Breaking News

बिहार :: घायलों ने बयां कि सिमरिया घाट हादसे की पूरी दास्तां !

बीहट (बेगूसराय)/धर्मवीर कुमार संवाददाता: शनिवार की अहले सुबह से ही लाखों लाख श्रद्धालुओं की भीड़ गंगा नदी तट पर स्नान के लिए उमड़ने लगी। कार्तिक पूर्णिमा व तुलार्क महाकुंभ के दिन सिमरिया गंगा नदी तट पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़ ने एक बार सिमरिया धाम में नया इतिहास रच दिया। इसी दरम्यान राम जानकी मंदिर के पास सकरी गली होने की वजह से भीड़ इतनी अधिक थी कि लोग पर लोग टकराने लगें। जिस वजह से भगदड़ मच गई। अपनी जान बचाने के लिए लोग एक दूसरे के उपर चढ़कर भागने लगे। जिस दौरान तीन वृद्ध महिला की मौत दम घुटने की वजह से घटना स्थल पर हो गयी। घायल प्रत्यदर्शी आधारपुर ताजपुर समस्तीपुर निवासी लाल बाबू ठाकुर ने बताया कि भीड़ इतनी अधिक थी कि भगदड़ मच गयी। लोग गिरने लगे और दबते ही चले गये और घटना स्थल से पुलिस नदारद थी। दुकानदार पब्लिक को दुकान में घुसने नहीं दे रहा थे। कहा कि हम अपने बच्चे चंदन कुमार को सामने वाली मंदिर के छत पर फेंक कर उसकी जान बचायी। घायल सिधिया समस्तीपुर निवासी सुमित्रा देवी ने बताया कि मेरी जान किसी तरह बच पायी। भगदड़ की वजह से पैर में चोट लगी है। आधारपुर समस्तीपुर निवासी सरिता देवी ने बताया कि एकाएक भीड़ व भगदड़ होने के दौरान चिल्लाने की वजह से समझ में नहीं आया कि क्या हो गया। जब तक समझ पाते तब हम भी गिरते उठते मंदिर की ओर भागकर अपनी जान बचायी। इस दौरान दो मोबाईल व एक हजार रूपया व झोला खो गया। जगदीशपुर समस्तीपुर निवासी मंजू देवी ने बताया कि भीड़ के दौरान कई लोगों को दबते व गिरते देखा। हम भी किसी तरह भीड़ से अपने समानों के साथ बाहर भागे। जिस वजह से पैर व हाथ में चोट लगी है। कहा कि भीड़ के दौरान पुलिस प्रशासन मुस्तैद रहती तो यह हादसा नहीं हो पाता। अधिकांश लोग अगल बगल के छत व जबरन दुकान में घुसकर जान बचायी। जिस दौरान लोगों का चप्पल घटना स्थल पर ही छूट गया। भगदड़ के दौरान पुलिस जवान भी घायल हुआ। नवगछिया के एएसआई गणेश कुमार सिंह, सीटीएस ट्रैनिग सेंटर पुलिस सं 107 शुभम कुमार, 483 पुलिस सं मनीष कुमार, 260 पुलिस मिथुन कुमार सहित अन्य घायल हो गए। घटनास्थल पर पांच होमगार्ड जवान, चार महिला पुलिस तैनात थे।

क्या कहते है सांसद
सिमरिया गंगा घाट पर आस्था की डुबकी के दौरान मची भगदड़ में तीन महिला श्रद्धालुओं के मौत का जिम्मेदार फर्जी कुम्भ सेवा समिति है। जिसके कारण बड़ी घटना घटी। उक्त बातें भाजपा के वरिष्ठ नेता व स्थानीय सांसद डा. भोला सिंह ने कही। उन्होंने कहा कि साधु संतों का अधिकार छीन लिया गया था। राज्यकीय कल्पवास मेला को हाईजैक कर लिया गया था। फर्जी कुम्भ के नाम पर व्यापार एवं मार्केटिंग में लगे रहने का परिणाम आज देखने को मिला। सिमरिया हादसा अव्यवस्था का नतीजा है। साथ ही कहा कि कुम्भ सेवा समिति ने स्वयं सभी व्यवस्था कर लेने की बात कही थी। वहीं सरकार एवं जिला प्रशासन को धन्यवाद देने के बजाय पूर्व में गाली देने का परिणाम कुम्भ सेवा समिति को मिल गया। यह तो उनका खुद का बटोरा हुआ पाप है। भाजपा के स्थानीय सांसद डा. भोला सिंह द्वारा कुम्भ सेवा समिति पर उठाये गये सवाल में कुछ सच्चाई लोगों को नजर आ रही है। लोगों का कहना है कि जब तुर्लाक कुम्भ के नाम पर हजारों श्रद्धालुओं को सिमरिया गंगा घाट बुलाया जा रहा था तो फिर उनकी समुचित व्यवस्था करना भी समिति की जिम्मेदारी बनती है। साथ ही समिति के सदस्यों के द्वारा जगह-जगह पर तैनाती होनी चाहिए थी। वहीं दूसरी तरफ जदूय के वरिष्ठ नेता आलोक बर्द्धन ने सिमरिया घाट पर हुए हादसे के लिए कुम्भ सेवा समिति को ही जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि अपनी राजनीतिक क्षवि चमकाने के लिए कुछ लोग झूठे कुम्भ मेला का नाम अलाप कर श्रद्धालुओं को जुटाने का काम कर रहे हैं। जबकि कल्पवास मेला में जिला प्रशासन एवं सरकार लगातार मदद कर रही है। वहीं भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष संजय सिंह ने सिमरिया हादसे पर दुख प्रकट करते हुए कहा कि यह सर्वविदित है कि अक्षय नवमी, कार्तिक पूर्णिमा के दिन सिमरिया में प्रारंभ काल से लाखों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं फिर भी कहीं न कहीं प्रशासनिक स्तर पर कोई चूक हुई है जो जांच का विषय है।

