Breaking News

बिहार :: मद्य निषेध अभियान के दूसरे चरण की शुरूआत 21 जनवरी को, बनाई जाएगी राज्यव्यापी विशाल मानव श्रृंखला

13599976_1788354781399606_7161797944081071122_nदरभंगा : समाहरणालय अवस्थित बाबा साहेब डाॅ0 भीमराव अम्बेदकर सभागार में जिला पदाधिकारी डाॅ0 चन्द्रशेखर सिंह की अध्यक्षता में 21 जनवरी 2017 को पूरे राज्य में मद्य निषेध अभियान द्वितीय चरण के प्रारंभ किये जाने के अवसर पर बनाये जाने वाले विशाल मानव श्रृखंला की तैयारियों से संबंधित समीक्षात्मक बैठक की गई। बैठक को सम्बोधित करते हुए जिला पदाधिकारी ने बताया कि मद्य निषेध अभियान द्वितीय चरण की शुरूआत 21 जनवरी 2017 से होगी। इसके तहत पूरे राज्य में विशाल मानव श्रृंखला का निर्माण किया जाएगा, जो लगभग 10 हजार किलोमीटर लम्बा होगा और इसमें 02 करोड़ से ज्यादा लोगों के शामिल होने की संभावना है। यह मानव श्रृंखला नशाबन्दी पर बिहारी एकता का परिचायक होगा। पूरे विश्व में इसका संदेश जाएगा। इस तरह की विशाल मानव श्रृंखला का निर्माण विश्व में पहली बार किया जा रहा है। इसकी फोटोग्राफी ड्रोन एवं सैटेलाईट के माध्यम से की जाएगी। प्रत्येक जिला में ड्रोन एवं वीडियोग्राफी कैमरा से वीडियोग्राफी की जाएगी ताकि प्रत्येक जिला का 30 मिनट का वीडियो तैयार किया जा सके। मानव श्रृंखला के अवधि में एम्बुलेंस सेवा छोड़ सभी तरह के वाहनों के परिचालन पर रोक रहेगी।

जिला स्तर से पंचायत स्तर तक विभिन्न समितियाँ मद्य निषेध अभियान द्वितीय चरण के सफल आयोजन एवं प्रभावकारी कार्यान्वयन हेतु शिक्षा विभाग(साक्षरता कार्यक्रम) एवं ग्रामीण विकास विभाग(जीविका कार्यक्रम) द्वारा संयुक्त रूप से आपसी सहयोग और समन्वय द्वारा कार्य किया जाएगा। अभियान के व्यवस्थित संचालन हेतु विभिन्न स्तर पर समितियो का गठन किया गया है। जिला स्तरीय संचालन समिति जिला पदाधिकारी के अध्यक्षता में गठित की गई है। सदस्य के रूप में वरीय पुलिस अधीक्षक, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी, जिला पंचायती राज पदाधिकारी, सभी अनुमण्डल पदाधिकारी, सभी अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी, जिला उत्पाद अधीक्षक, जिला कार्यक्रम प्रबंधक जीविका, सदस्य राज संसाधन समुह, एक महिला के0आर0पी0, सभी के0आर0पी0, सभी बी0ई0ओ0, सभी बी0पी0एम0 जीविका होगे। संयोजक के रूप में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (साक्षरता), सह संयोजक के रूप में मुख्य कार्यक्रम समन्वयक साक्षर भारत होगें।

प्रखण्ड स्तरीय संचालन समिति प्रखण्ड विकास पदाधिकारी के अध्यक्षता में गठित की गई है। प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी – सदस्य सचिव एवं प्रखण्ड कार्यक्रम प्रबंधक जीविका – सह संयोजक के रूप में नामित किये गये है। सदस्य के रूप में प्रखण्ड के सभी थाना प्रभारी, प्रखण्ड पंचायती राज पर्यवेक्षक, प्रखण्ड प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, बाल विकास परियोजना पदाधिकारी (आई0सी0डी0एस0 पदाधिकारी), के0आर0पी0(साक्षरता), प्रखण्ड मुख्यालय में कार्यरत तीन टोला सेवक(बी0ई0ओ0 द्वारा नामित), प्रखण्ड मुख्यालय में कार्यरत दो तालीमी मरकज, शिक्षा सेवी(बी0ई0ओ0 द्वारा नामित), प्रखण्ड मुख्यालय के उच्च विद्यालय के प्रधानाध्यापक, प्रखण्ड मुख्यालय के मध्य विद्यालय के प्रधानाध्यापक, प्रखण्ड मुख्यालय के जीविका के काम्यूनिटी माॅबलाईजर, प्रखण्ड के तीन विकास मित्र(बी0डी0ओ0 द्वारा नामित) होगें।

पंचायत स्तरीय संचालन समिति मुखिया के अध्यक्षता में गठित की गई है। वरीय प्रेरक (मध्य विद्यालय लोक शिक्षा केन्द्र) को संयोजक बनाया गया है। सदस्य के रूप में दो जीविका दीदी, पंचायत कमिटी माॅबलाईजर (जीविका), टोला सेवक (सभी), विकास मित्र (सभी), आशा दीदी (सभी), पंचायत मुख्यालय के उच्च माध्यमिक विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक, पंचायत मुख्यालय के उच्च माध्यमिक विद्यालय के महिला शिक्षिका, पंचायत मुख्यालय के मध्य विद्यालय के महिला शिक्षिका होगी।

जिला स्तरीय कोर ग्रुप में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (साक्षरता) – अध्यक्ष, मुख्य कार्यक्रम समन्वयक (साक्षर भारत)- संयोजक तथा सदस्य के रूप में जिला कार्यक्रम प्रबंधक जीविका, सदस्य राज संसाधन समुह, जिला कार्यक्रम समन्वयक(साक्षर भारत) होगें। मद्य निषेध अभियान द्वितीय चरण में विभिन्न कार्य-कलापों को संपादित किया जाएगा। इसकी शुरूआत 21 जनवरी 2017 राज्यव्यापी मानव श्रृंखला बनाकर की जाएगी। दरभंगा जिला में कुल 342 किलोमीटर मानव श्रृंखला बनाने का लक्ष्य दिया गया है। जिसमें लगभग 07 लाख लोगों की भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी। सभी जनप्रतिनिधिगण अपने अपने क्षेत्रों के निवासियों को इसमें शरीक होने हेतु अनुरोध करेंगे। सभी विभागों के पदाधिकारी अपने अधीनस्थ कर्मियों के साथ, जिला के सभी विद्यालयों के छात्र/छात्रा अपने अभिभावक एवं शिक्षकों के साथ, जीविका एवं अन्य संस्थाओं के कार्यकत्र्ता जन समुदाय का सहयोग प्राप्त कर जिला के निर्धारित रूट के अनुसार मानव श्रृंखला का निर्माण करेगें। जिला पदाधिकारी ने निर्धारित रूट पर जोन एवं सेक्टर का निर्माण कर पदाधिकारी प्रतिनियुक्त करने का एवं प्रत्येक किलोमीटर पर खड़े होने वाले व्यक्तियों के लिए माइक्रो प्लानिंग करने का निदेश दिया है। 200 मीटर पर एक व्यक्ति समन्वयक का कार्य करेगें, जिसे समन्वयक कहा जाएगा। सभी समन्वयक, सेक्टर इंचार्ज, जोनल इंचार्ज एवं प्रखण्ड प्रभारी को पहचान पत्र निर्गत किया जाएगा। मानव श्रृंखला में खड़े होने वाले व्यक्तियों की सूची भी बनायी जाएगी। आवश्यकतानुसार वाहन, एम्बुलेन्स एवं पेयजल की व्यवस्था की जाएगी। अधिक से अधिक जन भागीदारी हेतु जिलाधिकारी ने वातावरण निर्माण हेतु विभिन्न कार्य यथा – जनप्रतिनिधियों के साथ पंचायत स्तर तक लगातार बैठक, खेल-कूद प्रतियोगिता जैसे कार्य-कलाप कराने का निदेश दिया। मानव श्रृखंला का प्रचार-प्रसार हेतु कला-जत्था के द्वारा आकर्षक कार्यक्रमों की प्रस्तुति की जाएगी।

अंत में जिलाधिकारी ने बताया कि यह राज्य सरकार का महत्वपूर्ण कार्यक्रम है। अतएव इसमें सभी विभाग के वरीय, कनीय पदाधिकारी एवं कर्मचारी अनिवार्य रूप से अपने-अपने दिये गये दायित्वों का पूरी क्षमता के साथ निर्वह्न करें। उक्त बैठक में उप विकास आयुक्त विवेकानन्द झा, डीआरडीए निदेशक नरेश झा, तीनों अनुमण्डल पदाधिकारी, तीनों अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी, विशेष कार्य पदाधिकारी-सह- वरीय उप समाहत्र्ता रवीन्द्र कुमार दिवाकर, जिला आपूत्र्ति पदाधिकारी रामबाबू, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता, जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी कन्हैया कुमार व अन्य संबंधित पदाधिकारी, प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

Check Also

नगर निकाय चुनाव को लेकर हुई बैठक

दरभंगा, सुरेन्द्र चौपाल :- दरभंगा, समाहरणालय अवस्थित बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेदकर सभागार में जिला …