलावर उस घर से निकल कर भागने में सफल रहे। ग्रामीणों का आरोप है कि हमलावरों ने पिस्तौल से दो चक्र गोली भी चलाई। हालाकि डीएसपी दिलनवाज अहमद इससे इनकार करते हैं।
क्या है मामला :

वाकपटुता के धनी गोनू झा के समकालीन कहे जाने वाले गुणी गरबी दयाल सिंह के गहबर की यह जमीन है। ग्रामीणों के अनुसार इसमें 450 वर्षो से पूजा चल रही है। इस जमीन को राजे पंचायत के पूर्व मुखिया चंद्र किशोर यादव ने गहबर के एक बंसज से वर्ष 1987 मेंं रजिस्ट्री करवा लिया। तब से कई बार जमीन पर कब्जे के लिए ग्रामीणों के साथ विवाद पैदा होता रहा है।

जमीन के एक भाग में पूर्व मुखिया ने अपने लिए दो कमरे बना लिए हैं। जमीन के एक भाग में सार्वजनिक दुर्गा मंदिर भी बन गया है। यह गुदरी बाजार से सटे कैंपस में है। चार दिनों पूर्व वहां पूजा करने गई महिलाओं के साथ बदसलूकी के बाद जब मामला गर्म हुआ तो अंचलाधिकारी स्वयंबर झा और थानाध्यक्ष राशीद परवेज ने आकर मामला को शांत कराया था और उक्त भूखंड पर धारा 144 लागू कर दी थी। दो  दिन तक पूजा रूकी रही। इसके बाद ग्रामीणों ने तय किया कि 27 अक्टूबर से वहां पूजा होगी। भाजपा के विधायक जीवेश कुमार एवं विधान पार्षद अर्जुन सहनी ने भी वहां जाकर इसे अपनी सहमति दी।

दोनों पक्षों के बीच बढ़ते विवाद की जानकारी मिलने पर 26 अक्टूबर की शाम एसडीपीओ दिलनवाज अहमद और एसडीओ गजेंद्र प्रसाद सिंह गहबर की जमीन पर पहुंचे और लोगों को बताया कि यहां धारा 144 लागू की गई है इसीलिए यहां पूजा नहीं की जा सकती। उन्होंने 15 दिनों का समय समाज के लोगों को दोनों पक्षों के बीच समझौता के लिए दिया और 15 अक्टूबर तक इस मामले को सामाजिक स्तर से निपटाने की बात कही। इसबीच पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार आज बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां पूजा के लिए पहुंच गए और पुलिस बल की संख्या कम होने के कारण जमकर बवाल हुआ।

Check Also

इंतजार खत्म ! आ गया नगर निगम चुनाव की नई तारीख, देखें शेड्यूल…

डेस्क : बिहार राज्य निर्वाचन आयोग ने निकाय चुनाव का शेड्यूल जारी कर दिया है। …