मा0मुख्यमंत्री ने की संभावित बाढ़ एवं सुखाड़ हेतु की गयी तैयारियों की समीक्षा

1

दरभंगा, विजय भारती :- माननीय मुख्यमंत्री, बिहार श्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में संभावित बाढ़ एवं सुखाड़ से निपटने हेतु संबंधित विभाग एवं सभी जिला द्वारा की गयी तैयारी की समीक्षा बैठक की गयी।
  बैठक में आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव संजय कुमार अग्रवाल द्वारा बाढ़ एवं सुखाड़ हेतु की गयी तैयारी से अवगत कराया गया। भारतीय मौसम विज्ञान द्वारा बताया गया कि इस वर्ष 13 जून को पूर्णियाँ से मानसून का आगमन होगा।
  सचिव, आपदा प्रबंधन ने राहत सामग्री, पॉलिथिन शीट्स का दर निर्धारण एवं जिले में उपलब्ध नाव, नाविकों का भुगतान, तटबंधों पर कटाव निरोधक कार्य, तटबंधों का निरीक्षण हेतु स्थानीय श्रमिकों की प्रतिनियुक्ति, एन.डी.आर.एफ./एस.डी.आर.एफ. टीम की तैनाती, मानव दवा/पशु दवा एवं पशु चारा की उपलब्धता, सामुदायिक किचन की तैयारी, अनुग्रह अनुदान का शत्-प्रतिशत् भुगतान, सम्पूर्ति पोर्टल पर संभावित बाढ़ प्रभावित परिवारों की सूची का अद्यतीकरण, गृह क्षति, मृत पशुओं के लिए अनुग्रह अनुदान का शत्-प्रतिशत् भुगतान, शौचालय/चापाकल की व्यवस्था, अश्रय स्थल, शरण स्थली पर की गयी तैयारी, विगत वर्ष बाढ़ क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मति से संबंधित विस्तृत जानकारी पावर प्वाइंट प्रस्तुतीकरण के माध्यम से दी।
  कृषि विभाग के सचिव ने विगत वर्ष के फसल क्षति के लिए असंचित/संचित क्षेत्र के फसल क्षति मुआवजा राशि का शत-प्रतिशत भुगतान, आकस्मिक फसल योजना, डीजल अनुदान, बढ़ में रह गए परती खेत के लिए अनुदान राशि का भुगतान की स्थिति से अवगत कराया।
  पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग ने पशुओं के लिए उपलब्ध दवा, पशुचारा की उपलब्धता, नाद (केटल ट्रफ) की व्यवस्था, मृत पशुओं के लिए अनुदान के लिए की गई व्यवस्था से मा0 मुख्यमंत्री को अवगत कराया।
  सचिव, जल संसाधन विभाग द्वारा नदियों को पूर्णजीवित करने, नदियों को जोड़ने, नदियों से गाद हटवाने, नदियों के पुल/पुलिया के भेण्ट की सफाई करवाने, तटबंधों की मरम्मति एवं कटाव निरोधक कार्य की तैयारी, तटबंधों की निगरानी हेतु स्थानीय श्रमिकों की व्यवस्था से मा0मुख्यमंत्री को अवगत कराया।
  सचिव, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग द्वारा चापाकल की मरम्मति, बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों में चापाकल एवं शौचालय की व्यवस्था, सुखा ग्रस्त क्षेत्र में पेयजल हेतु टैंकर की व्यवस्था से अवगत कराया।
  इसके उपरान्त सभी जिलाधिकारी से उनके जिलें की तैयारी के संबंध में फीडबैक लिया गया। एन.आई.सी., दरभंगा से जिलाधिकारी राजीव रौशन ने बताया कि दरभंगा जिले में बाढ़ राहत सामग्री, पॉलिथीन शीट्स, पशुचारा के लिए दर का निर्धारण कर लिया गया है।
