Breaking News

बिहार :: पीएलएफआई का कुख्यात नक्सली सोनू सहयोगी के साथ धराया

वर्ष 2014 पटना अगमकुंआ बम ब्लास्ट का भी है आरोपी
व्यवसायियों में दहशत पैदा कर लेवी वसूलने का करता है काम

पकड़े गये नक्सली के साथ एसपी

बिहारशरीफ। नालंदा पुलिस ने प्रतिबंधित नक्सली संगठन पीएलएफआई का सक्रिय सदस्य सोनू को सहयोगी के साथ गिरफतार करने में सफलता प्राप्त की। नक्सलियों के पास से पुलिस ने एक देशी पिस्तौल, 2 जिंदा कारतूस, पौने चार किलोग्राम गांजा, 2 मोबाईल बरामद किया है। सोनू पर वर्ष 2014 मे पटना के अगमकुआ में बम ब्लास्ट का आरोप है और इस मामले में पूर्व में भी जेल जा चुका है। इसके अलावा हिलसा में व्यवसायियों पर हमला कर गोलीबारी करने और बम ब्लास्ट कर लेवी वसूलने का भी आरोप है। पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार पोरिका ने बताया कि एसटीएफ द्वारा सूचना दिया गया था कि पीएलएफआई उग्रवादी संगठन के कुख्यात उग्रवादी सेनू कुमार जो कि नालंदा जिला के थरथरी थाना के अमेरा गॉव का रहने वाला है वह हिलसा बाजार में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में है। इस मामले में पुलिस द्वारा त्वरित कारवाई की गयी और हिलसा के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी प्रवेन्द्र भ्ज्ञारती के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया जिसमें हिलसा थाना के पुलिस निरीक्षक रत्नकिशोर झा, राजकुमार यादव, शैलेंद्र कुमार, पलटू पासवान, नईमुददीन, को शामिल किया गया। सूचना के आधार पर हिलसा के बस स्टैंड के समीप से सोनू कुमार को पकड़ा गया। तलाशी के दौरान उसके पास से एक देशी पिस्तौल, 2 जिंदा कारतूस एवं दो मोबाईल को बरामद किया गया। सोनू से पूछताछ में बताया कि वह झारखंड के जंगल में जाकर पीएलएफआई के सुप्रीमो दिनेश गोप से मिले है। बिहार प्रमुख गणेश शंकर के निर्देश पर वर्ष 2014 में हिलसा सूर्य मंदिर के पास पर्चा फेंका था और कई घटनाओं को अंजाम दिया। गणेश शंकर द्वारा मोबाईल के निर्देश दिया गया था िक हिलसा बाजार स्थित परिवार वस्त्रालय, शिवम मेडिकल के पास बम ब्लास्ट एवं फायरिंग कर दहशत फैलाओं ताकि व्यवसायियों से पुनः लेवी की मांग कर लेवी वसूली की जा सके। साथ हीं साथ बिहार प्रमुख गणेश शंकर जो कि फिलहाल जेल में बंद है अपने जमानत के लिए रूपये की व्यवस्था हो सके। इसी क्रम में सोनू एवं उसके सहयोगी द्वारा बम ब्लास्ट किया जाना था। पुलिस द्वारा सोनू को पकड़े जाने के बाद उसने बताया कि वह अपने सहयोगी गोलू का इंतजार कर रहा है जिसके बाद जैसे हीं गोलू बस स्टैंड के समीप पहुंचा पुलिस ने उसे भी धर दबोचा। गोलू के पास से एक बैग में तीन किलो 700 ग्राम गांजा पकड़ा गया। पुलिस के अनुसार विगत कुछ वर्षों में नालंदा जिला के हिलसा एवं आसपास के क्षेत्र में पीएलएफआई संगठन द्वारा दस्तक दिया गया है और बिहार प्रमुख गणेश शंकर द्वारा अपने साथ द्वारा हिलसा बाजार में गोलीबारी की घटना भी की गयी। अनके व्यवसायियों से लेवी बगैरह की मांग की गयी थी। नालंदा पुलिस द्वारा विगत वर्षों में संगठन के कई सदस्यों को पकड़ने में कामयाब हुयी थी जिसका नतीजा था कि उक्त संगठन पर पूर्णतः अंकुश लगा और करीब एक वर्ष में इस संगठन द्वारा किसी भी घटना को अंजाम नहीं दिया जा सका।

Check Also

DMCH डाटा इंट्री कर्मचारियों को 4 माह से वेतन भुगतान नहीं, अस्पताल प्रबंधन की संवेदनहीनता – C.I.T.U.

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट : दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के विभिन्न वार्डों, रजिस्ट्रेशन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *