Breaking News

खूनी रविवार :: कानपुर ट्रेन हादसे में 115 की हुई मौत, मृतकों में 10 बिहार के 39 जख्मी यात्रियों के नाम की सूची जारी

patna2-457x257पटना : उत्तर प्रदेश में कानपुर के पास रविवार को तड़के हुए ट्रेन हादसे में अब तक 115 लोगों की मौत हो गई है और 150 सौ से अधिक लोग घायल हैं। वाकई यह रविवार को खूनी रविवार कहने से परहेज नहीं किया जा सकता. मरने वालों में बिहार के भी 10 यात्री बताए जा रहे हैं। बिहार के मृतकों में संजीत, मजीद अहमद, ऋतिका श्रीवास्तव, रीता मिश्रा, राजन कुमार, बबीता मिश्रा व आकिर शामिल हैं।

आरक्षण चार्ट के मुताबिक पटना के यात्रियों की संख्या 235 है। इंदौर से पटना के लिए 173 लोग शनिवार को चले थे, जिनमें 14 गंभीर तथा 25 आंशिक घायल हैं। गंभीर रुप से घायल यात्रियों को कानपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कराया जा रहा है। कानपुर से ट्रेन से सफर कर रहे पटना के आंशिक घायल यात्रियों को लेकर विशेष ट्रेन कानपुर से रवाना हो गई है। गंभीर व आंशिक घायल यात्रियों में ये शामिल हैं: –

हादसे में गंभीर रूप से घायल

– प्रमोद कुमार

– श्रीमती रेखा

– विशाल रंजन

– प्रिंस कुमार

– आलका कुमारी

– श्रीमति चंदेल

– अमिरेत

– अमरेंद्र चन्देल

– बजरंगी

– राज कुमार सिंह

– अजय

– पशुराम

– नीलेश कुमार

– शशी रंजन

आंशिक घायल, पटना रवाना

– दुर्गेश

– बंदना मिश्रा

– कुंदन किशोर भारती

– संजय कुमार सिन्हा

– सुरज बरजा

– शिव कुमार

– मंजूर आलम

– विनय कुमार

– अशोक चक्रवती

– सरोज कुमार

– मो वासीम

– जरीना बेगम

– अपर्ण पूर्वा

– डॉ. एल के तिवारी

– प्रभु नाथ

– आयस राज सिंह

– सावित्री सिंह

– अतुल

– अरविंद

– विरण यादव

– शम्भु दत्त

– अंजू देवी

picsart_11-20-10-23-52इस भयानक हादसे में भागलपुर के सूरज प्रसाद सिंह (70) और माला देवी (60) की मौत हो गयी है.  वे अपने परिवार के सात सदस्यों के साथ उज्जैन से पटना लौट रहे थे. सूरज प्रसाद सिंह रिटायर्ड फौजी थे. उनके साथ सफर कर रहे उनके बेटे मृत्युंजय कुमार, पुत्रबधु अनुराधा देवी, पोता कश्यप, पोती प्रतिज्ञा और नौकर कोको सुरक्षित हैं. हादसे में सीवान की एक महिला रत्निका की भी मौत हो गयी है. वह पति और बच्चे के साथ ट्रेन में थी, जो गंभीर रूप से घायल हैं. सीवान की छोटी बच्ची श्रेया की भी मौत हो गयी है. वहीं एक अन्य मृतक शिवकुमार यादव बताये जा रहे हैं.

भाई का नहीं चल रहा पता
ट्रेन हादसे में पटना के अशोक राजपथ ननमुनिया के शेरशाह मोड़ के रहनेवाले मो. तबरेज के भाई मो. शहाबुद्दीन का कोई पता नहीं चल पा रहा है. तबरेज ने बताया कि शनिवार की रात 8.10 बजे भाई से बात हुई थी. वह वीणा के निजी प्लांट में काम करता है. उसने बताया कि वह इंदौर-पटना एक्सप्रेस से पटना आ रहा है. इसके बाद 9.56 बजे पर तबरेज ने फिर से मोबाइल पर शहाबुद्दीन से बात करनी चाही, पर भाई ने फोन नहीं उठाया. उसके बाद फिर बात नहीं हो पायी. शहाबुद्दीन का मोबाइल नबंर है- 9122702299 है. तबरेज ने बताया कि मोबाइल पर कॉल करने पर उसका स्विच ऑफ बता रहा है.

पटना सिटी के एक ही परिवार के 8 लोग लापता
वहीं, मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पटना सिटी के रहनेवाले एक ही परिवार के आठ लोगों के हादसे में शिकार होने की संभावना जतायी जा रही है. मनोज अपनी पत्नी प्रेमलता के साथ तीर्थयात्रा पर निकले थे. शनिवार को उज्जैन दर्शन करने के बाद ये लोग इंदौर-पटना एक्सप्रेस से ही वापस लौट रहे थे. इनके साथ आठ लोग थे. सभी का आरक्षण एस 1 बोगी में ही था. रेलवे अधिकारियों ने बताया कि घायलों की सूची में इनका नाम नहीं है. मालूम हो कि सबसे ज्यादा नुकसान भी एस 1 और एस 2 बोगी को ही हुआ है. इससे संभावना जतायी जा रही है वे हादसे के शिकार हुए हैं.

पटना जंक्शन पर बनाया गया कंट्रोल रूम
हादसे के बाद से पटना जंक्शन पर भी रेलवे कंट्रोल रूम बनाया गया है. यहां से पल-पल परिजनों को जानकारी दी जा रही है. जंक्शन पर डीएम संजय कुमार अग्रवाल, एसएसपी मनु महाराज, एडीआरएम, सीनियर डीसीएम सहित सभी आलाधिकारी मौजूद है. वे पूरी घटना की मॉनिटरिंग कर रहे हैं. जिला प्रशासन हेल्प डेस्क बनाया है. पटना जिलाधिकारी संजय अग्रवाल ने कहा कि घायलों की मदद के लिए पूरी तैयारी कर ली गयी है. लोगों की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी कर दिये गये हैं.

बिहार सरकार के तीन अधिकारी कानपुर के लिए रवाना
इंदौर-पटना एक्सप्रेस के कानपुर के पास हादसे का शिकार होने के बाद घटना स्थल के लिए बिहार सरकार के तीन अधिकारी भी रवाना हो चुके हैं. आपदा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत, रेल आइजी अमित कुमार, आइजी जितेंद्र कुमार सरकार के विशेष विमान से कानपुर के लिए रवाना हो चुके हैं. आपदा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि अभी तक जो जानकारी मिली है उसके अनुसार ट्रेन हादसे में घायल लोगों का कानपुर के हैलेट अस्पताल में इलाज चल रहा है. प्रधान सचिव के मुताबिक अभी भी कुछ डेड बॉडी की पहचान नहीं हो सकी है.

हादसे पर सीएम नीतीश ने जताया गहरा दुख  
इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी रेल दुर्घटना पर गहरा शोक व्यक्त किया है और बिहार सरकार के अधिकारियों को यूपी और रेलवे के अधिकारियों से संपर्क में रहने का आदेश दिया है. सीएम ने कहा है दुर्घटना में मृतक और घायल के परिजनों को बिहार सरकार हरसंभव सहायता करेगी और इस मुश्किल घड़ी में सरकार उनके साथ है.

cxroa0rveaa-72r-360x289मृतकों के परिजनों को 12.5 लाख, घायलों को 2 लाख रुपये
घटना के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्रेन हादसे में मारे गये लोगों के परिजनों को 5 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों के लिए 50 हजार रुपये और सामान्य घायलों के लिए 25 हजार रुपये की आर्थिक सहायता की घोषणा की.

रेल मंत्रालय ने मृतकों के परिजनों को 3.5 लाख रुपये, वहीं गंभीर जख्मी को 50-50 हजार देने की घोषणा की. इनके अलावा हल्की चोट वालों के लिए 25-25 हजार रुपये के मुआवज़े का ऐलान किया गया है. पीएम मोदी ने मृतक के परिवार को 2 लाख रुपये और गंभीर रूप से घायलों को 50 हजार रुपये के मुआवज़े का ऐलान किया.

Check Also

आस्था का महापर्व छठ :: डूबते सूर्य व उगते सूर्य दोनों की पूजा वाला दुनिया का एकमात्र पर्व, जानिए कौन हैं छठी मैया…

डेस्क : बिहार समेत पूरा उत्तर भारत लोक आस्था के महापर्व ‘छठ’ के रंग में …