  दरभंगा प्रमण्डल के नोडल जिला होने के नाते पॉलिथीन शीट्स की व्यवस्था नये निर्देश के आलोक में कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि दरभंगा में 198 सरकारी नाव हैं, जिनकी मरम्मति का कार्य पूरा कर लिया गया है तथा 468 निजी नाव हैं, जिनके नाविकों के साथ एकरारनामा कर लिया गया है।
  उन्होंने कहा कि दरभंगा में किसी भी नाविक का भुगतान बकाया नहीं है। बताया कि विगत वर्ष जो सामुदायिक किचन चलाया गया था, उनका भी भुगतान कर दिया गया है। विगत वर्ष के शत्-प्रतिशत बाढ़ प्रभावित परिवारों के अनुग्रह अनुदान की राशि का भुगतान उनके खाते में कर दिया गया है। सम्पूर्ति पोर्टल पर लाभुकों की सूची अद्यतन किया जा रहा है, जो 01 सप्ताह में पूर्ण करा लिया जाएगा।
  उन्होंने कहा कि तटबंधों का संयुक्त निरीक्षण प्रशासनिक पदाधिकारी एवं तकनीकी पदाधिकारी द्वारा किया गया है। एस.डी.आर.एफ. के आवासन की व्यवस्था के लिए स्थल चिन्ह्ति कर प्रस्ताव भेज दिया गया है।
  उन्होंने कहा कि वांछित 21 प्रकार की पशु दवा उपलब्ध हैं। साथ ही सभी आवश्यक मानव दवाएँ उपलब्ध हैं। जिला प्रशासन द्वारा एस.ओ.पी. के अनुसार संभावित बाढ़ से निपटने की पूरी तैयारी है।
  बैठक को सम्बोधित करते हुए माननीय मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष 01 जून से ही सब जगह सचेत रहना है। सभी जिले के प्रभारी मंत्री सिंचाई, लघू सिंचाई, परिवहन के लिए किये गये कार्यों का फीडबैक स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक कर जानकारी प्राप्त कर लें, कि काम हुआ है या नहीं।
  उन्होंने जल-जीवन-हरियाली अभियान के अन्तर्गत सोख्ता के निर्माण कार्य की समीक्षा भी कर लेने को कहा, क्योंकि यही जल को रिचार्ज करता है। साथ ही जहाँ भी लोग प्रभावित हो, वहाँ उन्हें सहायता करने तथा सचेत रहने का निर्देश दिया गया।
      इसके साथ ही प्रभावित बाढ़ग्रस्त क्षेत्र के सुधार के लिए जो कार्य करना था, वह हो पाया कि नहीं। राहत प्रदान करने में कोई वंचित तो नहीं रह गया है, यदि कोई रह गया है, तो उन्हें भी राहत उपलब्ध करा दिया जाए।
  उन्होंने जून माह से अक्टूबर माह तक सभी को सचेत रहने का निर्देश दिया। साथ ही विगत वर्ष बाढ़ सहायता हेतु जो कार्य किये गये, तदनरूप पुनः मजबूती के साथ कार्य करने का निर्देश दिया।
  बैठक में दोनों माननीय उप मुख्यमंत्री, सभी माननीय मंत्री, मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक, सभी संबंधित विभाग के अपर मुख्य सचिव/प्रधान सचिव/सचिव, सभी प्रमण्डलीय आयुक्त, सभी पुलिस महानिरीक्षक/उप पुलिस महानिरीक्षक, जिलाधिकारी एवं वरीय पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक उपस्थित थे।
  दरभंगा एन.आई.सी. से आयुक्त, दरभंगा प्रमण्डल श्री मनीष कुमार, पुलिस महानिरीक्षक, मिथिला प्रक्षेत्र ललन मोहन प्रसाद, जिलाधिकारी राजीव रौशन, वरीय पुलिस अधीक्षक अवकाश कुमार, आयुक्त से सचिव देवेन्द्र प्रसाद तिवारी, अपर समाहर्त्ता विभूति रंजन चौधरी, उप निदेशक, जन सम्पर्क नागेन्द्र कुमार गुप्ता, प्रभारी पदाधिकारी आपदा प्रबंधन सत्यम सहाय एवं अन्य संबंधित पदाधिकारीगण उपस्थित थे।