Breaking News

‘ज्ञान हमें शक्ति देता है, प्रेम हमें परिपूर्णता देता है’

PicsArt_09-05-12.37.44शिक्षक दिवस : कहते हैं बिना गुरू के किसी को कोई मंजिल नहीं मिलती है, गुरू को तो धार्मिक ग्रंथों में भगवान से ऊंचा दर्जा दिया गया है. 5 सितंबर यानी शिक्षक दिवस. देश के प्रथम उप-राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती को शिक्षक दिवस के तौर पर मनाने की परंपरा आज भी कायम है. साल में एक बार 5 सितंबर के दिन यह मौका आता है, जब छात्र- छात्राएं अपने शिक्षकों को सम्मानित करते हैं.

यह दिन हमें उस महान व्यक्ति की याद दिलाता है जो एक महान शिक्षक के साथ-साथ राजनीतिज्ञ एवं दार्शनिक भी थे. उस महान व्यक्तित्व को पूरी दुनिया डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के नाम से जानती है. स्कूलों में शिक्षक दिवस काफी उत्साह के साथ मनाया जाता है.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म दक्षिण भारत के तिरुत्तनि स्थान में हुआ था, जो चेन्नई से 64 किमी उत्तर-पूर्व में है. सर्वपल्ली राधाकृष्णन हमारे देश के दूसरे राष्ट्रपति भी बने. राजनीति में आने से पहले उन्होंने अपने जीवन के 40 साल अध्यापन को दिए थे.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन का मानना था कि बिना शिक्षा के इंसान कभी भी मंजिल तक नहीं पहुंच सकता है इसलिए इंसान के जीवन में एक शिक्षक होना बहुत जरुरी है. 1954 में भारत रत्न से सम्मानित डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने इसलिए शिक्षकों को सम्मान देने के लिए अपने जन्मदिन को ‘शिक्षक दिवस’ के रूप में मनाने की बात कही.

भारत में ‘शिक्षक दिवस’5 सितंबर को मनाया जाता है, लेकिन विश्व के दूसरे देशों में इस मनाने कि तिथियां अलग-अलग हैं. यूनेस्‍को ने आधिकारिक रूप 1994 में ‘शिक्षक दिवस’ मनाने के लिए 5 अक्‍टूबर को चुना. इसलिए अब 100 से ज्‍यादा देशों में यह दिन ‘शिक्षक दिवस’ के रूप में मनाया जाता है.

डॉ. राधाकृष्णन समूचे विश्व को एक विद्यालय मानते थे. उनका मानना था कि शिक्षा के द्वारा ही मानव मस्तिष्क का सदुपयोग किया जा सकता है.

Check Also

अब दरभंगा शहरी क्षेत्र में प्रतिदिन टीकाकरण, नहीं होगी वैक्सीन की कमी – डीडीसी तनय सुल्तानिया

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट – कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बिहार में …