Breaking News

बिहार :: सेवा का सबसे उत्तम माध्यम शिक्षा है : बसंत

बखरी (बेगूसराय)/संवाददाता : उत्क्रमित उच्च विद्यालय घाघड़ा में राष्ट्रीय शिक्षा दिवस सह मौलाना अब्दुल कलाम आजाद जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संकुल समन्वयक संतोष कुमार ने कहा कि शिक्षा का उद्देश्य मनुष्य का संपूर्ण विकास करना और मानवता का भाव पैदा करना है। उन्होंने कहा कि समाज का वास्तविक सशक्तीकरण शिक्षा से ही संभव है। शिक्षा की बेहतरी के लिए समाज को और अधिक प्रयास की जरूरत है। कार्यक्रम का संचालन करते हुए शिक्षक वसंत कुमार ने कहा कि शिक्षा व्यवसाय-व्यापार न होकर सेवा का माध्यम होना चाहिए। श्री कुमार ने कहा कि शिक्षा के बल पर ही 21वीं सदी भारत की होगी। हमारी शिक्षा व्यवस्था इतनी मजबूत होनी चाहिए कि बच्चों को पास या फेल करने की जरूरत ही न पड़े। उन्होंने कहा कि हर बच्चे को उसकी रूची के हिसाब से शिक्षित किया जाना चाहिए, ताकि वह जीवन की हर परीक्षा में अव्वल आए। वर्तमान समय में शिक्षा का शोर ज्यादा है, परंतु गुणवत्ता कमजोर हो रही है। बस्ते ज्यादा भारी हो रहे हैं, शिक्षा उतनी हल्की हो रही है। शिक्षक सज्जन सदा एवं सरिता सिन्हा ने बच्चों को प्रेरित करते हुए कहा कि जिसके पास तालीम नहीं हो, उस इंसान का कोई महत्व नहीं। तालीम हासिल करने के लिए हमें हर संभव प्रयास करना चाहिए। मौके पर शिक्षक मो. गफ्फार, रामाशीष कुमार, अनिल महतों, मोला कुमारी, सुरेन्द्र सुधांशु, मो. तौसीफ आदि ने अपने विचार व्यक्त किए।

Check Also

अब दरभंगा शहरी क्षेत्र में प्रतिदिन टीकाकरण, नहीं होगी वैक्सीन की कमी – डीडीसी तनय सुल्तानिया

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट – कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बिहार में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *