उ०प्र०ः महाशिवरात्री पर पूरे भारत में जगह-जगह श्रद्धालूओं की उमड़ी भीड़।

3

लखनऊ (राज प्रताप सिंह) : महाशिवरात्रि का पर्व बख्शी का तालाब तहसील क्षेत्र में स्थापित सभी शिव मंदिर धूमधाम से मनाया गया इस दौरान ग्राम पंचायत देवरी में स्थित पुराने मुक्तेश्वर महादेव मंदिर स्थित क्षेत्र के कई पुराने शिव मंदिरों से जहां भगवान भोले शंकर की भव्य बारातें निकाली गई वही क्षेत्र व शहर से आए हजारों शिव भक्तों ने मां चंद्रिका देवी मंदिर स्थित पवित्र सुधन्वा कुंड में विराजमान भोले शंकर सहित आज गंगा गोमती नदी के किनारे स्थित अति प्राचीन शिव मंदिर बीकेटी के ठाकुरद्वारा में नागेश्वर शिव मंदिर सहित 1 दर्जन से अधिक शिव मंदिरों में महाशिवरात्रि पर भगवान शिव को फल फूल बेल पत्र आज चढ़ाकर दूध से भगवान का अभिषेक कर पूजा अर्चना कर भंडारे का प्रसाद ग्रहण किया बख्शी का तालाब स्थित देवरी रुखारा गांव में स्थापित अति प्राचीन मक्केश्वर महादेव मंदिर में महाशिवरात्रि पर लगने वाले भव्य मेले के आयोजक शैलेंद्र सिंह सभासद इटौंजा ने बताया की इस आती प्राचीन मुक्तेश्वर महादेव मंदिर पर शिवरात्रि के दिन प्रत्येक वर्ष की तरह यहां 42 वर्षों से लगातार भव्य मेले का आयोजन किया जा रहा है श्री सिंह ने बताया की शिव रात्री को यहां भगवान भोले शंकर की भव्य बारात निकलती है और इसके अलावा विशाल भंडारा धनुष यज्ञ रात्रि में कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों में शिव विवाह का भव्य आयोजन किया जाता है। वही बीकेटी में ठाकुरद्वारा स्थित अति प्राचीन नागेश्वर शिव मंदिर में भक्तों द्वारा भगवान शिव का दूर से अभिषेक कर फल फूल बेलपत्र धतूरा भांग दूध दही कमल पुष्प गंगाजल आज जाकर पूजा अर्चना की इस मंदिर पर लगभग 10 वर्षों से विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम व विशाल भंडारे का भव्य आयोजन किया जाता है बताया जाता है। कि लगभग 200 वर्ष पूर्व में त्रिपुर चंद्र बख्शी ने इस नागेश्वर शिव मंदिर एवं एक भव्य तालाब का निर्माण करवाया था इस मंदिर पर 10 वर्ष पूर्व एक महात्मा आए और मंदिर पर निवास कर भगवान शिव की सेवा करने लगे और वह गाये वाले भोले बाबा के रूप में क्षेत्र में प्रसिद्ध हो गए गाय वाले बाबा ही इस मंदिर पर महाशिवरात्रि के दिन भंडारे का आयोजन करने लगे तभी से इस मंदिर पर महाशिवरात्रि के दिन भंडारे का आयोजन होता चला आ रहा है वही मां चंद्रिका देवी मंदिर परिसर में स्थित सुधन्वा कुंड में विराजमान शिव मंदिर का मा उमराव के प्राचीन कालेश्वर महादेव मंदिर शिवालय खोतवा शिवालय कोटवा शिव शक्ति धाम दही सूरत प्राचीन प्राचीन भोलेनाथ महादेव मंदिर शिवपुरी गांव में स्थित प्राचीन शिव मंदिर सहित क्षेत्र में स्थापित कई दर्जन शिव मंदिरों में कई हजार शिवभक्त

भगवान शिव का जलाभिषेक बेलपत्र भांग धतूरा कमलपुर भंडारे का प्रसाद ग्रहण भोले बाबा की आस्था और भक्त के समुद्र में समुद्र में डूबकर विभिन्न प्रकार सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आनंद लेते हुए नजर आए मां चंद्रिका देवी मेला कमेटी के अध्यक्ष अखिलेश सिंह व चन्द्रिका देवी मंदिर के पुजारी नरेश सैनी व उमेश सैनी ने बताया कि महाशिवरात्रि इस बार शुक्रवार के दिन पड़ने के कारण मां के दर्शनों के लिए मंदिर के कपाट सुबह 4:00 बजे से ही खोल दिए गए थे सुबह 4:00 बजे से ही दिनभर मंदिर में मां के दर्शनों के लिए भक्तों का तांता लगा रहा मां के दर्शनों में भक्तों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो इसके लिए मेला कमेटी के कार्यकर्ताओं के साथी पुलिस व पीएससी मौजूद रहे वही भोले नाथ की पूजा अर्चना के लिए आई कठवारा निवासी माही सिंह चौहान,सरिता सिंह चौहान व सोनम सिंह ने बताया की शिव रात्री के दिन हम प्रत्येक वर्ष चन्द्रिका देवी मंदिर खासतौर पर दर्शन के लिए जाते है।