Breaking News

बिहार :: आजादी के सात दशक बाद भी बुनियादी सुविधाओं के अभाव में दादपुर गांववासी

बेलागंज।गया।बेलागंज प्रखण्ड का दादपुर गांव आजादी के सात दशक गुजर जाने के बाद भी आज तक सड़क, स्वास्थ्य और शिक्षा जैसी बुनियादी सुविधाओं के अभाव में जिने को मजबुर है। प्रखण्ड मुख्यालय से पांच किलोमिटर की दुरी पर बसे इस गांव में स्वास्थ्य, शिक्षा तो दुर गांव में जाने के लिये एक अदद सड़क उपलब्ध नही होने के कारण गांव के लोगों को प्रखण्ड मुख्यालय, स्टेशन और मुख्य सड़क तक पहुंचने के लिये अठारह किलोमिटर घुम कर आना पड़ता है।बेलागंज प्रखण्ड मुख्यालय से दादपुर गांव की दुरी महज पांच किलोमिटर है। जिसमें चंदौती के रास्ते तीन किलोमिटर सड़क निर्मित है। महज दो किलोमिटर सड़क नही होने के कारण गांव के लोगों को उक्त दुरी के बदले अठारह किलोमिटर की दुरी तय कर मुख्यालय एवं बेला स्टेशन आना पड़ता है। दो हजार के आवादी वाले उक्त गांव में उपस्वास्थ्य केन्द्र तो है पर भगवान भरोसे। दो चार दिनों पर कोई एएनएम आकर उपस्थिति की खानापूर्ति कर जाती है। बिमार होने पर लोगो को कई किलोमिटर का सफर तय कर बेलागंज आना पड़ता है। इस परिस्थिति में गम्भीर बिमारी वाले मरीजों को जान भी गंवानी पड़ती है। शिक्षा के नाम पर गांव में एक बाबा जमाने का राजकिय विद्यालय तो है, मगर वहा पढ़ने वाले बच्चे और पढ़ाने वाले शिक्षक हमेशा कभी भी घटने वाली दुर्घटना के लिये आशंकित रहते है। विद्यालय की हालत इतनी जर्जर है कि उसकी छतों में दरारें पड़ गई है। विद्वालय के दरार भी क्षतिग्रस्त हो गये है। गांव की समस्या से कई बार प्रखण्ड से लेकर जिला मक के अधिकारी पदाधिकारीयों को अवगत कराया जा चुका है। पर कोई सार्थक परणाम नही मिला। सरकार एवं उनके अफसरसाहों को आड़े हाथ लेते हुये भुमिहार एकता मंच नवयुवक संघ दादपुर के सदस्यों ने सरकारी व्यवस्था के खिलाफ विरोधी विगुल फुकने के लिये तैयार हो गये हैं। सदस्यों ने बताया कि जर्जर विद्यालय भवन एवं सड़क की असुविधा के कारण गांव के छोटे-छोटे बच्चे गांव में स्कुल होते हुये भी पास के गांव में पढ़ना पसंद करते है। वहीं रात्रि के समय यदि किसी को गम्भीर बीमारी की समस्या होती है तो उन्हे जान तक गंवानी पड़ती है।

क्या कहते हैं ग्रामीण- भुमिहार एकता मंच के सदस्य अंजनी शर्मा का कहना है कि वर्तमान सरकार सवर्ण जाति के लोगो के साथ भेदभाव कर रही है। अपने गांव के समस्या से कई बार प्रखण्ड से लेकर जिला तक के वरिये अधिकारीयों को अवगत कराया जा चुका है। वहीं मंच के नव युवक संघ के सदस्य ब्रजेश शर्मा ने कहा कि गांव के विकास के लिये भुमिहार एकता मंच के बैनर तले प्रखण्ड से लेकर जिला समाहरणालय तक धरना प्रदर्शण किया जायेगा।

Check Also

WIT दरभंगा बने देश का पहला महिला आईआईटी, वैज्ञानिक डॉ. मानस बिहारी वर्मा को दें सच्ची श्रद्धाजंलि – पुष्पम प्रिया चौधरी

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट : डब्ल्यूआईटी को देश का पहला महिला आईआईटी के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *