Breaking News

UP :: गैर-जनपदीय डीजल चलित टैक्सियों पर नहीं हो सकी अब तक कार्यवाही संचालन जोरों पर

उमेश सैनी

बीकेटी/लखनऊ।जहां एक तरफ जगह-जगह सौंदर्यीकरण करते हुए नवाबों के शहर का हिस्सा कहा जाने वाला बख्शी का तालाब में पर्यटकों के आवागमन की स्थिति में पुरानी प्रारूप को नवीन गति दी जा रही है। तो वहीं दूसरी तरफ विभिन्न स्थानों के वातावरण को साफ करने के लिए वहां पड़े कूड़ा करकट को साफ किया जा रहा है।साफ स्वच्छ हवा की प्राप्ति के लिए धुंआ फैलाने वाले वाहनों पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड कड़ी नजर रखे हुए हैं। लेकिन इसके बाद आज भी धू-धू करते हुए काले धूआँ के गुबार छोड़ने वाले वाहनों से लेकर डीजल चलित टैक्सियों का संचालन बदस्तूर जारी है।वाहनों के रखरखाव की रिपोर्ट जांचने वाला आरटीओ ही वाहनों के फिटनेस कनेक्शन के नाम पर घोटाला करने में आमदा है।वायु प्रदूषण को बढ़ावा देने वाले वाहनों में सबसे ज्यादा डीजल चलित टैक्सियों पर कार्यवाही के नाम पर खुद आरटीओ और ट्रैफिक रुपयों का खेल करते हुए उन पर त्वरित कार्यवाही के नाम पर लीपा पोती करने में लगा है।और यही कारण है।कि बख्शी का तालाब व इटौंजा छठा मील समेत तमाम इलाकों में मानकों को ठेंगा दिखाकर लगातार एक तो डीजल चलित वाहनों का संचालन धड़ल्ले से किया जा रहा है।ऊपर से वाहनों का गैर जनपदीय कनेक्शन भी देखा जाने लगा यूपी 32 के परमिट के स्थान पर यहां उन्नाव,बाराबंकी व सीतापुर की डीजल चलित टैक्सियां दौड़ाई जा रही है।जबकि स्थानीय अफसर सब कुछ देखते हुए भी हाथ पर हाथ धरे तमाशा बीन बने ड्यूटी निभाने में व्यस्त हैं।

बख्शी का तालाब,इटौंजा,छठा मील कई चौराहों पर आबो हवा में जहर खोलने का काम दिनों दिन जारी है।प्रशासन की कोताही भरी कार्यशैली का एक और मामला इन स्थानों पर देखने को मिलता है।जहां धड़ल्ले से डीजल चलित टैक्सियों के संचालन में स्थानीय पुलिस कर्मियों से लेकर थाना परिसर तक मोटी-मोटी रकम पहुंचाई जाती है। जहरीले काले धुआ का गुबार छोड़ने वाली टैक्सियों के रोकथाम के नाम पर धड़ल्ले से महज 20 से ₹50 तक की वसूली का गोरख धंधा चलाया जाता है।उन पर उचित कार्यवाही ना करते हुए बाकायदा रुपयों के खेल की बदौलत डीजल चलित टैक्सियों को रोजाना के संचालन के लिए छोड़ दिया जाता है।यही कारण है।कि आज तक डीजल चलित वाहनों के संचालन की स्थित जस की तस बनी हुई है।धुआं के काले-काले गुब्बारों के कारण वातावरण लोगों के लिए जहर बनता जा रहा है।

पढ़ें यह भी खबर 

Check Also

डॉ मशकूर उस्मानी ने निभाया वादा, अंजली बिटिया की पढ़ाई शुरू जाने लगी कांवेंट स्कूल

डेस्क : बीते माह जाले के ब्राह्मण टोली में रहने वाली चंचल झा नाम की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *