Breaking News

बिहार :: आधुनिकता एवं विरासत की झलक मिलेंगी राजगीर महोत्सव में, 25 नवंबर से होगा शुरू

बिहारशरीफ : आगामी 25 से 27 नवंबर तक मनाए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय राजगीर महोत्सव में विरासत एवं आधुनिकता की झलक मिलेंगी। इस महोत्सव में बिहार की लोक कला एवं संस्कृति का भी समागम देखने को मिलेगा। जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन एसएम ने हरदेव भवन में राजगीर महोत्सव 2017 की तैयारियों से संबंधित बैठक में उक्त बातें कही। उन्होंने कहा कि पूर्व से चली आ रही परंपरागत ग्राम श्री मेला, कृषि मेला, दंगल, तांगा सज्जा, तांगा दौड़ एवं पालकी सज्जा के अलावे इस महोत्सव में कुछ नए आयाम भी जुड़ेंगे। कृषि विभाग अपने पूर्व से लगने वाली प्रदर्शनियों के अलावे विविधताओं से भरे फूलों की भी एक आकर्षक प्रदर्शनी लगाएगा। महोत्सव का मुख्य आकर्षण पुस्तक मेला एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होगा। सांस्कृतिक कार्यक्रमों में देश के ख्याति प्राप्त कलाकारों के अलावे जिला के उभरते हुए कलाकारों को भी अवसर मिलेगा। महिला महोत्सव, विरासत सह सद्भावना यात्रा, व्यंजन मेला, मत्स्य प्रदर्शनी, सूचना एवं जनसंपर्क विभाग की प्रदर्शनी भी आकर्षण के केंद्र होंगे। दहेज प्रथा एवं बाल विवाह उन्मूलन पर आधारित प्रसिद्ध सैंड आर्ट भी देखने को मिलेगा। विभिन्न तरह के खेल प्रतियोगिताएं, नुक्कड़ नाटक, फिल्म फेस्टिवल एवं विभिन्न विभागों द्वारा शुरु की गई नवीन परियोजनाओं को भी प्रदर्शनी के माध्यम से दिखाया जाएगा। राजगीर महोत्सव में देशी एवं विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए व्यापक स्तर पर प्रचार प्रसार भी किए जाएंगे। 

राज्य के सभी जिलों में इस महोत्सव से संबंधित होर्डिंग एवं बैनर लगेंगे, साथ ही एक एफएम रेडियो तथा टेलीविजन के माध्यम से भी इस महोत्सव को प्रचारित प्रसारित किया जाएगा। महोत्सव में मधुबनी पेंटिंग के अलावे पहली बार पत्थर कट्टी की मूर्ति कला एवं जहानाबाद का गोल्डन फाइबर आर्ट को भी प्रदर्शित किया जाएगा। नवनालंदा महाविहार एवं अंतर्राष्ट्रीय नालंदा विश्वविद्यालय के भी स्टॉल होंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि नालंदा जिला के वैसे पुरातात्विक स्थल जो बहुत प्रसिद्ध नहीं है, उनसे संबंधित भी एक प्रदर्शनी लगाई जाए। बैठक में डीआरडीए निदेशक संतोष कुमार श्रीवास्तव, उपसमाहर्ता सुबोध कुमार सिंह, प्रमोद कुमार, राम बाबू, सुरेंद्र कुमार, रविंद्र राम, प्रभात कुमार, रविशंकर उरांव, कार्यपालक पदाधिकारी मुजफ्फर बुलन्द अख्तर, जिला शिक्षा पदाधिकारी विमल ठाकुर, सिविल सर्जन सुबोध प्रसाद सिंह, डीपीआरओ लाल बाबू समेत अन्य संबंधित पदाधिकारी एवं कर्मी तथा अन्य लोग उपस्थित थे।

Check Also

दर दर की ठोकरे खा रहे बुजुर्ग, नही हो रहा विश्वविद्यालय थाना में एफआईआर दर्ज

मामले को अकिंत करने के बजाय उलझाने में लगे है विश्वविद्यालय थाना दरभंगा। विश्वविद्यालय थाना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *