Breaking News

बिहार :: कार्यवाहक कुलपति डा0 विद्याधर मिश्र ने सम्भाला कार्यभार, दरबार हॉल में सम्मान समारोह

PicsArt_02-02-09.25.40-300x250दरभंगा :  दरबार हॉल में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया।कासिंदसंविवि के तत्कालीन कुलपति व कार्यवाहक कुलपति दोनों को डा0 अरविंद कुमार पांडे ने मंच पर बुके प्रदान कर स्वागत किया। कार्यवाहक कुलपति डा0 विद्याधर मिश्र ने गुरुवार को पदभार संभालने के बाद समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि वे निष्पक्ष भाव से सभी कार्य करेंगे। राग,द्वेष,ईर्ष्या व लोभ से ही असंवैधानिक कार्य हो जाते हैं। खासकर संचिकाओं के निष्पादन में इसका विशेष ख्याल रखा जायेगा।

पूर्व कुलपति डा0 अरविंद कुमार पांडे ने कहा कि छात्र व संस्था हित सर्वोपरि है।इसलिए छात्रों की उपस्थिति बढ़ाने पर विचार करना ही होगा। उन्होंने वीसी को आगाह किया कि नकारात्मक सोच वाले लोगों से दूर रहने की जरूरत है। इसके अलावा नए लोगों को भी काम का अवसर मिलना चाहिए ताकि अनुभवी लोगों की दूसरी पंक्ति खड़ी की जा सके। ऐसा करने से विवि के कार्यों की गतिशीलता बनी रहेगी। पीआरओ निशिकांत प्र0 सिंह ने बताया कि मौके पर मौजूद सभी कर्मियों,शिक्षकों व पदाधिकारियों से वीसी डा0 मिश्र ने साफ कहा कि विश्वविद्यालय कुलपति का नहीं बल्कि छात्रों व शिक्षकों का होता है। आप सभी हमें सहयोग करें, हम आगे बढ़कर रहेंगे। वैसे आपलोगों के उत्साह व उमंग से साफ जाहिर होता है कि विवि का विकास होकर रहेगा। उन्होंने कहा कि तीन पीढ़ियों से हम विवि का नमक खा रहे हैं। समय आया है कुछ नया करने का प्रयास वे जरूर करेंगे। नियमानुकूल प्रोन्नति व बकाया राशि आदि भी देने का काम होगा। साथ ही उन्नत विचारों का वे हमेशा स्वागत करेंगे।

PicsArt_02-02-09.23.11-300x200वहीं अध्यक्षीय भाषण देते हुए अपने विदाई समारोह में तत्कालीन कुलपति डा0 देवनारायण झा ने यह कह कर सभी को चौंका दिया कि विवि में कुछ लोगों का काम ही रह गया है आरोप लगाकर राजभवन फैक्स करना। बेहतर होगा सकारात्मक सोच को बढ़ावा दें तभी विकास सम्भव है। उन्होंने कुलपति से अनुरोध किया कि उपशास्त्री कालेज के कर्मियों को भी प्रोन्नति मिलनी चाहिए। भावुक होते हुए उन्होंने कहा कि हमारा किसी से मतभेद हो सकता है लेकिन इसका असर विश्वविद्यालय पर नहीं पड़ना चाहिए। विश्वविद्यालय को बढ़ने दीजिये। यहीं से संस्कृत व संस्कृति दोनों विकसित होती है।इसलिए ऐसे लोग जरा दया करें। अंत में उन्होंने कहा कि वे विवि के उत्थान के लिए हमेशा तैयार रहेंगे। वहीं छात्र कल्याण अध्यक्ष डा0 श्रीपति त्रिपाठी ने कहा कि कर्मी व पदाधिकारी एकजुट होकर मन से कार्य करेंगे तो कुलपति की महत्ता और बढ़ जायेगी।

मंच संचालन व धन्यवाद ज्ञापन डा0 शशिनाथ झा ने किया। पूर्व कुलपति डा0 उपेन्द्र झा वैदिक, डा0 लक्ष्मीकांत झा,कर्मचारी रविन्द्र झा समेत कई लोगों ने कार्यक्रम को सम्बोधित किया।

Check Also

WIT दरभंगा बने देश का पहला महिला आईआईटी, वैज्ञानिक डॉ. मानस बिहारी वर्मा को दें सच्ची श्रद्धाजंलि – पुष्पम प्रिया चौधरी

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट : डब्ल्यूआईटी को देश का पहला महिला आईआईटी के …