मृतकों के परिवार के साथ राज्य सरकार :  विजय कुमार सिन्हा (प्रभारी मंत्री)
सिमरिया धाम में आयोजित तूर्लाक महाकुम्भ में कार्तिक पूर्णिमा स्नान के अवसर पर मेला में हुई अप्रिय दुःखद दुर्घटना के बाद जिला प्रशासन के साथ-साथ महाकुम्भ समिति के पदाधिकारी के मौजूदगी में प्रेसवार्ता के दौरान बिहार सरकार में श्रम संसाधन मंत्री सह बेगूसराय जिले के प्रभारी मंत्री विजय कुमार सिन्हा ने कहीं। उन्होंने कहा कि पूरी तरह से व्यवस्था कंट्रोल में है। किसी तरह की कोई भगदड़ नहीं मची है। अत्यधिक भीड़ होने के कारण तीन महिला की मौत दम घुटने से हुई है। उन्होंने मृत आत्मा के परिवार के प्रति गहरा संवेदना व्यक्त की एवं बिहार सरकार की ओर से तुरंत मृत परिवार को चार-चार लाख की अनुग्रह राशि की मुआवजा देने की घोषणा की। उन्होंने जिला प्रशासन की भूमिका की भी सराहना किया। कहा कि उम्मीद से अधिक भीड़ होने के बावजूद भी प्राशासन की मुस्तैदी के कारण किसी भी तरह की कोई लापरवाही या चूक नहीं हुई। साथ ही साथ उन्होंने आगे किसी भी तरह की कोई चूक ना हो उसके लिए भी सभी प्रशासनिक पदाधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। एक सवाल के जवाब में उन्हांेने कहा की बेगूसराय सांसद डा. भोला सिंह हमारे अभिवावक हैं। हमंे उनका भी सहयोग महाकुम्भ के दौरान मिली है। हम उनके विचार पर भी गौर करेंगे। उन्होंने आम आवाम एवं जन सरोकार से जुड़े सभी सामाजिक कार्यकर्ता से सहयोग करने की अपील भी किया। डीएम बेगूसराय मो. नौशाद युसूफ ने कहा की मेला में विधि व्यवस्था, सुरक्षा व्यवस्था सहित सभी स्नान घाटों की सुरक्षा के लिये जिला प्रशासन की और पूरी व्यवस्था है। उन्होंने घटना की पुष्टि करते हुए कहा भीड़ में दबकर दम घुटने के कारण से तीन महिला की मौत हो गयी है। कोई अफवाह नहीं फैला था ना ही भगदड़ मची थी। एसपी बेगूसराय आदित्य कुमार ने कहा की सुरक्षा में कोई चूक नहीं हुई है घटना स्थल पर पदाधिकारी के साथ पुलिस बल मौजूद थे। जिसे भी आंशिक रुप से चोटें आयी है। कहा ट्राफिक व्यवस्था के लिये अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती पूर्व से अधिक इस वार किया गया था। उन्होंने कहा आगे और भी सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। कहा घटना दुःखद पूर्ण है। वहीं एमएलसी सह कुम्भ समिति के महासचिव रजनीश कुमार ने कहा की हर वर्ष की भांति इस वार भी कुम्भ समिति पूरी तरह से मुस्तैद है। कहा इस बार महाकुम्भ के कारण ही कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर श्रद्धालुओं की अपार भीड़ उमड़ पड़ी थी। कार्तिक पूर्णिमा के पूर्व संध्या से ही। वहीं जदयू जिलाध्यक्ष सह कुम्भ समिति उपाध्यक्ष भूमीपाल राय ने भी अपनी वक्तव्य दिया। वहीं भाजपा के जिलाध्यक्ष संजय सिंह ने कहा कि इस तरह का सफल आयोजन बेगूसराय के लिए गौरव की बात है। उन्होंने सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि इस मेला को सफल बनाने में सरकार की भूमिका अहम रही। सरकार के द्वारा काफी सहयोग किया गया। उन्होंने जिले के प्रभारी मंत्री को भी धन्यवाद देते हुए कहा कि लगातार पूरे मेले में उनकी तत्परता बनी हुई थी एवं वो समय-समय पर लगातार उपस्थित होकर शानदार भूमिका निभाई। आज भी वो लगातार खुद खड़े होकर पूरे स्थिति का जायजा लिया। साथ ही साथ उन्होंने मेले में हुए तीन महिला की मौत पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि मृत आत्मा के परिजन को जिला भाजपा बेगूसराय परिवार की ओर से गहरी संवेदना व्यक्त की। वहीं प्रेसवार्ता के उपरान्त घटना स्थल पर जिला प्रशासन के साथ पहुंच कर निरीक्षण किया। मौके पर अपर समरहर्ता सह मेला प्रभारी ओम प्रकाश प्रसाद, भाजपा जिला महामंत्री कृष्णा मोहन पप्पू, अनिल भारती, रौनक कुमार, शुभम कुमार, मिथलेश सिंह, ललन कुमार सिंह एवं कुम्भ सेवा समिति के कार्यकर्ता सहित अन्य मौजूद थे।

Check Also

मनु महाराज केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर ITBP के नये डीआईजी, 7 IAS और 5 IPS का तबादला संजय सिंह बने स्वास्थ्य विभाग के विशेष सचिव

डेस्क : भारतीय प्रशासनिक सेवा के 7 अधिकारी बदले गए हैं। वहीं दूसरी सेवाओं से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *