Breaking News

बिहार :: स्थापना दिवस पर एलएनएमयू में ‘मुफ्त स्वास्थ्य जाँच शिविर’ का हुआ आयोजन

दरभंगा : ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय की स्थापना दिवस पर ‘मुफ्त स्वास्थ्य जाँच शिविर’ का आयोजन किया गया। जिसका उद्घाटन कुलपति प्रो. सुरेन्द्र कुमार सिंह ने किया। शिविर में डॉ. गीतेन्द्र ठाकुर और डॉ. नूतन राय ने स्वास्थ्य परीक्षण किया जबकि दवा कंपनी माईक्रो नोवा डिविजन द्वारा मुफ्त जाँच की व्यवस्था करायी गई।

शिविर को संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. सुरेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि बराबर मधुमेह तथा रक्त चाप की जाँच कराते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज मनुष्य की जिन्दगी दौड़ भाग की हो गयी है। इसमें कोई समय सारणी नहीं रह गया है। नतीजा है कि मधुमेह तथा रक्त चाप से अधिकांश व्यक्ति पीड़ित हैं। वर्त्तमान में मधुमेह पीड़ित मरीजों के मामले मे भारत विश्व में दूसरे स्थान पर है। पूर्व में यह पहले स्थान पर था। वर्त्तमान में चीन ने इस मामले में भारत को पीछे छोड़ दिया है। आंकड़ों के अनुसार वर्त्तमान में भारत में 62 मिलियन मरीज है। अनुमान है कि 2035 तक यह दर बढ़ कर 109 मिलियन मरीज होने का अनुमान है। ऐसी स्थिति में हर व्यक्ति को नियमित रूप से जाँच कराते रहना चाहिए। साथ ही नियमित दिनचर्या अपनाने की जरूरत है। भोजन में कम कैलोरी तथा कम वसा युक्त भोजन का सेवन करना चाहिए। साथ ही नियमित व्यायाम एवं नियमित जीवन चर्या का पालन करें।
उन्होंने कहा कि भारत में वर्त्तमान में 29.8 पफीसदी व्यक्ति रक्तचाप से पीड़ित है। ग्रामीण क्षेत्रों में रक्तचाप पीड़ितों की संख्या 27.06 फीसदी है। वहीं शहरी क्षेत्रों में 33.8 फीसदी लोग रक्तचाप बीमारी से पीड़ित है। उन्होंने कहा कि क्षेत्रावार भी रक्तचाप के मरीजों की संख्या अलग-अलग है उत्तरी भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में 14.05 फीसदी तो दक्षिणी भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में 21.01 फीसदी लोग रक्त चाप से पीड़ित हैं। उत्तरी भारत के शहरी क्षेत्रों में 28.08 फीसदी वही दक्षिणी भारत के शहरी क्षेत्रों में 31.8 फीसदी लोग रक्तचाप से पीड़ित हैं। उन्होंने कहा कि मधुमेह तथा रक्त चाप बीमारी का ईलाज का दर काफी कम है। जबकि दोनों बिमारी का ईलाज से नियंत्रण पाया जा सकता है। लेकिन ईलाज के प्रति लोगों के जागरूकता का अभाव है। ग्रामीण क्षेत्रों में पीड़ित लोगों में मात्र 25 फीसदी मरीज ईलाज कराते हैं। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में 38 फीसदी लोग ईलाज कराते हैं। 

इस अवसर पर कुलसचिव डॉ. मुस्तफा कमाल अंसारी ने कहा कि विश्वविद्यालय आम लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता के लिए इस तरह के शिविर बराबर लगाती है। जिसमें मधुमेह, ब्लड ग्रुप, हेपेटाइटिस – बी, एच.आई.वी. टेस्ट, रक्त चाप, ई.सी.जी., सामान्य जाँच, स्त्री रोग से संबंधित जाँच मुफ्त कराया जाता है। ताकि आमलोगों का स्वास्थ्य अच्छा रहे। शिविर में प्रो. ए.के. बच्चन, प्रो. एन.के. अग्रवाल, प्रो. विनय कुमार चौधरी, डॉ. के.के. साहु, संतोष कुमार आदि ने भी अपने-अपने स्वास्थ्य का मुफ्त परीक्षण कराया।

Check Also

दो दिवसीय किसान मेला का आज हुआ समापन

दरभंगा, सुरेन्द्र चौपाल :- संयुक्त कृषि भवन, बहादुरपुर के प्रांगण में दो दिवसीय किसान मेला …