Breaking News

आमजनों पर फिर महँगाई भारी !

(उ०स० डेस्क) :मोदी सरकार के लगातार प्रयासों के बाद भी महँगाई पर काबू पाने में केंद्र की नीति विफल नजर आ रही है.यूँ तो सरकार आमजनों के हितों की बात करती है वहीं आमजनों के लिए सबसे बड़ी समस्या महँगाई की मार है और महँगाई हमेशा से ही तेल के दरों पर निर्भर करती है. तेल के दामों के बढ़ने और घटने से महँगाई घटती और बढ़ती है.
सितंबर महीने की पहली तारीख से आम आदमी को महंगाई का झटका लगने वाला है. पेट्रोल के दाम में 3.38 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत में 2.67 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी कर दी गई है. नई कीमतें आधी रात से लागू कर दी गई.


लगातार कई कटौती के बाद बढ़ोतरी 

इसके पहले 15 अगस्त को पेट्रोल के दाम में 1 रुपये लीटर और डीजल के दाम में 2 रुपये लीटर की कटौती की गई थी. जबकि 30 जुलाई को भी तेल कंपनियों ने समीक्षा के बाद पेट्रोल के दाम में 1.42 रुपये लीटर और डीजल के दाम में 2.01 रुपये लीटर की कटौती की थी.

तेल की कीमतों की समीक्षा के बाद ऐलान

गौरतलब है कि देश में तेल कंपनियां हर 15 दिन में पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों की समीक्षा करती हैं. इसके बाद अंतरराष्ट्रीय क्रूड के दामों के आधार पर घरेलू तेल कीमतों में बदलाव करती हैं. जिसके बाद लगातार कटौती के बाद दामों में इजाफा किया गया है.

Check Also

बिहार पोलिटेक्निक प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन आज से शुरू

डेस्क। बिहार संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा बोर्ड (बीसीईसीईबी) ने बिहार पॉलिटेक्निक प्रवेश परीक्षा के लिए …

पद से हटाए गए रमौली मुखिया उगन झा, निर्वाचन आयोग ने दोहरे पद पर लाभ को लेकर की कार्रवाई

डेस्क। राज्य निर्वाचन आयोग ने दोहरे लाभ के पद पर पदस्थापित रहने के कारण रमौली …

सांई झूलेलाल जन्मोत्सव सह सिन्धी मातृभाषा दिवस के अवसर पर दरभंगा में संगोष्ठी आयोजित

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट दरभंगा। सांई झूलेलाल जन्मोत्सव सह सिन्धी मातृभाषा दिवस के …