Breaking News

उ०प्र० :: हर तरफ है बदहाली का बोलबाला, सिफारिशी राजनीति के आगे बेदम होती विकास की बातें

कई बड़े-बड़े मजरे भी पक्की सड़क से महरुम है ना तो पानी के निकास की अच्छी व्यवस्था है और ना ही पक्की नालियां बनी हुई है यूं तो सफाई कर्मी हर जगह कागजों में नियुक्त है लेकिन सफाई का कार्य कभी नहीं होता है सबसे बुरा हाल यह है कि भूमाफियाओं का क्षेत्र की उपजाऊ चारागाह की जमीनों पर नजर है लोगो को लालच देकर यहां के भोले-भाले ग्रामीणों को उपजाऊ जमीन ओने पौने दामों में खरीद कर प्लाटिंग की जा रही है राजस्व से जुड़े कुछ अधिकारियों और पुलिस की सह पर ग्राम समाज की जमीन पर भी वह माफियाओं का अवैध कब्जे का कुचक्र रचा जा रहा है संपूर्ण स्वच्छता अभियान का खूब दावा किया जाता है मीडिया में बड़े-बड़े विज्ञापन छापे जाते हैं स्वच्छ शौचालय बनाने की बात कही जाती है लेकिन सरकारी जटिलताओं से किया काम केवल विज्ञापनों में ही दिखता है बख्शी का तालाब विधानसभा क्षेत्र में 80 प्रतिशत गांवों में स्वच्छ शौचालय नहीं बने हैं जहां बने भी हैं वहां सिफारिशी राजनीति का बोल बाला है अपराधों का भी पूरे क्षेत्र में बोल बाला है थानों में भी रसूखदारों की ही सुनी जाती है उनके इशारों पर पुलिसिया कार्यवाई देखने को मिलती है गरीबों की तो मुकदमा दर्ज कराने में ही पूरा दम निकल जाता है साफ सफाई का भी बुरा हाल है ना तो सड़के ठीक से हैं और नहीं इनके बगल में नालियां ही ठीक से बनी हुई हैं सड़कों पर नालियों का गंदा पानी फैला रहता है जो संक्रमण बीमारियों की वजह बनता है विकास की बात करें तो हर गांव में अंडर ग्राउंड नालियां बननी चाहिए ताकि गंदा पानी बाहर न रहे और बीमारियों से बचा जा सके लेकिन बख्शी का तालाब क्षेत्र में लगभग 90 प्रतिशत गांव में यह सुविधा मुहैया नहीं है सफाई कर्मी प्रधान और ग्राम पंचायत अधिकारियों से मिलीभगत कर काम पर आते ही नहीं गांव में अगर ग्रामीण खुद न सफाई करे तो सरकार की महत्वाकांक्षी योजना का पतीला लगना तय है कहीं कोई जवाबदेही नहीं दिखती

Check Also

इंतजार खत्म ! आ गया नगर निगम चुनाव की नई तारीख, देखें शेड्यूल…

डेस्क : बिहार राज्य निर्वाचन आयोग ने निकाय चुनाव का शेड्यूल जारी कर दिया है। …