Breaking News

बिहार :: आस्था की डूबकी में मची भगदड़ में तीन श्रद्धालुओं की मौत

बीहट (बेगूसराय)धर्मवीर कुमार संवाददाता: कार्तिक पूर्णिमा में आस्था की डूबकी लगाने के दौरान अफवाह के कारण मची भगदड़ में तीन महिला श्रद्धालुओं की मौत एवं दो दर्जन से अधिक श्रद्धालु व आधा दर्जन पुलिस जवानों के जख्मी होने से अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया। इस घटना के बाद जिला पदाधिकारी मो. नौशाद युसूफ, एसपी आदित्य कुमार घटना स्थल पर पहुंच स्थिति का जायजा लिया। भगदड़ का कारण फिलहाल पता नहीं चल सका है। हालांकि लोग इस हादसे के लिए जिला प्रशासन की लापरवाही बता रहे हैं। सिमरिया धाम में महाकुम्भ के दौरान कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर स्नान करने लाखों की संख्या में पहुंची भीड़ गंगा नदी में डूबकी लगा रही थी। इसी क्रम में अचानक भगदड़ मच गयी और हादसा हो गया। विदित हो कि पूर्व संध्या में शुक्रवार को डीएम एवं एसपी द्वारा पुख्ता व्यवस्था, ट्राफिक व्यवस्था, सुरक्षा व्यवस्था को लेकर दिशा निर्देश दिया भी गया था। वहीं गंगा स्नान के दौरान ही कार्तिक पूर्णिमा को लेकर मेला ठेकेदार एवं स्थाई दुकान के दुकानदार द्वारा किया गया अतिक्रमण का शिकार मुख्य स्नान घाट पीसीसी सड़क पर शनिवार को लाखों लाख के भीड़ व भगदड़ के बीच दम घुटने से सूबे के विभिन्न जिलों से आये तीन वयोवृद्ध महिला स्नानार्थी श्रद्धालुओं की घटनास्थल पर ही मौत हो गयी। साथ ही दो दर्जन से अधिक श्रद्धालु घायल हो गया। जिस के साथ आधा दर्जन से अधिक पुलिस बल भी आंशिक रुप से घायल हुआ है। मृतका अपने-अपने परिजन के साथ आये थे कार्तिक पूर्णिमा स्नान को पर मुख्य सीढ़ी स्नान घाट से महज दस गज पूर्व ही चढ़ गये भीड़ की भेंट। भीड़ इतनी थी की काफी देर तक आसपास के लोगों एवं पुलिस बल के द्वारा किये गये प्रयास एक काम नहीं आयी भीड़ से बाहर निकालकर उसकी जान बचाने में। घटना स्थल पर घंटों लाश पड़ी रही। साथ ही घटना स्थल पर हजारों श्रद्धालुओं की, सामान, झोला एवं सैकड़ों जोड़ी चप्पल एवं जूते यत्र-तत्र बिखरे पड़े रहे। घटना की सूचना पाते ही बिहार सरकार के श्रम संसाधन एवं बेगूसराय जिले के प्रभारी मंत्री विजय कुमार सिन्हा, बेगूसराय डीएम मो. नौशाद युसूफ, एसपी आदित्य कुमार, एडीएम सह मेला प्रभारी ओम प्रकाश प्रसाद ने दलबल के साथ घटना स्थल पर पहुंच घटना का जायजा लिया। घटना की पुष्टि करते हुए डीएम बेगूसराय मो. नौशाद युसूफ ने कहा की मुख्य मार्ग से हटकर सीढ़ी के रास्ते कालीधाम एवं सीढ़ी स्नान घाट तथा राम घाट की और जाने वाली सड़क पर शनिवार की सुबह करीब पौने आठ बजे अचानक भीड़ की दबाव बढ़ने से भीड़ में ही शामिल वयोवृद्ध एवं अस्वस्थ तीन स्नानार्थी महिलाएं उम्र करीब अस्सी वर्ष की मौत सकरी गली की भारी भीड़ में दम घुटने से घटना स्थल पर ही हो गया। एसपी बेगूसराय आदित्य कुमार ने कहा की घटना के पूर्व एवं बाद भी सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था था। भीड़ में दबाकर तीनों महिलाओं का दम घुटने लगा। जिसे बचाने की प्रयास भी काम नहीं आयी। एसपी श्री कुमार ने कहा की तीनों शव की शिनाख्त परिजनों द्वारा किया गया है। कहा की तीनों मृतका में प्रथम की पहचान नालंदा जिले के नूरसराय थाना क्षेत्र के सुन्दर बिगहा गांव निवासी कृष्ण प्रसाद की 70 वर्षीय पत्नी कंचन देवी के रुप में, दूसरे की पहचान सीतामढ़ी जिले के बथनाहा थाना क्षेत्र अन्तर्गत माधोपुर गांव निवासी स्व जोगेन्द्र झा की 75 वर्षीय पत्नी त्रिवेणी देवी के रुप में एवं तीसरे की पहचान दरभंगा जिले के टेगराहि निवासी स्व मनटुन मण्डल की अस्सी वर्षीय पत्नी सकुन्ती देवी के रुप में किया गया है। जहां स्थानीय थाने की पुलिस द्वारा शव को कब्जे में ले लिया गया। कहा की भीड़ को देखते हुए स्ट्रेचर को बिना प्रयोग में लिये कंधे देकर शव को सिपाहियों द्वारा ही मेला क्षेत्र से बाहर लाकर एम्बूलेंस में लादा गया। शव का पोस्टमार्टम कराकर शव परिजन को सौंप दिया गया। कहा घटना की जानकारी डीआईजी मुंगेर सह भागलपुर विकास वैभव, कमिश्नर राजेश कुमार सहित राज्य मुख्यालय को दिया गया है।

Check Also

योगीता फाउंडेशन :: मन, वचन व कर्म में समानता रखने वाले गांधी व शास्त्री ने आत्मनिर्भर समाज का देखा था सपना- मनोज शर्मा

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट दरभंगा : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जीवन दर्शन एवं …

Leave a Reply

Your email address will not be published.