नोटबंदी :: ब्लैकमनी वालों ने लगाई जुगाड़ टेक्नोलाॅजी, मजदूरों को मिला नया रोजगार

4

picsart_11-15-11-26-14-320x167दरभंगा : कालेधन संग्रह कर रखने वाले जहाँ गूगल पर कालेधन को सफेद बनाने के तरीके सर्च कर रहे हैं वहीं दूसरी ओर ब्लैक मनी को व्हाईट करने की एक नई तरकीब कालेधन रखने वाले अपना रहे हैं. बड़े बड़े महाजन नोट एक्सचेंज कराने के लिए मजदूरों को लाईन में खड़े कर 200-300 रूपये रोजाना दे रहे हैं. मजदूरों को कुदाल छोड़ 500-1000 के पुराने नोट थमाकर बैंको व डाकघरों में नोट बदलवाने हेतु रोजगार पर रख लिए हैं.

चलिए आपको पुरे मामले को विस्तार से अवगत कराते हैं. मामला यह है कि घर में पांच सौ तथा हजार के नोटों की गड्डियां जमा कर रखे महाजनों ने अपने ब्लैक मनी को व्हाइट बनाने के लिए नया तरीका ढूंढ़ निकाला है. पुरानी करेंसी को बदलवा कर नई करेंसी लेने के लिए दिहारी पर मजदूरों को रख लिया है. इनके माध्यम से नोटों की अदला-बदली करवा रहे हैं. शुरुआती दिनों में तो ये महाजन शांत रहे, लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता जा रहा है, बड़े जमाखोर सामने आने लगे हैं. सरकार की नजर से दूर मोटी रकम छिपाकर रखने वालों की परेशानी बढ़ती जा रही है. भागते भूत की लंगोटी काफी की तर्ज पर अपने नोटों को बदलवाने में जुट गये हैं. कुछ महाजन जहां बट्टा कटवाकर नोट बदलने का खुला ऑफर दे रहे हैं, वहीं मजदूरों के माध्यम से भी करेंसी चेंज कराने का तरीका इजाद कर लिया है.

अपने विश्वास पात्र मजदूरों के माध्यम से ये महाजन नोट बदलवाने का काम कर रहे हैं. बताया जाता है कि मजदूर महाजन से नोट लेकर अपने परिचय पत्र का इस्तेमाल कर नयी करेंसी लाते हैं. इसके एवज में उन्हें तीन सौ रुपये दिये जाते हैं. मजदूर एक दिन में दो से तीन जगहों पर नोटों की अदला-बदली करवाकर छह से नौ सौ रुपये तक कमा रहे हैं. बैंक शाखा तथा एटीएम पर समय बीतने के संग भीड़ घटने के बदले बढ़ते जाने की एक वजह यह भी कही जा रही है. मजदूरों के साथ इस तबके की महिलाओं ने भी बैठे-बिठाये रोजगार ढूंढ़ लिया है. एटीएम पर महिलाएं किसी का भी पैसा निकलवा देती हैं. पुरुषों की लाइन लंबी होने के कारण जरूरतमंद ऐसी महिलाओं को अपना कार्ड देकर पैसे की निकासी करवा रहे हैं. केएसडीएसयू एसबीआइ शाखा के एटीएम पर सोमवार को करीब आधा दर्जन ऐसी महिलाएं नजर आयी. डेढ़ सौ से दो सौ रुपये लेकर पूरे दिन दूसरे के एटीएम से राशि निकालती रही.एक ग्राहक ने बताया कि चार घंटे लाइन में खड़े होने से बेहतर है कि डेढ़ सौ-दो सौ रुपये खर्च कर तुरंत पैसा हासिल कर लिया जाय. उसने यह भी कहा कि जैसे ही मौका मिलेगा अपने कार्ड का पिन बदल लेंगे.