Breaking News

चोटी कटवा :: दरभंगा में स्कूली छात्रा की कटी चोटी, अंधविश्वास में डूबे परिजनों ने कराया झाड़ फूंक

दरभंगा : बिहार के कई जिलों में महिलाओं की चोटी कटने की खबर के बीच ताजा मामला दरभंगा से है। अशोक पेपर मिल थाना क्षेत्र के राजकीय मध्य विधालय आनंदपुर में एक छात्रा की चोटी कटने की घटना सामने आई है। दिनदहाड़े घटी इस घटना को अंधविश्वास एवं चोटी कटवा गिरोह के इलाके में सक्रिय होने की अफवाह को लेकर दिनभर चर्चा होती रही। घटना के बाद अन्य महिलाओं में भय भी देखा जा रहा है।

आज भी अंधविश्वास व जादू टोने पर विश्वास रखने वालों की कमी नहीं है। ऐसे ही अंधविश्वास की एक घटना दरभंगा जिले के अशोक पेपर मिल थाना क्षेत्र के राजकीय मध्य विधालय आनंदपुर में देखने को मिली । दरअसल मंगलवार को स्कुल खुलने के बाद अकबरपुर निवासी मो. अशफाक की 14 वर्षीय पुत्री यासीन प्रवीण उर्फ़ नगमा उमर स्कुल पहुंची और अचानक उसने अपनी तबियत ख़राब होने के साथ साथ बाल काटने की बात कहने लगी , देखते ही देखते यह बात पुरे इलाके में आग की तरह फैल गई । हाँलाकि छात्रा के द्वारा जैसे ही बाल काटने की बात कही गयी , वैसे ही स्कुल के प्राचार्य ने अंधविश्वास को खत्म करने के लिए स्कुल परिसर साथ साथ यासीन प्रवीण के घर के रास्तो पर कटे बाल को खोजवाया , लेकिन बाल कही नहीं मिला। लेकिन स्कुल के शिक्षक मो रहमतुल्ला ने इस बात को मिडिया के सामने कबूल किया की यासीन प्रवीण के बाल थोड़े से कटे हुए थे। जैसे ही इस बात की जानकारी यासीन के परिजन को लगी , वो लोग बिना समय बिताये स्कुल पहुंचे और यासीन को अपने साथ घर ले आये और रास्ते में मोलबी से झाड़ फूंक करवाया। वही यासीन के परिजन मो इरफ़ान का कहना है की झाड़ फूंक के बाद उसकी तबियत में सुधार हुआ था , लेकिन स्थिति फिर से बिगड़ती जा रही है। बहरहाल मामला जो भी हो अशोक पेपर मिल थाना क्षेत्र के राजकीय मध्य विधालय आनंदपुर में घटी घटना को अंधविश्वास एवं चोटी कटवा गिरोह के इलाके में सक्रिय होने की अफवाह को लेकर दिनभर चर्चा होती रही। घटना के बाद अन्य महिलाओं में भय भी देखा जा रहा है। 

इस संबंध में अशोक पेपर मिल थानाध्यक्ष दिलीप पाठक थाना ने बताया कि उन्होंने खुद घटनास्थल पर पहुंच कर मामले की जांच की , लेकिन इस घटना से संबंधित कोई भी साक्ष्य उन्हें नहीं मिला है। इस तरह के मामले को लेकर पुलिस सक्रिय है और अफवाह फैलाने वाले ऐसे लोग बख्शे नहीं जाएंगे।

ऐसी अप्रत्याशित घटनायें आमतौर पर अफवाह ही लगती हैं मगर जिस तरह से लोग दावे कर रहे हैं। भुक्तभोगी महिलायें अपनी आपबीती सुना रही हैं उस के बाद लोग इन पर यकीन कर खौफ के साये में हैं। चोटी से बाल कटने के पीछे का रहस्य गहराता जा रहा है।

हमारा उद्देश्य किसी अफवाह या भ्रामक खबर को बढावा देना अथवा प्रचार प्रसार कर लोगों को भयभीत करना नहीं है बल्कि इन खबरों के पीछे के सच की पड़ताल कर वास्तविकता को सामने लाना है – स्वर्णिम टाईम्स

Check Also

दर दर की ठोकरे खा रहे बुजुर्ग, नही हो रहा विश्वविद्यालय थाना में एफआईआर दर्ज

मामले को अकिंत करने के बजाय उलझाने में लगे है विश्वविद्यालय थाना दरभंगा। विश्वविद्यालय थाना …