Breaking News

बिहार :: 23 साल बाद कालेज के बैच मेट को याद आयी गढ़हरा की, गिरती व्यवस्था पर चिंता जताई

गढ़हरा (बेगूसराय) अरूण श्रीवास्तव : पूर्व मध्य रेलवे इंटर कालेज गढ़हरा से दर्जनों इंटर 1994 पास आउट बैच मेट रविवार को गढ़हरा पहुंचे। करीब 23 वर्षों बाद गढ़हरा आकर अपनी शिक्षा केंद्र को देख काफी मायूस हुए। बंगलोर सेंटर एयर फोर्स में कार्यरत उमा शंकर, मर्चेंट नेवी में कार्यरत अभय गिरी, गोपालगंज में चिकित्सा से जुड़े पंकज कुमार, मुम्बई फिल्म स्टूडियो से जुड़े गोपाल कुमार, दिल्ली में एचडीएफसी बैंक कर्मी आशुतोष मिश्रा, कोलकाता में होटल मैनेजमेंट से जुड़े सुनील कुमार, मानसी में संवेदक राकेश कुमार, स्काउट मास्टर कुंदन पांडे, बरौनी रेल में सीटीटीई विजेंद्र कुमार, रेलकर्मी प्रवीण कुमार, तनिशा एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड दिल्ली, कोलकाता के मैनेजिंग डायरेक्टर अनुज कुमार, शिक्षक रंजीत कुमार सिंह, जनप्रतिनिधि क्रमेंद्र कुमार, ब्लेक बेल्ट कराटे मास्टर कल्याण सिंह आदि शामिल हुए। इनका स्वागत नगर वार्ड पार्षद धर्मेंद्र कुमार सिंह, वरिष्ठ शिक्षक राजीव कुमार, पत्रकार प्रेम कुमार, अरुण श्रीवास्तव आदि ने किया। सभी पूर्ववर्ती छात्रों ने रेलवे कालोनी का भ्रमण किया। कालोनी में व्याप्त गंदगी, जंगल झाड़ी, जर्जर लिंक सड़कों, क्वार्टरों की स्थिति आदि को देख दुख व्यक्त किया। कहा पहले की व्यवस्था से काफी गिरावट आई है। कई अभिभावकों ने बताया कि अब पहले वाले शिक्षक रहे न छात्र। सभी करते हैं टाइम पास। कहा अब तो बिहार भारतीय रेल में इतिहास रचने वाला एशिया के धरोहर गढ़हरा में पूर्व शिक्षा ग्रहण कर देश के कोने-कोने में महत्वपूर्ण पदों पर कार्यरत दर्जनों छात्रों की टोली ने गढ़हरा का भ्रमण कर प्रथम शिक्षा केन्द्र इंटर कॉलेज, एशिया प्रसिद्ध इंडोर स्टेडियम, प्ले ग्राउण्ड एवं जिस आवास में रह कर अपने जीवन को नई दिशा दिया उसे देखकर सारे युवक भावुक हो उठे। उन्होंने कहा कि पूर्व की व्यवस्था और आज की स्थिति में गजब बदलाव है। जहां शिक्षा, स्काउट, खेल कूद के माध्यम से प्रतिवर्ष दर्जनों युवकों द्वारा देश में परचम लहराया जाता था आज वही गढ़हरा अपने भविष्य के लिए आंसू बहा रहा है। आपराधिक गतिविधि बढ़ने से चिंतित हुए। गढ़हरा ने बहुत आईएएस व आईपीएस दिया है। अभी भी गढ़हरा में मेधा है, केवल तरासने की जरूरत है। लोगों ने अगले साल गढ़हरा में आकर सामाजिक कार्यों में सहयोग करने का संकल्प लिया।

Check Also

WIT दरभंगा बने देश का पहला महिला आईआईटी, वैज्ञानिक डॉ. मानस बिहारी वर्मा को दें सच्ची श्रद्धाजंलि – पुष्पम प्रिया चौधरी

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट : डब्ल्यूआईटी को देश का पहला महिला आईआईटी के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *