Breaking News

बुलंदशहर हिंसा: पुलिस की शुरुआती जांच में खुलासा, जानिए क्यों हुआ बवाल

बुलंदशहर हिंसा: पुलिस की शुरुआती जांच में खुलासा, जानिए क्यों हुआ बवाल

राज प्रताप सिंह(उत्तर-प्रदेश राज्य प्रमुख)

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में तब्लीगी इज्तमा के दिन गोकशी पर बवाल कराना एक बड़ी साजिश हो सकती है। पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों की जांच में ये बात सामने आई है। अधिकारियों का कहना है कि जब वे मौके पर पहुंचे तो खेत में दिखावे के लिए गाय के अवशेष जगह-जगह लटका रखे थे।

ऐसा लग रहा था जैसे कोई माहौल को भड़काने की साजिश रच रहा है। गोकशी की सूचना पर सबसे पहले पहुंचने वाले अधिकारियों और पुलिस सहित ग्रामीणों के भी बयान दर्ज किए गए हैं।

बुलंदशहर हिंसा: पुलिस की शुरुआती जांच में खुलासा, जानिए क्यों हुआ बवाल

महाव गांव में घटनास्थल पर पहुंचने वालों में सबसे पहले प्रशासनिक अधिकारियों में स्याना तहसीलदार राजकुमार भास्कर थे। उनका कहना है कि ईख के कई खेतों में गोवंश कटान कर रखा था। गाय के सिर और खाल आदि अवशेष गन्ने पर लटका रखे थे जो दूर से ही दिख रहे थे।

उनका कहना है कि यदि कोई व्यक्ति गोकशी करेगा तो वह अवशेषों को इस तरह से नहीं लटकाएगा। आरोपी यही चाहेगा कि किसी को इस बात का पता नहीं चले। ऐसे में अधिक संभावना यही है कि सिर्फ माहौल को भड़काने के लिए गोकशी की गई हो।

तहसीलदार ने बताया कि भीड़ में शामिल कुछ लोगों ने गाय के अवशेष ट्रैक्टर-ट्रॉली में भर लिए। वे ट्रैक्टर-ट्रॉली को बुलंदशहर-गढ़मुक्तेश्वर स्टेट हाईवे की तरफ ले जाना चाह रहे थे। तहसीलदार ट्रैक्टर-ट्रॉली के आगे खड़े हो गए। भीड़ को शांत करने का अनुरोध किया, पर वे नहीं माने। भीड़ ने किसी की मान-मनौव्वल नहीं सुनी और ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर हाईवे पर चिंगरावठी पुलिस चौकी के सामने पहुंच गई। यहां पर भीड़ ने बवाल करना शुरू कर दिया।

बुलंदशहर एसएसपी केबी सिंह ने बताया कि मौके पर पहुंचने वाले सभी पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों, पुलिसकर्मियों और ग्रामीणों के बयान दर्ज किए जा रहे हैं। शुरुआती माहौल जानने की कोशिश की जा रही है। माहौल भड़काने वालों पर रासुका जैसी गंभीर कार्रवाई की जाएगी।

क्या है पूरा मामला

थाना कोतवाली क्षेत्र के गांव महाव के जंगल में रविवार की रात अज्ञात लोगों ने करीब 25-30 गोवंश काट डाले। गोवंश काटने की सूचना मिलने पर कई हिन्दू संगठनों सहित अन्य लोगों में आक्रोश फैल गया। गुस्साए लोग घटनास्थल पर पहुंचे और गोवंश के कटे अवशेषों को ट्रैक्टर ट्रॉली में भरकर चिंगरावठी पुलिस चौकी पर पहुंचे और पुलिस पर पथराव करना शुरू कर दिया।

पुलिस ने भी जवाब में फायरिंग की, जिसमें सुमित नाम के युवक की गोली लगने से मौत हो गई। इसके बाद बेकाबू भीड़ ने पुलिस के कई वाहन फूंक दिए और चिंगरावठी पुलिस चौकी में आग लगा दी। भीड़ ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को जमकर पीटा जिनकी अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई।

पढ़ें यह भी खबर

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की स्लीपर बस का किराया होगा महंगा

यूपी : शहरों में जल्द दौड़ेंगी इलेक्ट्रिक सिटी बसें

युवती से छेड़छाड़ के बाद जिंदा जलाने के प्रकरण में एसओ तम्बौर निलम्बित, एक आरोपी गिरफ्तार

धार्मिक मुद्दे उछाल कर विकास के मुद्दों से ध्यान भटकाना है भाजपा का उद्देश्य: अखिलेश यादव

नोटबंदी में कतार में जन्मे खजांची नाथ से मिलने पहुंचे अखिलेश को मिली निराशा

अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स मे जरूर लिखें

Check Also

डॉ मशकूर उस्मानी ने निभाया वादा, अंजली बिटिया की पढ़ाई शुरू जाने लगी कांवेंट स्कूल

डेस्क : बीते माह जाले के ब्राह्मण टोली में रहने वाली चंचल झा नाम की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *