Breaking News

उ.प्र. :: मरीजों के हिस्से का नाश्ता हजम कर रहे अफसर

लखनऊ ब्यूरो (राज प्रताप सिंह) : सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अधिकारी मरीजों के हिस्से का दूध पी रहे हैं। नाश्ता और खाना भी हड़प रहे हैं। मरीजों के बजाए अधिकारी अपनी सेहत सुधारने में जुटे हैं। सीएमओ डॉ. जीएस बाजपेई ने निरीक्षण के दौरान अधिकारियों की चोरी पकड़ी। अधिकारियों ने मरीजों के नाश्ते में घालमेल करने वाले अधिकारियों से जवाब-तलब किया है।
           ग्रामीण की स्वास्थ्य सेवाओं का जायजा लेने के लिए सीएमओ डॉ. जीएस बाजपेई सुबह 8.45 बजे मोहनलालगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे। सबसे पहले वह वार्ड में गए। यहां भर्ती मरीजों के पास 200 ग्राम दूध का पैकेट रखा था। वहीं सिर्फ तीन पीस ब्रेड रखी थी। सीएमओ ने मरीजों से पूछा नाश्ते में और कुछ भी मिला इस पर मरीजों ने कहा इतना ही नाश्ता मिल रहा है। सीएमओ ने आशा बहू कौशल्या से इस बावत जानकारी भी हासिल की। सीएमओ ने नाश्ता में घालमेल देख नाराजगी जाहिर की। इसके बाद उन्होंने अस्पताल का निरीक्षण किया। यहां उन्हें गंदगी मिली। शौचालय भी गंदे मिले। रूई-पट्टी भी खुले में पड़ी थी। करीब दो घंटे सीएमओ ने अस्पताल का जायजा लिया।
कौन हजम कर रहा प्रसूताओं का दूध, मक्खन व ब्रेड
इसके बाद गोसाईंगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का जायजा लिया। यहां भी उन्हें प्रसूताओं के भोजन में घपला पकड़ा। प्रसूताओं ने बताया कि दो दिन से सिर्फ दाल, रोटी और चावल ही उपलब्ध कराया जा रहा है। सब्जी नहीं दी जा रही है। नाश्ते में केवल दो केले और एक सेब प्रदान किया जा रहा है। प्रसूताओं के हिस्से का दूध, मक्खन और ब्रेड कौन हजम कर रहा है? इसकी जानकारी कोई देने वाला कोई नहीं है। खान-पान की निगरानी करने वाली एसएन मीना ने भी इस पर ध्यान नहीं दिया। मरीजों के मनोरंजन के लिए लगा सेट टॉप बॉक्स गायब था।
  • प्रसूताओं को नाश्ता व भोजन उपलब्ध कराने में घोर लापरवाही पाई गई है। अधिकारियों से जवाब-तलब किया गया है। ऐसा क्यों हो रहा है? इसकी तफ्तीश भी कराई जाएगी। दोषी व जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी – डॉ. जीएस बाजपेई, सीएमओ 
ये है प्रावधान
जननी स्वास्थ्य सुरक्षा कार्यक्रम के तहत भर्ती गर्भवती महिलाओं के लिए रोजाना 100 रुपये प्रदान किए जा रहे हैं। इस रकम से मरीजों को सुबह का नाश्ता, दोपहर और रात का भोजन दिया जाना है। नाश्ते में ब्रेड, 500 ग्राम दूध, मक्खन, दूध, अंडा या फल मिलना चाहिए। दोपहर के भोजन में रोटी, चावल, दाल, सब्जी और सलाद या पापड़ दिया जाना चाहिए। इसके अलावा रात में रोटी चावल, दाल, सब्जी, सलाद या पापड़ मिलना चाहिए।

Check Also

महारानी कल्याणी कॉलेज में राष्ट्रीय सेवा योजना दिवस पर कार्यक्रम आयोजित

डेस्क : राष्ट्रीय सेवा योजना के महारानी कल्याणी महाविद्यालय की इकाई में आज राष्ट्रीय सेवा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *