Breaking News

बचा लो हिंदुस्तान, मुंबई में फंसी है एक बेबस इंसान की जान 

IMG-20170220-WA0002-640x360उ०स० डेस्क (अभिषेक कुमार की रिपोर्ट):: ये कैसी सरकारें, न नीति है न नियत,  मदद के लिए आम आदमी किन्हें पुकारे

-25 लाख के लिए ग्लोबल हॉस्पिटल में मोतिहारी के रूपेश की जिंदगी गिरवी

-न सीएम सुन रहे न पीएम, बालीवुड स्टार सलमान की वीईंग ह्यूमन एनजीओ से भी नाउम्मीदी

-केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह के गृह जिले के निवासी का सरकार में नहीं कोई मददगार

मोतिहारी।बिहार में कोई शराब तो कोई दिल्‍ली में नोटबंदी का जश्‍न मन रहा हैा दिखावे के शोर में इंसानी चीखें दबकर रह गई हैं। बिहार के रूपेश का दर्द देखकर तो कम से कम ऐसा ही प्रतीत होता है। बिहार के मोतिहारी शहर का रहने वाला रूपेश मुंबई के ग्लोबल हॉस्पिटल में मौत से जंग लड़ रहे हैं। उनका लिवर ट्रांसप्लांट होना हैा घर की माली हालत अत्यंत खराब है। बचे-खुचे पैसे अब तक के इलाज में खर्च हो चुके हैं। लिवर ट्रांसप्लांट में डॉक्‍टरों ने 25 लाख रुपये चार्ज किया है। इतनी मोटी रकम कहां से आएगी परिवार के लोग इतने से ही बेचैन हैं। उधर, गरीबों का हमदर्द कहलाने का दिखावा करने वाली पटना और दिल्‍ली की सरकारों का इस मामले में असली चेहरा सामने आ जाता है। केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह के गृह जिले के निवासी रूपेष और उनके परिवार को कम से कम केंद्र से मदद की आस थी लेकिन कहीं कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही। हालातों का मारा रूपेश और उसका परिवार सरकारी मदद की आस छोड़ अब हिंदुस्‍तान से गुहार लगा रहा है। इस बदनसीब इंसान की बेबसी और लाचारी सिस्टम पर करारा चोट करती है। इलाज के बगैर किसी को नहीं मरने देने का भरोसा दिलाने वाले रहनुमाओं की नियत और नीतियां इससे परिलक्षित होती हैं। भारत जैसे देश के लिए यह बडा सवाल है। नोटबंदी के इस दौर में इंसानी जान की कीमत क्या इतनी सस्ती हो गई है…?

कहां-कहां न लगाई गुहार, राह ताकता रह गया परिवार

20170220_191941

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, विधानसभा अध्यक्ष विजय चौधरी समेत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह, वित मंत्री अरूण जेटली, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा और पीएमओ कार्यालय के अलावा फिल्म स्टार सलमान खान और उनकी संस्था वीईंग, ह्यूमन, अक्षय कुमार, आमिर खान और उद्योगपति मुकेश अंबानी से भी मदद की गुहार लगाई है। कहा है कि फैमिली बहुत ही गरीब है तथा आपरेशन कराने में असमर्थ है। इस फैमिली को आप सबकी मदद की बहुत जरूरत है।

 क्रॉनिक लीवर डिजीज से ग्रस्त हैं रूपेश पांडेय

20170220_191919

मोतिहारी के रहने वाले 41 वर्षीय रूपेश पांडेय को क्रॉनिक लिवर डिजीज है। यह बीमारी हेपेटाइटिस बी से संबंधित है। वे मुंबई के ग्लोबल हॉस्पिटल में एडमिट हैं। वहां के डिपार्टमेंट आफ हेपटोलॉजी के हेड डॉ. समीर आरशाह ने अविलंब लिवर ट्रांसप्लांट की एडवाइस दी है। कहा है कि मरीज की जान बचाने के लिए लिवर ट्रांसप्लांटेशन ही एकमात्र विकल्प है। लिवर ट्रांसप्लांटेशन में 25 लाख से अधिक रूपये खर्च बताया है।

 

अपने परिवार में इकलौता अर्निंग पर्सन हैं रूपेश

रूपेश की पत्नी जूली के मुताबिक वह घर के इकलौते कमाउ मेंबर हैं। उन्हीं पर सारा दारोमदार है। उनके बीमार रहने से आय के साधन तो पहले ही बंद हो गए हैं, उपर से घर की जमा पूंजी भी हाथ से निकल गई है। परिवार वाले बिहार से लेकर मुंबई तक इलाज करा कर थक चुके हैं। घर की आर्थिक स्थिति अत्यंत खराब है। अब तक के इलाज में ही सारे पैसे खत्म हो गये हैं। यहां तक सगे-संबंधियों से कर्ज लेकर भी इलाज कराया गया है। अब कोई कर्ज देने को तैयार नहीं। नोटबंदी के इस दौर में घर की जमीन-जायदाद बिकने से रही। ऐसे में लिवर ट्रांप्लांटेशन के लिए कहां से 25 लाख रुपये आएंगे।
सरकारें नहीं पिघलीं….क्या आप…..छोटी मदद बचा सकती है जिंदगी

IMG-20170220-WA0001

लिवर ट्रांसप्लांट में आप रुपेश की मदद करना चाहते हैं, तो यहां कर सकते हैं संपर्क

Mukesh Kumar

Muhalla- Ambika Nagar, Motihari

District : East champaran, Motihari-845401(Bihar)

P.S-Banjariya, P.O-Motihari

मो. न. 09470285969, 07004468536, 09155170378

E-mail : [email protected]

आप अपना सहयोग भारतीय स्टेट बैंक के इस अकाउंट में जमा करा सकते हैं.

SBI A/c No : 33108922781 IFSC Code : SBIN0008960

Check Also

खुशखबरी :: 8300 पीटी शिक्षकों की शीघ्र होगी भर्ती, बिहार के शिक्षा मंत्री ने किया ऐलान

डेस्क : बिहार में शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने विधानसभा में कहा कि 8300 …