Breaking News

शहर में हुए कत्ल केसो को सुलझाने में जालंधर पुलिस हुई सुस्त !

जालंधर (ब्यूरो) : लोगों के साथ सांझ बढ़ाने में लगी कमिश्नरेट पुलिस लोगों को तो जागरूक करने में लगी है। लेकिन शहर के 4 चर्चित केसों को हल करने में खुद जागरूक नहीं लग रही।शहर में हुए ऐसे केस जिन पर मीडिया और आम लोगों की निगाहें टिकी हुई हैं लेकिन ये केस हैं जो ऐसे प्रतीत हो रहा है जैसे इस मामले को ठंडे बस्ते में डाला जा रहा है।शहर का चर्चित किडनी कांड जोकि आम लोगों को भी पता है कि इसमें कौन- कौन अपराधी है लेकिन पुलिस इस में ज्यादा दिलचस्पी क्यों नहीं दिखा रही क्या हाई प्रोफाइल लोगों से जुड़े होने के कारण पुलिस इसमें गति पकड़ती दिखाई नहीं दे रही। दूसरी तरफ आम लोगों से करोड़ों की ठग्गी मारने वाला रॉयल एजुकेशन के गगनदीप का मामला जिसने विदेश भेजने के नाम पर लोगों से करोड़ों रुपए ठग्ग लिए थे जिक्रयोग है कि गगनदीप का एक उच्च पुलिस अधिकारी के साथ सांठ-गाँठ होने के कारण ठंडे बस्ते में डाल दिया गया प्रतीत हो रहा है।तीसरा मामला कुछ महीने पहले शहर के बीचोबीच पुलिस फ्लैग मार्च के 100 क़दमों की दूरी पर हुए हाई प्रोफाइल बिल्ला मर्डर केस जिसमे पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार तो किया है लेकिन साबित कुछ नहीं कर पाई।चौथा मामला बच्चों की खरीद-फरोख्त का भी शहर में काफी चर्चित है।पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार इस मामले में एक बच्चे को अलग-अलग मूल्य पर 6 जगहों बेच दिया गया मगर वो बच्चा आज तक पुलिस बरामद नहीं कर पाई इसी तरह इस मामलें में दर्जनों बच्चे बेचे जाने की चर्चा होने के बावजूद भी पुलिस इस मामले को ठंडे बस्ते में डालने की तैयारी में है।किडनी कांड और बच्चों के खरीद-फरोख्त मामले को सामने लाने वाले थाना प्रभारी का तबादला भी इसी तरफ इशारा कर रहा है कि ये मामले हाई प्रोफाइल लोगों से जुड़े हुए हैं।पुलिस आम लोगों को जागरूक कर रही है कि वह पुलिस का साथ दें लेकिन बच्चों के खरीद-फरोख्त के मामले को सामने लाने वाले ह्यूमन राईट प्रोटेक्शन फ्रंट के राष्ट्रीय प्रधान राजीव शर्मा को इस मामले से दूर रहने के लिए जान से मार दिए जाने की धमकियाँ मिल रही है।इन सब को देखते हुए आम जनता कैसे पुलिस का साथ देने के लिये आगे आएगी।अब तो आम लोगों की ज़ुबान पर यही आ रहा है कि पुलिस क्यों इन मामलों में गति नहीं पकड़ रही।

Check Also

अब दरभंगा शहरी क्षेत्र में प्रतिदिन टीकाकरण, नहीं होगी वैक्सीन की कमी – डीडीसी तनय सुल्तानिया

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट – कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बिहार में …